होम »  लिविंग हेल्दी »  Monsoon Superfoods: जानिए मानसून में डाइट में क्‍यों शामिल करना चाहिए सत्तू

Monsoon Superfoods: जानिए मानसून में डाइट में क्‍यों शामिल करना चाहिए सत्तू

मानसून के दौरान, अपनी डाइट में कुछ सुपरफूड्स शामिल करना आपको हेल्‍दी रखने और आपकी इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉन्‍ग बनाए रखने में सहायक हो सकता है. ऐसा ही एक मानसून सुपरफूड है सत्तू (Sattu), जो आयरन के बर्तन में रेत में सूखा भुना अनाज, चना, जौ या बंगाल चना द्वारा तैयार किया जाता है.

Monsoon Superfoods: जानिए मानसून में डाइट में क्‍यों शामिल करना चाहिए सत्तू

मानसून डाइट टिप्स: फाइबर से भरपूर सत्तू वजन घटाने के लिए बेस्‍ट ऑप्‍शन हो सकता है

खास बातें

  1. सत्तू में घुलनशील फाइबर होते हैं, जो पाचन को बेहतर बनाते हैं.
  2. यह मासिक धर्म में पेट की ऐंठन को कम करने में मदद करता है
  3. सत्तू में मौजूद फोलिक एसिड गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के लिए फायदेमंद हो

मानसून के दौरान, अपनी डाइट में कुछ सुपरफूड्स शामिल करना आपको हेल्‍दी रखने और आपकी इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉन्‍ग बनाए रखने में सहायक हो सकता है. ऐसा ही एक मानसून सुपरफूड है सत्तू (Sattu), जो आयरन के बर्तन में रेत में सूखा भुना अनाज, चना, जौ या बंगाल चना द्वारा तैयार किया जाता है. भूनने के बाद, इसे छानकर बारीक आटे के रूप में तैयार किया जाता है. लाइफस्टाइल कोच लुके कटिंहो से लेकर सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर तक, सभी हेल्‍थ एक्‍स्‍पर्ट सत्तू (Sattu) खाने की सलाह देते हैं. रुजुता के अनुसार, सत्तू को महिलाओं के लिए मानसून सुपरफूड कहा जा सकता है. बंगाल चने से बना सत्तू एक प्रोटीन बेस्‍ड आटा है, जो कई तरह के स्वास्थ्य लाभ देता है.

जादू की तरह कम होगा बेली फैट, इस तरह कलौंजी करेगी यह कमाल...


मानसून सुपरफूड्स: बरसात में आपको सत्तू क्यों खाना चाहिए?

रुजुता ने श्रावण महीने के बारे में बात करते हुए अपनी पोस्ट शुरू की. यह ऐसा समय है जब भारत में कई समुदाय पत्तेदार हरी सब्जियां जैसे पालक का सेवन करने से बचते हैं और मांसाहारी भोजन जैसे मांस, मछली या अंडे नहीं खाते. 

Sattu - a monsoon superfood for women Shravan is the time of monsoon when a lot of communities don't eat green leafy veggies like palak, etc., and also fish or meat. We still needed to get our folic acid, amino acids and minerals though and therefore the invention of sattu. A delicious, intelligent mix of chana dal, gehu and rice flour (depending on the region you come from), it's the stuff that nutrition love stories are made of. #Plantbaseddiets as the West likes to call it, sattu provides the body with minerals like calcium, vitamins like folic acid and essential amino acids like lysine. And this is how sattu can help you - - reduces menstrual cramps and clots - reduces dark circles under the eyes - reduces pigmentation and hair loss Diversity is an inbuilt system in our society and culture and it's time we own it with pride. #eatlocalthinkglobal #sattu #IndianSuperfoods

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) on

ये सभी खाद्य पदार्थ प्रोटीन और विटामिन जैसे फोलिक एसिड के समृद्ध स्रोत हैं. रेड ब्‍लड सेल्‍स के प्रोडक्‍शन के लिए फोलिक एसिड की जरूरत होती है. यह गर्भावस्था के दौरान सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है.

Liver Health: लीवर को हेल्‍दी रखने में मदद करते हैं ये मसाले, ट्राई करके देखें

रुजुता कहती हैं, भारत में कुछ समुदायों द्वारा अपनाए गए लिमिटेड खाद्य पदार्थों के कारण, फोलिक एसिड और अन्य अमीनो एसिड शरीर को देना अभी भी जरूरी है, जो सत्तू को खाने में शामिल करके लिए जा सकते हैं.' वे कहती हैं, 'चना दाल, गेंहू और चावल के आटे का टेस्‍टी मिक्‍सचर (आप जिस क्षेत्र से आते हैं, उसके आधार पर), वह सामग्री है, जिससे कई तरह के पोषक तत्‍व होते हैं. 

फोलिक एसिड के साथ ही सत्तू शरीर को आवश्यक खनिज जैसे लाइसिन, कैल्शियम और अमीनो एसिड देता है. महिलाओं के लिए सत्तू के लाभों के बारे में बताते हुए, रुजुता कहती है 'यह पीरियड्स में पेट की ऐंठन और क्‍लॉटिंग को कम करने में मदद कर सकता है. सत्तू का इस्‍तेमाल आंखों के नीचे काले घेरे कम करने के लिए भी किया जा सकता है. यह पिगमेंटेशन और बालों के झड़ने को भी कम करता है.'

u61so7r

बाल झड़ना रोकता है सत्तू. Photo Credit: iStock


जानिए सत्तू के अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के बारे में:


1. सत्तू एक कम-ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला अनाज है. डायबिटीज के रोगियों को अपनी डाइट में सत्तू को शामिल करना चाहिए. यह आयरन, मैंगनीज और मैग्नीशियम में समृद्ध होता है. इसमें सोडियम की मात्रा कम होती है, जो हाई ब्‍लड प्रेशर वाले लोगों को फायदा पहुंचाता है.

Home Remedies: कैसे घर पर कम करें बुखार, शरीर का तापमान कम करने के 6 नुस्खे

2. सत्तू में घुलनशील फाइबर होते हैं, जो आपके डाइजेशन के लिए अच्छे हो सकते हैं. सत्तू के शर्बत का सेवन जंक फूड या तले हुए खाद्य पदार्थों से आपकी बॉडी को डिटॉक्स करने का एक उत्तम तरीका है.

3. फाइबर से भरपूर सत्तू वजन घटाने के लिए परफेक्‍ट ऑप्‍शन है. यह आपका पेट लम्‍बे समय तक भरा रख सकता है और भूख को कम कर सकता है, जिससे वजन कम होने लगता है.

idds42lo

वजन कम करने में सत्तू करता है मदद. Photo Credit: iStock

सत्तू शर्बत के अलावा आप सत्तू के लड्डू या सत्तू के परांठे भी खा सकते हैं. 

सावधान! पता भी नहीं चलेगा और रेटिनल बीमारियां बना देती हैं अंधा...

इन दो चीजों से दिमाग हो जाएगा सबसे तेज, आज ही अपनाएं...

थकान दूर करने के साथ ही अटैक के खतरे को भी कम करता है स्टीम बाथ

अगर ये सोचकर छोड़ रहे हैं नाश्ता, तो पड़ सकते है लेने के देने...


एनडीटीवीडॉक्टर से और खबरों के लिए क्लिक करें. 

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------