होम »  ख़बरें »  नक्सली इलाके में गर्भवती मह‍िलाओं के लिए फर‍िश्‍ते की तरह आई हैं बाइक एम्बुलेंस...

नक्सली इलाके में गर्भवती मह‍िलाओं के लिए फर‍िश्‍ते की तरह आई हैं बाइक एम्बुलेंस...

स्थानीय लोगों की मानें तो अबूझमाड़ के ओरछा क्षेत्र में कई गांव तो ऐसे हैं, जहां पैदल चलकर जाना होता है. इस स्थिति में महिलाओं को प्रसव काल में चिकित्सा सुविधा के लिए घंटों इंतजार करना होता है या कई घंटों में रास्ता तय करने के बाद ही वे स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंच पाती हैं. ऐसे इलाकों की महिलाओं के लिए यह बाइक एम्बुलेंस बड़ी मददगार साबित होंगी.

नक्सली इलाके में गर्भवती मह‍िलाओं के लिए फर‍िश्‍ते की तरह आई हैं बाइक एम्बुलेंस...

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित इलाके में सबसे पहले आने वाले स्थानों में नारायणपुर का बड़ा हिस्सा आज भी मुख्य मार्ग से नहीं जुड़ पाया है, यही कारण है कि यहां लोगों को स्वास्थ्य सेवा पाने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है. प्रसव तो गर्भवती महिलाओं (Pregnant Women) के लिए नई मुसीबत लेकर आता है और उनके सामने जीवन-मरण का काल बन जाता है. महिलाओं को प्रसव काल (Delivery) में मुसीबत से उबारा जा सके, इसके लिए इस जिले में बाइक एम्बुलेंस (Bike Ambulances) का सहारा लिया जा रहा है.

सिजेरियन से बचने के लिए गर्भावस्था में करें ये 5 काम, होगी नॉर्मल डिलीवरी...

नारायणपुर का अबूझमाड़ वह इलाका है, जहां के अधिकांश गांव आज भी सड़क मार्ग से नहीं जुड़े हैं, वहां जाने का साधन सिर्फ बैलगाड़ी है. पगडंडी के सहारे ही इस इलाके के गांव तक पहुंचा जा सकता है, बरसात के मौसम में तो यहां पहुंचना और भी मुश्किल हो जाता है. अति नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्र होने के कारण यहां प्रशासन और सरकार चाहकर भी सड़क का निर्माण नहीं कर पाई है.


क्या पीरियड के दौरान सेक्स सही है या ग़लत? डॉक्टर से जानें क्या करें और क्या नहीं

जिलाधिकारी पदुम सिंह एल्मा ने बताया कि अबूझमाड़ वह क्षेत्र है, जहां वनांचल बहुत ज्यादा है, नदी-नाले भी बहुत है. इसके चलते प्रसव के लिए महिलाओं को अस्पताल जाने में सबसे बड़ी दिक्कत आती है. इसी को ध्यान में रखकर बाइक एम्बुलेंस का प्रयोग सफल हुआ है. पहले दो बाइक एम्बुलेंस थीं, अब चार और बाइक एम्बुलेंस आ गई हैं.

Heart Disease: युवाओं को भी हो रही हैं दिल की बीमारियां, वजह जानकार हो जाएंगे हैरान!

एल्मा ने बताया कि यह बाइक एम्बुलेंस खास तरह से तैयार की गई हैं. इसमें मोटरसाइकिल के साथ एक छतरीनुमा हिस्सा जोड़ा गया है, जिसमें प्रसवा महिला के लेटने के साथ एक अन्य व्यक्ति भी बैठ सकता है. यह लगभग वैसा ही है, जैसी फिल्म 'शोले' में प्रयुक्त मोटरसाइकिल थी.

What Is PCOD, PCOS: क्या है पीसीओडी या पीसीओएस, प्रकार, लक्षण और कारण

यह बाइक एम्बुलेंस उन स्थानों तक आसानी से पहुंच जाती है, जिन गांव तक पगडंडी है. यह प्रयोग पहले सफल रहा और अब चार बाइक एम्बुलेंस के आ जाने से वनांचल की महिलाओं के लिए प्रसव पीड़ा के दौरान काफी मदद मिलेगी.

स्थानीय लोगों की मानें तो अबूझमाड़ के ओरछा क्षेत्र में कई गांव तो ऐसे हैं, जहां पैदल चलकर जाना होता है. इस स्थिति में महिलाओं को प्रसव काल में चिकित्सा सुविधा के लिए घंटों इंतजार करना होता है या कई घंटों में रास्ता तय करने के बाद ही वे स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंच पाती हैं. ऐसे इलाकों की महिलाओं के लिए यह बाइक एम्बुलेंस बड़ी मददगार साबित होंगी.

Attention Girls! ये हैं वो 6 काम जो पीरियड्स में नहीं करने चाहिए...

इस क्षेत्र के दुर्गम रास्तों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक बार प्रशासन ने यहां खच्चर का सहारा लेने की कवायद की थी, जिसके लिए निविदाएं भी जारी हुईं, मगर बात आगे नहीं बढ़ी. अब बाइक एम्बुलेंस का प्रयोग किया गया है, यह प्रसवकाल में महिलाओं के लिए वरदान से कम नहीं है. (इनपुट-आईएएनए)

और खबरों के लिए क्लिक करें. 

क्या होता है ह्यूमन पेपिलोमा वायरस, जानें इसके बारे में सबकुछ


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ऑर्गेज्म तक न पहुंच पाने के ये हो सकते हैं कारण, आपको भी जरूर जानने चाहिए

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------