होम »  ख़बरें »  Omicron Cases In India: भारत में इस नए वेरिएंट के अब तक 21 मामले, एक्सपर्ट से जानें कि हम इसे कैसे रोक सकते हैं

Omicron Cases In India: भारत में इस नए वेरिएंट के अब तक 21 मामले, एक्सपर्ट से जानें कि हम इसे कैसे रोक सकते हैं

Omicron In India: हालांकि डब्ल्यूएचओ ने इस वेरिएंट को 'वेरिएंट ऑफ कंसर्न' के रूप में टैग किया है, शोधकर्ता अभी भी जांच कर रहे हैं कि क्या ओमिक्रोम अधिक घातक है और क्या वर्तमान टीके सुरक्षा प्रदान करते हैं.

Omicron Cases In India: भारत में इस नए वेरिएंट के अब तक 21 मामले, एक्सपर्ट से जानें कि हम इसे कैसे रोक सकते हैं

डब्ल्यूएचओ ने इस वेरिएंट को 'वेरिएंट ऑफ कंसर्न' के रूप में टैग किया है

Omicron Update In India: महाराष्ट्र, राजस्थान और दिल्ली में ताजा मामले सामने आने के साथ भारत का ओमिक्रोम टैली लगातार बढ़ रही है. एनडीटीवी ने उन विशेषज्ञों से बात की है जो इन राज्यों में ओमिक्रोम के प्रसार से लड़ने में सीधे तौर पर शामिल हैं, ताकि हमें कोविड-19 के नवीनतम स्ट्रेन के बारे में बताया जा सके, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 'वेरिएंट आफ कंसर्न' के रूप में टैग किया है, क्योंकि यह स्ट्रेन पहले सामने आए किसी भी दूसरे स्ट्रेन से ज्यादा म्यूटेट है. भारत में अब तक महाराष्ट्र में ओमिक्रोम वेरिएंट के 7 मामले, जयपुर में 9 और दिल्ली में एक मामला सामने आया है, जिसके बाद देश में कुल संख्या 21 हो गई है.

Omicron In India: विदेशों से आने वाले यात्रियों को एयरपोर्ट पर इस प्रक्रिया से गुजरना होगा, जानें नई ट्रेवल गाइडलाइन्स

भारत की तैयारियों और फोकस के बारे में बात करते हुए, डॉ सुधीर भंडारी, सदस्य, कोवि‍ड टास्क फोर्स, राजस्थान ने कहा, "हम वह देश हैं, जहां टीकाकरण अभियान तेज रहा है. तकरीबन 90 फीसदी लोगों ने वैक्सीन की सिंगल डोज ली है और 50 फीसदी लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज ली हैं. सभी मेडिकल लिट्रेचर इस बात की पुष्टि करते हैं कि टीकाकरण लोगों को बीमारी के गंभीर रूप से बचाएगा. हालांकि ओमिक्रोम के साथ कुछ समस्याएं हैं जैसे बढ़ी हुई ट्रांस‍मीसिबिल‍िटी, हाई वायरल लोड, लेकिन जिन लोगों को डबल टीकाकरण किया जाता है, वे निश्चित रूप से इस स्ट्रेन में भी गंभीर रूप से रोग विकसित होने से सुरक्षित रहेंगे. इस स्ट्रेन से जूझ रहे दक्षिण अफ्रीका के डॉक्टरों ने पुष्टि की है. यहां तक कि जो मामले हम देख रहे हैं, अभी के लिए, ऐसा लगता है कि लोग बीमारी का एक हल्का से मध्यम रूप विकसित कर रहे हैं और इसका एक कारण टीकाकरण हो सकता है, क्योंकि हमारे पास जितने भी मामले हैं, वे हैं, जिन्हें पूरी तरह से टीका लगाया गया है.''


डॉ भंडारी ने आगे कहा कि कोवि‍ड-19 के इस तनाव के साथ एकमात्र चिंता यह है कि यह ज्यादा युवा आबादी को प्रभावित कर रहा है और संक्रमण बहुत अधिक है.

