होम »  Women's Health »  National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए

National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए

Pregnancy Diet Tips: गर्भवती महिलाओं को हेल्दी और पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेना जरूरी होता है. यहां नेशनल न्यूट्रिशन वीक (National Nutrition Week) के दौरान कुछ प्रेगनेंसी डाइट टिप्स दिए गए हैं, जो गर्भवती महिलाओं को बच्चे की हेल्दी ग्रोथ (Healthy Growth) करने में मदद कर सकते हैं.

National Nutrition Week 2020: हर गर्भवती महिला को डाइट से जुड़ी ये 10 बातें जरूर जान लेनी चाहिए

National Nutrition Week 2020: गर्भवती महिलाओं को अपने आहार में पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिए

खास बातें

  1. 1 से 7 सितंबर तक राष्ट्रीय पोषण सप्ताह मनाया जाता है.
  2. गर्भवती महिलाओं को हेल्दी डाइट लेनी चाहिए.
  3. शिशु के विकास में पोषण महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

National Nutrition Week 2020: राष्ट्रीय पोषण सप्ताह सितंबर के पहले सप्ताह के दौरान मनाया जाता है. यह सप्ताह शरीर और समग्र स्वास्थ्य के लिए कई पोषक तत्वों के महत्व पर प्रकाश डालता है. नेशनल न्यूट्रिशन वीक 2020 (National Nutrition Week 2020) के अवसर पर यहां माताओं के लिए कुछ प्रेगनेंसी डाइट टिप्स (Pregnancy Diet Tips) दिए गए हैं. जिन्हें गर्भावस्था के नाजुक चरण के दौरान फॉलो करना जरूरी होता है. एक पौष्टिक आहार, मध्यम व्यायाम, अच्छी नींद और खुशहाल विचार हेल्दी प्रेगनेंसी (Healthy Pregnancy) के लिए आवश्यक शर्तें हैं. प्रसवपूर्व, गर्भवास्था और प्रसवोत्तर अवधि में पोषण की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. शिशु के स्वस्थ विकास के लिए डाइट में सभी आवश्यक पोषक तत्वों को शामिल करना जरूरी है.

Diabetes Diet: डायबिटीज में हेल्दी ब्लड शुगर लेवल पाने के लिए, इन 6 चीजों को अपनी डाइट से निकाल दें बाहर

गर्भवती महिलाओं के लिए डाइट टिप्स | Diet Tips For Pregnant Women


1. फोलिक एसिड: एक 400 एमसीजी प्रसवपूर्व अवधि के दौरान रोजाना लेने की जरूरत होती है. यानि गर्भवती होने से कम से कम तीन महीने पहले. यह बहुत महत्वपूर्ण है कि भ्रूण में न्यूरल ट्यूब दोष को रोकने के लिए फोलिक एसिड की इस मात्रा का सेवन किया जाता है. विटामिन बी कॉम्प्लेक्स फोलिक एसिड के इष्टतम उपयोग में मदद करता है और इसलिए समान रूप से महत्वपूर्ण है. हरी पत्तेदार सब्जियां भी फोलिक एसिड का एक और समृद्ध स्रोत हैं.

2. बढ़ते भ्रूण को पर्याप्त वृद्धि के लिए कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन, खनिज और ट्रेस तत्वों की जरूरत होती है. गर्भवती महिला को अपने भोजन के प्रकार पर ध्यान देना चाहिए.

करी पत्ते का रस पेट की चर्बी और Body Fat घटाने के लिए है कारगर उपाय, पता होना चाहिए सेवन का तरीका!

j0kljfcoNational Nutrition Week: स्वस्थ आहार और व्यायाम का एक संयोजन गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है

3. गर्भावस्था के दौरान शारीरिक एनीमिया विकसित करने की प्रवृत्ति होती है क्योंकि रक्त की प्लाज्मा मात्रा लाल रक्त कोशिकाओं के सापेक्ष फैलती है. इसका मुकाबला करने के लिए, एंटेना के दौरे के दौरान वे दूसरे तिमाही में आयरन की खुराक लेनी भी जरूरी है.

4. कैल्शियम और विटामिन डी की खुराक की भी सिफारिश की जाती है. ये हड्डियों को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

इन 6 ड्रिंक से घर बैठे करें अपनी बॉडी को डिटॉक्स, शरीर में जमा सारी गंदगी निकल जाएगी बाहर!

5. गर्भावस्था में हार्मोनल परिवर्तनों के कारण कब्ज का विकास होना काफी आम है. अगर गर्भवती महिला अपनी गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए प्रोजेस्टेरोन की खुराक पर है, तो फाइबर युक्त आहार के साथ-साथ मध्यम मात्रा में व्यायाम उसे इस समस्या को दूर करने में मदद करता है.

