होम »  लिविंग हेल्दी »  World Pneumonia Day 2019: क्या होता है निमोनिया, जानें कारण, लक्षण, बचने के उपाय और घरेलू उपचार

World Pneumonia Day 2019: क्या होता है निमोनिया, जानें कारण, लक्षण, बचने के उपाय और घरेलू उपचार

World Pneumonia Day: अगर समय रहते निमोनिया के उपचार (Treatment Of Pneumonia) नहीं ढूंढे गए तो कई गंभीर परिणाम सामने आ सकते हैं. शिशुओं में निमोनिया के लक्षण (Symptoms Of Pneumonia) को पहचाना मुश्किल हो सकता है.

World Pneumonia Day 2019: क्या होता है निमोनिया, जानें कारण, लक्षण, बचने के उपाय और घरेलू उपचार

World Pneumonia Day 2019: समय रहते निमोनिया का उपचार नहीं किया तो गंभीर परिणाम हो सकते हैं.

खास बातें

  1. निमोनिया फेफड़े और सांस से जुड़ी बीमारी है.
  2. यहां जानें निमोनिया क्या है और इसके लक्षण.
  3. वर्ल्ड निमोनिया डे 12 नवंबर को मनाया जाता है.

World Pneumonia Day 2019: दुनियाभर में 12 नवंबर को वर्ल्ड निमोनिया डे मनाया जाता है. आमतौर पर बुखार या जुकाम होने के बाद निमोनिया का खतरा रहता है और 10-12 दिन में ठीक हो जाता है. लेकिन कई बार यह खतरनाक भी हो जाता है, खासकर 5 साल से छोटे बच्चों और 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में इसका खतरा ज्यादा है. निमोनिया के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 12 नवंबर को वर्ल्ड निमोनिया डे सेलिब्रेट किया जाता है. डब्ल्यूएचओ के अनुसार, पूरी दुनिया में सिर्फ एक-तिहाई बच्चों को ही निमोनिया की एंटी-बायोटिक दवाएं मिल पाती हैं. अगर समय रहते निमोनिया के उपचार (Treatment Of Pneumonia) नहीं ढूंढे गए तो कई गंभीर परिणाम सामने आ सकते हैं. शिशुओं में निमोनिया के लक्षण (Symptoms Of Pneumonia) को पहचाना मुश्किल हो सकता है. अगर समय रहते इसके लक्षणों को पहचाना जाए तो निमोनिया का रामबाण उपाय (Panacea Remedy For Pneumonia) से उसे ठीक भी किया जा सकता है. कई लोग निमोनिया होने पर निमोनिया का इंजेक्शन (Pneumonia Injection) लेते हैं.

इन बीमारियों की भेंट चढ़ रहे हैं हर साल 10 लाख बच्चे, यहां हैं हालत सबसे खराब

लू के ड़र और असर को करें छू... यहां हैं बचाव के उपाय


कई लोगों का सवाल होता है कि नवजात शिशु में निमोनिया के लक्षण और निमोनिया कितने दिनों में ठीक होता है तो ऐसे कई सवालों का जवाब आपको यहां मिल जाएगा. साथ ही निमोनिया क्या है, निमोनिया के कारण, और इससे बचने के उपाय क्या हैं इसके बारे में जानने के लिए पढ़ते रहिए. अगर निमोनिया के बारे में जानकारी ले ली तो यह आपके कभी भी काम आ सकती है क्योंकि यह एक ऐसी बीमारी है जो किसी को भी हो सकती है. खासकर सर्दियों में इसका खतरा ज्यादा हो सकता है... 

कैसा हो ब्रेकफास्ट, सुबह का नाश्ता? 5 चीजें जो खाली पेट नहीं खानी चाहिए...

निमोनिया क्या है? | What Is Pneumonia

निमोनिया फेफड़ों और सांस से जुड़ी बीमारी है. अगर इन्फेक्शन फेफड़ों के एक हिस्से को प्रभावित करता है, तो इसे लोबर निमोनिया कहा जाता है और अगर यह दोनों फेफड़ों के भाग को प्रभावित करता है, तो इसे मल्टीबॉबर निमोनिया कहा जाता है. जब किसी व्यक्ति को निमोनिया होता है, तो उसके फेफड़ों के अंदर हवा की जगह पर धीरे-धीरे मवाद और अन्य तरल पदार्थों बनने शुरू हो जाते है, जिससे ऑक्सीजन के रास्ते में रुकावट आ जाती है. सप्प्रेस्सड इम्यून सिस्टम, हृदय और फेफड़ों के रोग या शराब, किडनी फेलियर, एचआईवी, डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अधिक खतरा होता है. 

Winter Diabetes Tips: सर्दियों में ये 5 सब्जियां हो सकती हैं ब्लड शुगर के लिए रामबाण, डायबिटीज होगा कंट्रोल!

pneumonia preventionWorld Pneumonia Day: निमोनिया के प्रति लोगों को जागरूक करने की जरूरत है

निमोनिया के कारण | Causes Of Pneumonia

निमोनिया विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं जैसे बैक्टीरियल निमोनिया, वायरल निमोनिया, आकांक्षा निमोनिया, फंगल निमोनिया, अस्पताल द्वारा अधिग्रहित निमोनिया और समुदाय-आधारित निमोनिया है. स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया सबसे आम जीवाणु है जो फेफड़ों की सूजन का कारण बनता है. अन्य बैक्टीरिया क्लैमाइडोफिला निमोनिया और लेगियोनेला न्यूमोफिला हैं. 

