होम »  लिविंग हेल्दी »  Medical Technologies Of 2019: इस साल ये मेडिकल तकनीक रही टॉप पर, कई बीमारियों का इलाज हुआ आसान

Medical Technologies Of 2019: इस साल ये मेडिकल तकनीक रही टॉप पर, कई बीमारियों का इलाज हुआ आसान

Medical Technologies Of 2019: तकनीक और मेडिकल काफी समय से एक दूसरे आगे निकलने की होड़ में हैं. या यूं कहें कि टक्कर में तो गलत नहीं होगा. हर साल कई नई बीमारियां हमारे सामने आ जाती है. 2019 में भी कई नई मेडिकल तकनीक आई हैं.

Medical Technologies Of 2019: इस साल ये मेडिकल तकनीक रही टॉप पर, कई बीमारियों का इलाज हुआ आसान

Medical Technologies: 2019 मे ये 5 तकनीक रही सबसे पॉपुलर

खास बातें

  1. इस साल टॉप 5 में रही ये मेडिकल टेक्नोलॉजी.
  2. वर्चुअल रियलिटी भी रही पॉपुलर.
  3. जानें कौन सी 2019 की पॉपुलर मेडिकल तकनीक.

Medical Technologies Of 2019: जिस स्पीड से देश और दुनियां में नई-नई बीमारियां पनप रही हैं उसी गति से हर साल नई मेडिकल टेक्नोलॉजी भी आ रही हैं. तकनीक और मेडिकल काफी समय से एक दूसरे आगे निकलने की होड़ में हैं. या यूं कहें कि टक्कर में तो गलत नहीं होगा. हर साल कई नई बीमारियां हमारे सामने आ जाती है. 2019 में भी कई नई मेडिकल तकनीक आई हैं. इस बात से शायद आप भी वाकिफ होंगे. लेकिन, क्या आपने कभी गौर किया कि मेडिकल तकनीक कितनी तेजी से आगे बढ़ रही हैं. हर नई बीमारी को कोई न कोई तोड़ निकल ही आता है. भले ही अभी भी कई लाइलाज बीमारियों का तोड़ नहीं ढूंढा जा सका है, लेकिन हर साल नई-नई तकनीक मेडिकल के क्षेत्र में सुधार के लिए लाई जाती हैं. इन्हीं तकनीकों की वजह से हर साल कई लोगों की जान बचाई जा रही है. इस साल भी कई मेडिकल तकनीक आई हैं जिन्होंने लोगों की जानें तो बचाई ही साथ ही हैरान करने वाली भी रही. जैसे-जैसे साल बीत रहे हैं वैसे ही मेडिकल तकनीक भी और विकसित होती जा रही है. 

Deadly Diseases 2019: इस साल सबसे घातक और जानलेवा रोगों में शुमार रहीं ये 10 बीमारियां 

Swelling: खतरनाक हो सकती है शरीर की सूजन, जानें कारण और सूजन घटाने के घरेलू नुस्खे


1. सीआरआईएसपीआर (CRISPR)
 

क्लस्टर्ड रेगुलर इंटर्सेप्ड शॉर्ट पालिंड्रोमिक रिपीट (CRISPR) अभी तक की सबसे बेहतर जीन-एडिटिंग तकनीक है. यह कोशिकाओं में मौजूद वायरस के जीवाणु को नष्ट कर इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने का काम करती है. यह तकनीक संक्रमित डीएनए स्ट्रैंड को कट आउट करने में सक्षम है. डीएनए की यह कटिंग संभावित रूप से बीमारी के इलाज के तरीके को बदलने की शक्ति रखती है. यह हमारे स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरे, जैसे कि कैंसर और एचआईवी को कुछ सालों में दूर कर सकते हैं.

