होम »  लीवर »  Liver Disease: लीवर की ये 5 बीमारियां होने पर दिखते हैं ये शुरुआती लक्षण और संकेत, जानें कैसे करें उपचार

Liver Disease: लीवर की ये 5 बीमारियां होने पर दिखते हैं ये शुरुआती लक्षण और संकेत, जानें कैसे करें उपचार

Liver Disease Symptoms: प्रारंभिक अवस्था में निदान से लीवर की बीमारियों को बिगड़ने से बचाने में मदद मिल सकती है. यहां लीवर की बीमारियों के शुरुआती लक्षण (Early Symptoms Of Liver Diseases) और संकेत हैं जिन्हें आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

Liver Disease: लीवर की ये 5 बीमारियां होने पर दिखते हैं ये शुरुआती लक्षण और संकेत, जानें कैसे करें उपचार

Liver Health: लीवर रोगों के पीछे कई संभावित कारण हो सकते हैं

खास बातें

  1. अगर समय पर इलाज न किया जाए तो फैटी लीवर से लीवर फेल हो सकता है.
  2. फैटी लीवर रोग के मुख्य कारणों में से एक डायटरी फैट है.
  3. शराब का सेवन लीवर की सेहत के लिए बेहद हानिकारक है

Liver Disease Treatment: क्या आपको लगातार टखनों और पैरों में सूजन आती है? क्या आप पीली त्वचा या लगातार त्वचा पर चकत्ते देख रहे हैं? ये एक अंतर्निहित लीवर रोग के शुरुआती लक्षण (Early Symptoms Of Liver Diseases) हो सकते हैं. लीवर की बीमारी लीवर फंक्शन (Liver Function) की कोई गड़बड़ी है जो बीमारी का कारण बनती है. लीवर महत्वपूर्ण अंगों में से एक है जो शरीर को हेल्दी रखता है. ऐसे में लीवर की बीमारियों के लक्षण (Symptoms Of Liver Diseases) पहचानना जरूरी है. पोषक तत्वों को शरीर द्वारा आवश्यक रसायनों में परिवर्तित करके, लीवर भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है और यह शरीर से अपशिष्ट को बाहर निकालने के लिए जिम्मेदार है. लीवर की बीमारी के कारणों (Causes Of Liver Disease) कई हो सकते हैं, जो पूरे शरीर के कामकाज को प्रभावित करती है. कई स्थितियां यकृत की बीमारी के लिए लीवर को प्रभावित कर सकती हैं.

मजबूत पाचन तंत्र, कंट्रोल शुगर लेवल और इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए कमाल है मुलेठी, जानें 9 अद्भुत फायदे!

1. हेपेटाइटिस: यह एक वायरल संक्रमण है जो सूजन का कारण बनता है जिससे यकृत को नुकसान होता है. हेपेटाइटिस के 5 प्रकार हैं - हेपेटाइटिस ए, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, हेपेटाइटिस डी, हेपेटाइटिस ई जहां बी, सी, डी पुरानी हो सकती है अगर इसे बिना इलाज के छोड़ दिया जाए.


2. फैटी लीवर रोग: इस स्थिति में, लीवर में वसा का निर्माण होता है, या तो शरीर बहुत अधिक वसा का उत्पादन करता है या कुशलता से वसा का चयापचय नहीं करता है. अत्यधिक शराब पीने से अल्कोहल फैटी लिवर की बीमारी हो सकती है जबकि मोटापा, उच्च रक्त शर्करा, इंसुलिन प्रतिरोध गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग का प्रमुख कारण हो सकता है. अगर स्थिति का निदान या उपचार जल्दी नहीं किया जाता है, तो यह सिरोसिस और लीवर फेन्योर का कारण बन सकता है.

Good Cholesterol: अच्छे कॉलेस्ट्रॉल को नेचुरल तरीके से बढ़ाने के लिए आज से ही अपनाएं ये 5 कारगर उपाय

3. आनुवांशिक कारण: हेमोक्रोमैटोसिस जैसी वंशानुगत स्थितियां, जहां शरीर अधिक आयरन का संग्रह करता है, विल्सन की बीमारी जहां लीवर डिस्चार्ज करने के बजाय तांबे को अवशोषित करता है, इससे लीवर की बीमारी भी हो सकती है.

4. ऑटोइम्यून स्थितियां: यहां शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है.

5. सिरोसिस: यह जिगर की गंभीर कमी और जिगर की बीमारी का उन्नत चरण है.

कुछ संकेतों और लक्षणों को देखने के बाद आप मूल्यांकन कर सकते हैं कि लीवर अच्छी तरह से काम कर रहा है या नहीं-

नीचे लीवर की बीमारी के 6 सामान्य लक्षण दिए गए हैं:

अत्यधिक थकान: हालांकि लीवर रोगों में थकान के अंतर्निहित रोगजनन को अभी तक स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं किया गया है. थकान को लीवर रोग से जुड़े सामान्य लक्षणों में से एक माना जाता है.

फैटी लीवर का कारण बनती हैं आपकी ये तीन गलतियां, जानें फैटी लीवर के लिए असरदार घरेलू नुस्खे!