इस बात पर प्रकाश डालते हुए कि क्या भारत मामलों में उछाल को रोक पाएगा, डॉ भंडारी ने कहा, "हम उम्मीद कर सकते हैं कि यह वेरिएंट उतना घातक नहीं होगा, जितना हमने अतीत में देखा है. फिलहाल हमारा फोकस ट्रेसिंग, ट्रैकिंग और इलाज पर है. जैसे ही ये चार विदेशी दक्षिण अफ्रीका से राजस्थान पहुंचे, जिनकी अब ओमिक्रोम के लिए सकारात्मक पुष्टि हुई है, हमने तुरंत उनका टेस्ट किया, उन्हें निगरानी में रखा, उन्हें क्वारंटाइन किया. ये लोग कुल मिलाकर लगभग 35 लोगों के संपर्क में आए और उन सभी का पता लगाया और उनका टेस्ट किया. इनमें से पांच ओमिक्रोम पॉजिटिव पाए गए, फिलहाल सभी की निगरानी की जा रही है."

इन 6 कारणों से होती है आपको Dry Cough, घर ही इलाज करने के लिए कारगर हैं ये 4 उपाय

इस बार तैयारियों की सकारात्मकता को दोहराते हुए, डॉ राहुल पंडित, सदस्य, कोविड टास्क फोर्स, महाराष्ट्र ने कहा, “पिछले साल हमने डेल्टा वेरिएंट के साथ जो देखा है, उसकी तुलना में भारत बहुत ही संवेदनशील रहा है. पिछले कुछ दिनों में ओमिक्रोम वेरिएंट के सामने आने के साथ ही भारत ने कदम उठाना शुरू कर दिया है. हवाई अड्डों पर उपाय किए गए, लोगों को अलग किया गया और जांच, ट्रेसिंग की पूरी प्रक्रिया शुरू की गई. अंत में, हमें पिछले साल की तुलना में जीनोम सिक्वेंसिंग रिपोर्ट बहुत तेजी से मिल रही है. महाराष्ट्र में भी इसी तरह के कदम उठाए गए हैं- टेस्टिंग, ट्रेसिंग और इलाज प्रमुख कदम रहे हैं. हमने राज्य में पॉजिटिव टेस्ट किए गए सात लोगों के सभी संपर्कों का पता लगाया है. सभी के लिए रिपोर्ट का इंतजार है, लेकिन हमने पहले ही हर व्यक्ति को आइसोलेट कर दिया है और उन सभी का बेहद सावधानी से इलाज कर रहे हैं. उनमें से ज्यादातर हल्के रोग के लक्षण दिखा रहे हैं और मुझे लगता है कि यह उम्मीद की किरण है, जो हमें इस स्ट्रेन से लड़ने की उम्मीद देती है.”

Omicron Effects: भारत द्वारा उठाए गए कदम 

वर्तमान में भारत भर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे 'जोखिम वाले' देशों के सभी यात्रियों की गहन जांच और परीक्षण कर रहे हैं. केंद्रीय दिशानिर्देशों के अनुसार, ऐसे देशों के सभी यात्रियों को आगमन पर आरटी-पीसीआर परीक्षण कराना होगा. हवाई अड्डे से बाहर निकलने के लिए परीक्षा परिणाम नकारात्मक होना चाहिए. अभी के लिए "जोखिम में" समझे जाने वाले देशों की सूची में यूनाइटेड किंगडम, यूरोप के सभी 44 देश, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इज़राइल शामिल हैं.

Pregnancy Tips: वो 6 गलतियां जो एक गर्भवती महिला को कभी नहीं करनी चाहिए, वर्ना हो सकता है नुकसान

हालांकि डब्ल्यूएचओ ने इस वेरिएंट को 'वेरिएंट ऑफ कंसर्न' के रूप में टैग किया है, शोधकर्ता अभी भी जांच कर रहे हैं कि क्या ओमिक्रोम अधिक घातक है और क्या वर्तमान टीके सुरक्षा प्रदान करते हैं. दक्षिण अफ्रीका के डॉक्टरों के अनुसार, जो इस स्ट्रेन से जूझ रहे हैं, अब तक वैरिएंट हल्के लक्षणों वाला लगता है, लेकिन उच्च वायरल लोड और ट्रांसमिसिबिलिटी के साथ.

Periods: माहवारी में यौन संबंध ठीक या गलत

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

कॉफी पीने के ये तरीके सबसे ज्यादा फायदेमंद, नुकसान भी नहीं होगा और मिलेंगे कई फायदे

Facts About Thyroid: थायराइड रोग के बारे में 10 बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

क्या कोरोना का नया वेरिएंट Omicron ज्यादा खतरनाक है? जानें एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया से

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

घरेलू नुस्खे

Skin Care Routine: रात में चेहरे पर क्या लगाएं जिससे स्किन बन जाती है मुलायम, साफ और चमकदार, जानें

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------