होम »  लिविंग हेल्दी »  क्या है Lassa Fever, क्या है इसके फैलने में चुहों का हाथ, जानें सबकुछ...

क्या है Lassa Fever, क्या है इसके फैलने में चुहों का हाथ, जानें सबकुछ...

इस दशा का निदान आमतौर पर सूचक संकेतों और लक्षणों के साथ होता है.

क्या है Lassa Fever, क्या है इसके फैलने में चुहों का हाथ, जानें सबकुछ...

हाल ही में एक वायरल संक्रमण 'लासा बुखार' (Lassa Fever) ने समूचे Nigeria को अपनी गिरफ्त में ले लिया था. बहुत से लोगों को इस संक्रमण से जान गंवानी पड़ी थी. चूहों के मल-मूत्र से फैलने वाला यह संक्रमण नाइजीरिया के अलावा, लासा वायरस बेनिन, घाना, गिनी, लाइबेरिया, माली, सिएरा लियोन और पश्चिम अफ्रीका के अन्य देशों में फैला हुआ है. लासा बुखार एक गंभीर वायरल हीमोरेजिक बीमारी है, जो लासा वायरस से फैलता है. यह एरेनावाइरस परिवार का सदस्य है. यह जानवरों के जरिये होने वाली जूनोटिक बीमारी है.

फीमेल कॉन्‍डोम इस्‍तेमाल करते वक्‍त ध्‍यान रखें ये बातें...


कैसे फैलता है लासा संक्रमण
हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "मनुष्यों में यह वायरस संक्रमित चूहों के मल या मूत्र के संपर्क में आने से फैलता है. चूहों के मल वाली एरोसोलाज्ड हवा में सांस लेने और संक्रमित चूहों को भोजन के रूप में खाने से यह बीमारी हो सकती है. व्यक्तिगत रूप से संक्रामक तरल पदार्थ (उदाहरण के लिए, रक्त, मूत्र, फेरेंजील स्राव, उल्टी या शरीर के अन्य स्राव) के साथ सीधे संपर्क में आने से यह रोग सकता है."

क्या है रेंज
उन्होंने कहा, "लासा संक्रमण वाले लोगों में लक्षण शुरू होने से पहले उन्हें संक्रामक नहीं माना जाता है. इस बुखार की इनक्यूबेशन अवधि लगभग 10 दिन (6-21 दिन की रेंज) है. शुरू में इसके लक्षण हल्के होते हैं और इनमें लो ग्रेड का बुखार, सामान्य कमजोरी एवं मालाइज शामिल होता है. इसके बाद सिरदर्द, गले में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, सीने में दर्द, मतली, उल्टी, दस्त, खांसी और पेट दर्द होता है. गंभीर बीमारी में, चेहरे की सूजन, फेफड़ों में पानी भरना, और मुंह, नाक, योनि व आंतों से खून आना, और कम रक्तचाप की शिकायत हो सकती है. बाद के चरण में, सदमा, दौरे, कंपकंपी, कंपकंपाहट और कोमा की दशा हो सकती है."

बचपन में इस बीमारी का पड़ सकता है पढ़ाई पर असर, रखें ध्यान

क्या रखें ध्यान 
डॉ. अग्रवाल ने बताया, "इस दशा का निदान आमतौर पर सूचक संकेतों और लक्षणों के साथ होता है. बार बार होने और लक्षणों के उपचार के साथ प्रारंभिक सहायक देखभाल के जरिये जीवित रहने की दर में सुधार करना संभव है. हालांकि, इस कंडीशन के लिए वर्तमान में कोई टीका उपलब्ध नहीं है."


लासा संक्रमण से बचने के लिए रखें इन बातों का ध्यान- 

  • चूहों से बच कर रहें. 
  • सभी मरीजों को संक्रामक मानें, भले ही संकेत और लक्षण हल्के हों. 
  • सभी मानक, संपर्क और बूंदों के साथ सावधानी बरतें. 
  • उचित व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के सही उपयोग नियमों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए. 
  • लासा बुखार संक्रमण वाले संदिग्ध मरीजों के रक्त व शारीरिक तरल पदार्थों के नमूने अत्यधिक संक्रामक माने जाने चाहिए.
  • ऐसी सामग्री की सार-संभाल के दौरान सावधानी बरतनी चाहिए. 
  • संदिग्ध लासा बुखार संक्रमण वाले संपर्को के लिए मौखिक रिबाविरिन के साथ पोस्ट एक्सपोजर प्रोफेलेक्सिस, ट्रांसमिशन के लिए खतरनाक सुई, चोट, झिल्ली के संपर्क या रक्त या शरीर के तरल पदार्थ में टूटी हुई त्वचा और शारीरिक तरल पदार्थ के संपर्क में आने से बचें.

और खबरों के लिए क्लिक करें.

सेक्‍स के दौरान होने वाली इन कॉमन इन्‍जरी के बारे में जानते हैं आप...

रात से ज्‍यादा बेहतर हैं सुबह के ‘वो खास पल’...

अब नहीं होगी दौड़ने-भागने में दिक्‍‍कत...मिलेगी घुटनों के दर्द से राहत

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

घरेलू नुस्खे

Skin Care Tips: चेहरे के दाग-धब्बों, झुर्रियों को इन 5 सुपरफूड्स से करें दूर! हमेशा दिखें जवां

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------