2lptciv8Liver Disease Treatment: लीवर की बीमारी से लगातार थकान और सुस्ती हो सकती है

एब्डोमेन की सूजन: लीवर की खराबी के कारण, शरीर के प्रोटीन और अन्य यौगिकों में एक महत्वपूर्ण असंतुलन होता है, जो पेट में तरल पदार्थ के असामान्य निर्माण की ओर जाता है. पेट में सूजन का सबसे आम कारण लीवर का सिरोसिस है. जैसे ही स्थिति बिगड़ती है, यह हाथ, पैर और टखनों की सूजन जैसे लक्षणों को जन्म दे सकता है.

डायबिटीज में सबसे कारगर हैं ये 6 ड्रिंक्स, आज से ही शुरू करें पीना और कंट्रोल में रखें ब्लड शुगर लेवल!

भूख कम लगना: लीवर पाचन तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. लीवर की बीमारी से भूख कम हो सकती है और कुछ का वजन कम भी हो सकता है. पाचन संबंधी असुविधा, पेट में दर्द और अन्य लक्षण यकृत रोग से जुड़े हैं.

ब्रूसिंग: चोट के बाद रक्त के थक्के को जमाने में प्रोटीन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. जब लीवर ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो रक्त का थक्का बनाने के लिए पर्याप्त प्रोटीन नहीं होगा. इसके परिणामस्वरूप, यकृत रोग वाले व्यक्ति अत्यधिक रक्तस्राव और आसान चोट लगने का अनुभव कर सकते हैं.

मतली: लीवर को नुकसान की सीमा के आधार पर, मतली को थोड़े समय या लंबे समय तक अनुभव किया जा सकता है. जब विषाक्त पदार्थों को खत्म करने की लीवर की क्षमता कम हो जाती है, तो शरीर में अपशिष्ट उत्पादों का संचय होता है, जिससे मतली होती है.

अतिसार: लीवर को हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन को तोड़ने और संसाधित करने का काम सौंपा जाता है. तो, यह आम है कि जब लीवर अच्छे स्वास्थ्य में नहीं होता है, तो पाचन प्रक्रिया भी प्रभावित होती है जिससे दस्त होते हैं. पेल स्टूल और ब्लैक टैरी स्टूल भी लिवर की बीमारी से जुड़े हैं.

अक्सर बनती है पेट में गैस, तो आज ही बदल दें अपनी ये 4 आदतें, जानें गैस से निजात पाने के घरेलू उपचार!

लीवर की बीमारियों के लिए उपचार के विकल्प | Treatment Options For Liver Diseases

लीवर रोगों के लिए कई उपचार विकल्प उपलब्ध हैं. याद रखें कि प्रारंभिक अवस्था में निदान से बहुत फर्क पड़ सकता है. कुछ लीवर की समस्याओं का इलाज सरल जीवन शैली में परिवर्तन के साथ किया जा सकता है जैसे शराब का सेवन कम करना, वजन कम करना, स्वस्थ आहार का पालन करना आदि. अन्य लोगों को चिकित्सकीय ध्यान देने की आवश्यकता होती है और कभी-कभी सर्जरी भी होती है.

लीवर प्रत्यारोपण सर्जरी:

लीवर रोग के उन्नत मामलों में जब महत्वपूर्ण अंग कार्य करना बंद कर देता है, तो लीवर ट्रांसप्लांट एकमात्र उपचार विकल्प हो सकता है. स्वस्थ लीवर का होना दीर्घायु होने के लिए आवश्यक है क्योंकि लीवर रक्त को छानने और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए जिम्मेदार होता है.

गुजरात सरकार ने बदला Dragon Fruit का नाम, जानें क्या हैं इस फल को खाने के फायदे और नुकसान!

अगर आपके पास लीवर की बीमारी के कोई संकेत या लक्षण हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें और खुद का टेस्ट करवाएं. एक खराब लीवर के लिए उपचार में देरी केवल स्थिति को और अधिक जटिल बनाती है. अस्पताल सुरक्षित हैं क्योंकि वे मरीजों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अत्यधिक सावधानी बरत रहे हैं.

(डॉ. राघवेंद्र एन कोलंबिया एशिया अस्पताल, हेब्बल में एक सलाहकार-सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी और लिवर ट्रांसप्लांट हैं)

अस्वीकरण: इस लेख के भीतर व्यक्त की गई राय लेखक की निजी राय है. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता, या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दिखाई देने वाली जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करती है और एनडीटीवी उसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं मानता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

अगर खराब है आपका मूड, तो इन 5 कारगर टिप्स को जरूर अपनाएं; बेहतर मूड के साथ करेंगे अच्छा महसूस!

क्या घर का बना पापड़ और अचार खाकर भी कंट्रोल कर सकते हैं हाई ब्लड प्रेशर, न्यूट्रिशनिष्ट से जानें

बर्ड फ्लू के कारण अंडे और चिकन खाने से लग रहा है डर, तो प्रोटीन से भरपूर इन 5 फूड्स को खाना शुरू करें!


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Mental Fitness: हेल्दी और तेज दिमाग के लिए रोजाना करें ये 5 ब्रेन एक्सरसाइज, आज ही से शुरू कर दें

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------