6. डेयरी उत्पाद, दाल, अनाज कैल्शियम से भरपूर होते हैं. हरी पत्तेदार सब्जियाँ विशेष रूप से ड्रमस्टिक पत्ते, पालक आदि, अंजीर, खजूर और ऑर्गनो-मीट आयरन का एक समृद्ध स्रोत हैं. फल, सब्जियां, साबुत अनाज फाइबर से भरपूर होते हैं. एक अंगूठे के नियम के रूप में, गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन तीन प्रकार के फल और तीन प्रकार की सब्जियों का सेवन करने की सलाह दी जाती है.

t76uhd98National Nutrition Week: कैल्शियम और विटामिन डी आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए

7. एक गर्भवती महिला में दिल की जलन और भाटा ग्रासनलीशोथ विकसित करने की प्रवृत्ति होती है. उन्हें छोटे लगातार भोजन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जिसमें इससे मुकाबला करने के लिए तेल और मसाले कम मात्रा में होते हैं. साथ ही, कुछ महिलाओं में जेस्टेशनल डायबिटीज मेलिटस विकसित करने की प्रवृत्ति होती है. ऐसी महिला जो बॉर्डरलाइन डायबिटिक या बिगड़ा हुआ शर्करा के साथ होती हैं, उन्हें सलाह दी जाती है कि वे एक सख्त कैलोरी काउंट का पालन करें और नियमित रूप से शर्करा की निगरानी करें.

बदहजमी और कब्ज से हैं परेशान? इस आयुर्वेदिक ड्रिंक को सोने से पहले पिएं, पेट की समस्याओं को रखें हमेशा दूर!

8. गर्भावस्था की पूरी अवधि के दौरान शराब और कैफीन का सेवन करना हतोत्साहित करता है क्योंकि ये न केवल गैस्ट्रिटिस को खराब कर रहे हैं बल्कि बच्चे को प्रभावित कर सकते हैं. गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन गर्भपात, अभी भी जन्म और जीवन की एक लंबी शारीरिक, व्यवहारिक और बौद्धिक अक्षमता (भ्रूण अल्कोहल स्पेक्ट्रम विकार) का कारण बन सकता है. दवाओं और धूम्रपान भी भ्रूण को प्रभावित करते हैं और इनसे बचा जाना चाहिए.

9. कुछ पनीर, बिना पका हुआ दूध, फैट को बढ़ा सकता है. समुद्री भोजन, बिना पके हुए कच्चे फल, सब्जियां, लिस्टेरिया नामक बैक्टीरिया से दूषित हो सकती हैं जो भोजन की विषाक्तता का कारण बन सकती हैं.

10. फलों और सब्जियों में कीटनाशक अवशेषों के सेवन का डर होता है, इसलिए हमेशा ऑर्गेनिक रूप से उगाए गए उत्पादों पर स्टॉक करना सुरक्षित होता है. पर्यावरण कार्य समूह अमेरिकी कृषि विभाग द्वारा एकत्रित कीटनाशक अवशेषों के आंकड़ों के आधार पर सालाना डर्टी डोजेन और 'क्लीन 15' नामक सब्जियों और फलों की सूची जारी करता है. यह सलाह दी जाती है कि उन्हें 'क्लीन 15' में बहुत सारे फलों और सब्जियों की जांच करें और 'डर्टी डोजेन' के लिए व्यवस्थित रूप से उगाए गए पदार्थों की जगह लें.

Skin Care Tips: चेहरे पर मुंहासों के रह गए हैं दाग, तो न हों परेशान इन 5 चीजों का इस्तेमाल कर गायब हो जाएंगे धब्बे!

कुल मिलाकर मां को भोजन से होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए न केवल शिशु के पर्याप्त विकास के लिए बल्कि खाद्य स्वच्छता पर भी ध्यान देना चाहिए.

(डॉ. शशिकला क्षीरसागर, सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ, विक्रम अस्पताल, बैंगलोर)

अस्वीकरण: इस लेख के भीतर व्यक्त की गई राय लेखक की निजी राय है. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता, या वैधता के लिए जिम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दिखाई देने वाली जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करती है और एनडीटीवी उस के लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं मानता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

पीठ पर पड़े दानों से हैं परेशान, तो आज से ही अपनाएं ये घरेलू उपाय, धब्बे भी हो जाएंगे साफ!

जीरे का सेवन करने से मिलते हैं ये 5 शानदार फायदे, इस्तेमाल करने का पता होना चाहिए तरीका!


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कीटो डाइट पर हैं, तो आपनी क्रेविंग को कंट्रोल करने के लिए खाएं प्रोटीन से भरपूर ये लो कार्ब रोटियां!

Indoor Workouts: बिना जिम के भी पा सकते हैं फिट और स्लिम बॉडी, घर पर करें ये 4 एक्सरसाइज

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------