Weight Loss Surgery: वजन घटाने वाली सर्जरी से स्लिम-फिट होने का छोड़ दें ख्याल! हो सकते हैं ये नुकसान

1. वैक्टीरिया वायरस या कवक जो आपकी नाक, मुहं से आपके शरीर में चले जाते हैं, यह आपके आसपास के वातावरण में रहते है. जो फेफड़ो में प्रवेश कर संक्रमण कर निमोनियां जैसी बीमारी को जन्म देते हैं. 

2. बच्चों या वयस्कों में इस रोग का मुख्य कारण स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया वैक्टीरिया या निमोनिया है. 

3. यह रोग संक्रमण, सांस के सिंसीटीयल वायरस राईनोवोयरस, हर्पस सिंप्लेक्स वायरस से हो सकता है.

Winter Superfoods: सेलिब्रिटी और न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने बताए हेल्दी रहने के लिए सुपरफूड्स, डाइट में करें शामिल


निमोनिया के लक्षण | Symptoms Of Pneumonia

निमोनिया के सामान्य संकेत और लक्षण बलगम या खून के साथ खांसी, शरीर के तापमान का 101 डिग्री या इससे अधिक ऊपर होना फारेनहाइट, अत्यधिक पसीना और ठंड लगना, साँस लेने में कठिनाई, मतली और उल्टी, छाती क्षेत्र में दर्द, घरघराहट, पीने में कठिनाई या भोजन, ऊर्जा की कमी और भ्रम है. कभी-कभी ठंड या फ्लू के साथ निमोनिया के संकेत गलत समझे जाते हैं. इसलिए, यदि ये लक्षण 3 दिनों से अधिक समय तक रहते हैं, तो चिकित्सीय ध्यान देना चाहिए.

1. बलगम और खांसी हो सकती है.

2. हल्का और फिर तेज बुखार का होना.

3. थकान होना, और कमजोरी महसूस करना.

4. मांसपेशियों में दर्द कमजोरी का आभास होना. 

5. भूख न लगना या कम भूख का लगना.

Weight Loss Surgery: क्या वजन घटाने वाली सर्जरी से हो जाते हैं फिट, जानें इसके साइडइफेक्ट और परिणाम

pneumoniaWorld Pneumonia Day: निमोनिया की बीमारी कई प्रकार से हो सकती है


निमोनिया का इलाज | Treatment Of Pneumonia

जीवन के शुरुआती चरणों में टीकाकरण के माध्यम से निमोनिया को रोका जा सकता है। प्रीव्नर (शिशुओं के लिए PVC13) और न्यूमोवैक्स (बच्चों और वयस्कों के लिए PPSV23) नाम के टीके आमतौर पर बैक्टीरिया एस निमोनिया के कारण होने वाले निमोनिया से लड़ने के लिए उपयोग किए जाते हैं.

Hair Care Routine: करें ये 5 काम, उलझे और झड़ते बालों से ऐसे पाएं छुटकारा 

निमोनिया से बचाव के तरीके | Ways To Prevent Pneumonia

1. अच्छी स्वच्छता और और स्वास्थ्य की आदतों का अभ्यास करना निमोनिया को रोकने में मदद कर सकता है. तम्बाकू का धुवाँ और अन्य प्रदुषण से बचना न्युमोनिया से बचने में मदद कर सकता है.

2. टिकाकरण करवाना, अंदर और बाहरी प्रदुषण को कम करने और संक्रमण की पहचान करने के लिए चेतावनी के संकेत के बारे में जानकारी होना, विशेष रूप से खांसी, तेज स्वांस और सांस लेने में कठिनाई संक्रमण को रोकने में मदद करेगा.

3. पहले छह महीने के दौरान बच्चे को स्तनपान न्युमोनियाँ को रोकने में महत्वपूर्ण है, स्तनपान के दूध में पोषक तत्वों एंटीओक्सिडेंट, हार्मोन्स और एंटीबॉडी की एक पौष्टिक आपूर्ति होती है. जिसमें बच्चे को विकास की जरूरत होती है.

Acidity: अपच होने का कारण हो सकता तनाव, बेहतर पाचन के लिए करें ये काम दूर रहेगा स्ट्रेस

निमोनिया के घरेलू उपचार क्या हैं?

अगर कोई व्यक्ति निमोनिया के लक्षणों को खुद में देख रहा है तो इन्हें रोकने के लिए कुछ घरेलू उपचार का उपयोग किया जा सकता है. घर पर पर्याप्त आराम के साथ एक उचित आहार इस स्थिति को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है. पुदीना, नीलगिरी और मेथी की चाय और खारे पानी के गरारे का उपयोग एक कप चाय या कॉफी पीते समय खांसी में सहायक होता है और गर्म और नम हवा को सांस की तकलीफ में आराम दे सकता है. दर्द और बुखार के लिए ओवर-द-काउंटर दवा के रूप में अच्छी तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है अदरक या हल्दी चाय सीने में दर्द के लिए शक्तिशाली एंटी- इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में कार्य करता है.

Snoring: खर्राटों से हैं परेशान तो ऐसे करें इलाज, जानें क्यों आते हैं खर्राटे

और खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Weight Loss: वजन घटाने के लिए कितना पैदल चलना चाहिए? जानें पैदल चलने के लिए कैसे करें खुद को तैयार!

यहां हैं वजन कम करने के सबसे आसान टॉप 10 टिप्स

Anxiety Disorders: बार-बार होती है घबराहट, तो ये आसान उपाय आएंगे काम...

Kidney Stone: पथरी होने पर क्या खाना चाहिए, जानें पथरी के लक्षण, कारण और उपाय

Boost Stamina: अगर स्टेमिना बढ़ाना चाहते हैं तो रोजाना करें ये काम, रहेंगे फुर्तीले

Healthy Liver: लीवर को हेल्दी रखने के लिए खाएं ये फूड्स, बीमारियों से रहेंगे दूर!

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------