होम »  डायबिटीज »  Diabetes During Pregnancy: गर्भावस्था में डायबिटीज की वजह, टेस्ट और बचाव

Diabetes During Pregnancy: गर्भावस्था में डायबिटीज की वजह, टेस्ट और बचाव

World Diabetes Day 2018: चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि अगर महिला डायबिटीज से पीड़ित है और अगर उसकी डायबिटीज कंट्रोल में नहीं है, तो मां और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. इसके कारण गर्भपात हो सकता है.

Diabetes During Pregnancy: गर्भावस्था में डायबिटीज की वजह, टेस्ट और बचाव

खास बातें

  1. Diabetes during pregnancy can increase the risk of autism in the kids
  2. Gestational diabetes typically crops up during the mid of pregnancy
  3. Obesity affects your risk of developing gestational diabetes

World Diabetes Day 2018: चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि अगर महिला डायबिटीज से पीड़ित है और अगर उसकी डायबिटीज कंट्रोल में नहीं है, तो मां और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. इसके कारण गर्भपात हो सकता है. विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसी स्थिति में अगर जन्म लेने वाले बच्चे का आकार सामान्य से बड़ा है तो सी-सेक्शन आवश्यक हो जाता है. इसके अलावा बच्चे के लिए जन्मजात विकृतियों की आशंका बढ़ जाती है. मां और बच्चे दोनों के लिए संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है.

गर्भावस्था में डायबिटीज की समस्या

विश्व मधुमेह दिवस (14 नवम्बर) के अवसर पर इंदिरा आईवीएफ हॉस्पिटल की गॉयनोकोलॉजिस्ट एवं आईवीएफ स्पेशलिस्ट डॉ. सागरिका अग्रवाल ने कहा, "अपने देश में यह बीमारी खानपान, जेनेटिक और हमारे इंटरनल आर्गन्स में फैट की वजह से होती है. गर्भवती महिलाओं को ग्लूकोज पिलाने के दो घंटे बाद ओजीटीटी (ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट) किया जाता है, ताकि जेस्टेशनल डायबिटीज का पता चल सके."


Eggs and Diabetes: संडे या मंडे ही नहीं, डायबिटीज है तो भी रोज खा सकते हैं अंडे

Home Remedies for Dengue: डेंगू से निपटने के 6 घरेलू उपाय...

Home Remedies: पलक झपकते ही दूर होगी फूड प्‍वाइजनिंग, काम आएंगे ये घरेलू नुस्खे...

डायबिटीज के चलते गई है नजर, तो आपके लिए है यह खबर...

गर्भावस्था में डायबिटीज टेस्ट

यह जांच प्राय: गर्भावस्था के 24 से 28 हफ्तों के बीच होती है, दो हफ्ते बाद पुन: शुगर की जांच की जाती है. पाया गया कि इस दौरान 10 फीसदी अन्य महिलाओं में जेस्टेशनल डायबिटीज ठीक नहीं हुई थी. इन महिलाओं को इंसुलिन देकर बीमारी कंट्रोल कर ली जाती है. ऐसा कर मां के साथ ही उनके शिशु को भी इस बीमारी के खतरे से बचाया जा सकता है.

क्या होता है टाइप वन डायबिटीज में 

डॉ. सागरिका ने कहा, "डायबिटीज के टाइप वन में इंसुलिन का स्तर कम हो जाता है और टाइप टू में इंसुलिन रेजिस्टेंस हो जाता है और दोनों में ही इंसुलिन का इंजेक्शन लेना जरूरी होता है. इससे शरीर में ग्लूकोज का स्तर सामान्य बना रहता है. गर्भधारण के लिए इंसुलिन के एक न्यूनतम स्तर की आवश्यकता होती है और टाइप वन डायबिटीज की स्थिति में इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं. इस स्थिति में गर्भधारण से मां और बच्चे दोनों के लिए खतरा हो सकता है. दोनों की सेहत पर इसका विपरीत प्रभाव पड़ता है."

टाइफाइड के इलाज के लिए ये हैं 5 बेस्‍ट होम रेमेडी... ट्राई ज़रूर करें

Remedies For Migraine: माइग्रेन के दर्द से राहत दिलाएंगे ये घरेलू नुस्खे...

डायबिटीज को कंट्रोल करने के अलावा और भी हैं ग्रीन कॉफी के फायदे

क्या होता है टाइप टू डायबिटीज में 

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर टाइप 2 डायबिटीज में शरीर रक्तधाराओं में ग्लूकोज के स्तर को सामान्य बनाए नहीं रख पाता, क्योंकि शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का निर्माण नहीं हो पाता. इस स्थिति से निपटने के लिए आहार में परिवर्तन किया जा सकता है और नियमित रूप से व्यायाम का अभ्यास करने से भी इंसुलिन के स्तर को सामान्य बनाया जा सकता है. 

डायबिटीज से जुड़ी और खबरें पढ़ें - 

टाइप 2 डायबिटीज़ है तो रखें ध्यान, आ सकती हैं ये समस्याएं

डायबिटीज़ और दिल के रोगों को रोकने में मददगार है विटामिन डी

डायबिटीज को करें कंट्रोल, यहां हैं टिप्स...

डायबिटीज है खतरनाक बीमारी, जानिए इसके कारण और बचाव

डायबिटीज के हैं शिकार, तो ये मिर्ची करेगी अब आपका इलाज

आपके लिए जहर हो सकती है अदरक, खाने से पहले जानें ये बातें...

हार्ट अटैक, डायबिटीज का खतरा होगा कम, चुटकी में घटेगा वजन

कमाल की खोज: इंसुलिन के बिना संभव होगा डायबिटीज का इलाज

प्रेग्नेंसी के दौरान डायबिटीज से बच्चे को खतरा, ऐसे करें बचाव

गर्भावस्था में कैलोरी इनटेक और डायबिटीज 
डॉ. सागरिका ने कहा कि गर्भावस्था के 12वें हफ्ते में अधिकांश महिलाओं को अतिरिक्त 300 कैलोरी की आवश्यकता हर दिन होती है. साथ ही साथ प्रोटीन की मात्रा में भी पर्याप्त वृद्धि करनी होती है. खुद को सक्रिय बनाए रखना इस दौरान काफी अहम होता है. स्वीमिंग, वॉकिंग या साइकलिंग जैसे कार्डियोवेस्कुलर एक्सरसाइज इस दौरान फिट रहने में मदद करते हैं, लेकिन किसी भी एक्टिविटी को शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें. साथ ही कुछ छोटी-छोटी आदतों में बदलाव करके भी इस दौरान स्वस्थ रहा जा सकता है, जैसे हर जगह गाड़ी चलाकर जाने की बजाय थोड़ा पैदल चलने की आदत डालें, लंबे समय तक बैठकर या लेटकर टीवी देखने या कंप्यूटर पर काम करने से बचें.

और खबरों के लिए क्लिक करें.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------