Eyesight: आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए खाएं ये फूड्स, बुढा़पे में भी कमजोर नहीं होंगी आंखें! 

medicalMedical Technologies: इस साल एसीआरएसपीआर टॉप ट्रेंड में रही 

2. टेलीहेल्थ (Telehealth) 

तकनीक से चलने वाली दुनिया में यह माना जाता है कि 60% ग्राहक डिजिटली सेवाओं को पसंद करते हैं. टेलीहेल्थ एक तेजी से विकसित होने वाली तकनीक है जो रोगियों को अपने डॉक्टर के साथ आमने-सामने मिलने के कॉन्सेप्ट को खत्म कर देती है. इसमें इंतजार नहीं करना पड़ता है. डिजिटल उपकरणों के जरिए चिकित्सा की जाती है. उदाहरण के लिए कई मोबाइल एप्लिकेशन बनाए जा रहे हैं जो रोगियों को तत्काल निदान और चिकित्सा सलाह देने में सहायक हैं. 

Diabetes: करेला है ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए अचूक रामबाण! जानें इस सुपरफूड के गजब फायदे

3. वर्चुअल रिअलिटी (Virtual reality)   
  

वर्चुअल रिअलिटी को आभासी वास्तविकता कहते हैं. हाल ही में चिकित्सा और तकनीकी तेजी से सुधार हुआ है. मेडिकल स्टूडेंट्स तकनीक का उपयोग करके रियलिटी को करीब से महसूस कर इलाज की प्रैक्टिस करते हैं. ऐसी तकनीक के जरिए स्टूडेंट्स एक रियल इलाज के लिए तैयार हो पाते हैं. इस तकनीक में मानव शरीर की रचना से जुड़े होने की एक दृश्य समझ को विकसित करने में स्टूडेंट्स को मदद मिलती है. वीआर डिवाइस रोगियों के लिए एक बेहतर सहायता के रूप में भी काम करती है. 

Healthy Skin: पीले रंग के ये फल स्किन को देंगे ग्लो और रखेंगे हेल्दी! दिखेंगे सबसे अलग

medical genericMedical Technologies:वर्चुअल रियलिटी ने भी बनाई टॉप 5 में जगह

4. सटीक दवा (Precision medicine)

जैसे-जैसे मेडकल तकनीक आगे बढ़ रही है, रोगियों के जीवन को बढ़ाने के लिए और भी फायदेमंद हो रही हैं. उदाहरण के लिए, सटीक इलाज, डॉक्टरों को किसी व्यक्ति के आनुवंशिकता के आधार पर, कैंसर जैसे रोगों के इलाज के लिए दवाओं और उपचारों का चयन करने की अनुमति देती है. यह इलाज दूसरे प्रकार के उपचारों की तुलना में कहीं अधिक प्रभावी है. 

Walking Benefits: भागने-दौड़ने के साथ पैदल चलने से होते हैं ये कमाल के फायदे! जानें क्यों है वॉक करना जरूरी

5. कृत्रिम अंग (Artificial Organs)

3 डी प्रिंटिंग को एक और पायदान ऊपर ले जाने के लिए, बायो-प्रिंटिंग भी एक उभरती हुई चिकित्सा तकनीक है. जबकि शुरू में यह त्वचा की कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने के लिए उपयोग की जाती थी. अब धीरे-धीरे आर्टिफिशिय अंग बनाने की तकनीक एक अलग लेवल पर पहुंच गई है.

और खबरों के लिए क्लिक करें 

Winter Health: सर्दियों में इन कारणों से आती है ज्यादा नींद, जानें सुबह जल्दी उठने के तरीके

Blood Pressure: लहसुन है ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए असरदार! कैसे खाएं लहसुन जानें इसके फायदे

Fitness Tips: अगर आप एक्सरसाइज करते हैं तो ये रुटीन फॉलो करना जरूरी, जानें फिटनेस टिप्स 

Hot Or Cold Milk: गर्म और ठंडे दूध में से कौन सा है ज्यादा फायदेमंद, एसिडिटी और मोटापे के लिए रामबाण है ठंडा दूध!


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Toothache: दांत-मसूड़ों में दर्द होने पर इन घरेलू उपायों से पाएं राहत, जल्द मिलेगा आराम!

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------