होम »  लिविंग हेल्दी »  वजन घटाने के लिए अपनाएं रिवर्स डाइटिंग, जल्द दिखेगा असर

वजन घटाने के लिए अपनाएं रिवर्स डाइटिंग, जल्द दिखेगा असर

रिवर्स डाइटिंग वजन घटाने के लिए जानी जाती है. ये एक ऐसी टेक्नीक है जिसका इस्तेमाल बॉडी बिल्डर्स, एथलीट्स वेट लॉस करते वक्त अपना एनर्जी लेवल को बढ़ाने और शरीर के आकार को सही रखने के लिए करते हैं.

वजन घटाने के लिए अपनाएं रिवर्स डाइटिंग, जल्द दिखेगा असर

रिवर्स डाइटिंग वजन घटाने के लिए जानी जाती है. ये एक ऐसी टेक्नीक है जिसका इस्तेमाल बॉडी बिल्डर्स, एथलीट्स वेट लॉस करते वक्त अपना एनर्जी लेवल को बढ़ाने और शरीर के आकार को सही रखने के लिए करते हैं. रिवर्स डाइटिंग एक ऐसा डाइट प्लान है जो हफ्ते या महीने तक धीरे-धीरे आपके कैलोरी इनटेक को बढ़ाता है. इसका इस्तेमाल ज्यादातर कैलोरी-रिस्ट्रिक्टिड डाइट के बाद किया जाता है. जो लोग बिना वजन घटाए अपनी पुरानी डाइट को रैगुलर लेना चाहते हैं उनके लिए रिवर्स डाइटिंग प्लान कारगर होता है. ये डाइट प्लान आपके मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है साथ ही दिनभर में ज्यादा कैलोरी बर्न करने में भी मदद करता है.

फोन देखने के तरीके का सेक्स और हाइट पर पड़ता है असर : शोध

रिवर्स डाइटिंग के फायदे, कैसे काम करती है ये

ज्यादातर डाइट प्लान इस सिद्धांत पर काम करते हैं जिसमें कंज्यूम की गई कैलोरी से ज्यादा कैलोरी बर्न करने पर ध्यान दिया जाता है. इसमें कैलोरी इनटेक को कम करते हुए आपके वर्कआउट रुटीन को बढ़ाने या उसकी इंटेन्सिटी को बढ़ाने पर ज्यादा फोकस किया जाता है. इसकी मदद से आप कुछ समय के लिए तो अपना वजन घटा सकते हैं लेकिन इसका आपके मेटाबॉलिज्म पर बुरा प्रभाव पड़ता है. स्लो मेटाबॉलिज्म आपकी पूरी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है, और हो सकता है कि अगर आप दोबारा अपने डाइटिंग रुटीन पर लौटना चाहें तो ये भी आपके लिए संभव न हो. साथ ही अगर आप वेट लॉस के टैबू से निकलने के लिए फिर वजन को बढ़ाना चाहें तो भी आपको मुश्किल हो सकती है.

बुजुर्गों की जिंदगी की सुखमय सांझ जैसा है यह कदम

ovumj00g

कैलोरी इनटेक के बढ़ने से आपका मेटाबॉलिज्म मजबूत होता है. Photo Credit: iStock

ऐसे में रिवर्स डाइटिंग अपना महत्वपूर्ण रोल निभाती है. इस डाइट प्लान में जितना आप वजन कंट्रोल करने के लिए कैलोरी इनटेक कर रहे हैं उससे 50 से 100 कैलोरी तक के इनटेक को बढ़ाया जाता है. इस वजह से ये डाइट जहां आपको ज्यादा खाने की आजादी देती है वहीं इसके बाद आप हफ्तों या महीनों तक कैलोरी रिस्ट्रिक्टेड डाइट को भी इंजॉय कर पाते हैं. आप अपने कैलोरी इनटेक को बढ़ाने के लिए किसी भी प्रकार का हेल्दी मील को चुन सकते हैं. 

भारत में 63 फीसदी कामकाजी पेशेवरों का वजन है ज्यादा: रिपोर्ट

रिवर्स डाइटिंग के फायदे

ये कहीं भी 4 से 10 हफ्तों तक की जा सकती है जब तक आप प्री डाइट इनटेक के अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच जाते. आपका प्रोटीन इनटेक पूरी रिवर्स डाइटिंग के दौरान एक जैसा रहता है.

क्या है हाईपरटेंशन, कैसे आहार से करें कंट्रोल

1. कैलोरी इनटेक के बढ़ने से आपका मेटाबॉलिज्म मजबूत होता है जिसकी वजह से नॉन एक्सरसाइज एक्टिविटी थर्मोजेनेसिस (NEAT) के जरिए भी कैलोरी बर्न की जाती है. इसमें चलना, बात करना जैसी चीजें शामिल हैं.

2. रिवर्स डाइटिंग आपके लेप्टिन हॉर्मोन को सही रखने में मदद करता है. ये हार्मोन आपके वजन को कंट्रोल करता है.

3. ज्यादा कैलोरी इनटेक से आप खुद को ज्यादा एनर्जेटिक महसूस करते हैं. इसकी वजह से आपका मूड भी ठीक रहता है साथ ही आपका कॉन्सनट्रेशन भी बढ़ता है.

त्वचा और बालों की सेहत का ध्यान रखना है जरूरी, यहां पढ़ें टिप्स

क्या रिवर्स डाइटिंग से वजन कम होता है?

हेल्थलाइन के मुताबिक कई सारी ऐसी रिसर्च हैं जिसमें इस बात का जिक्र किया गया है कि रिवर्स डायटिंग आपका वजन घटाने में मदद करती है या नहीं.  इनमें कहा गया है कि एक बेहतर मेटाबॉलिज्म (रिवर्स डायटिंग स्वास्थ्य लाभ में से एक) आपके वजन घटाने में मदद कर सकता है. यह हार्मोन्स के लेवल को सही रखने के साथ ही कैलोरी बर्न करने में भी मदद करता है.

obnpvrq

रिवर्स डाइटिंग पूरी तरह से कैलोरी इनटेक पर आधारित है. Photo Credit: iStock

रिवर्स डाइटिंग फॉलो करते समय सामने आ सकती हैं ये चुनौतियां

1. कैलोरी को काउंट करके उसे सही तरह से लागू करना कठिन होता है. 50 से 100 कैलोरी बहुत छोटा हिस्सा होता है जिसे बढ़ाने के लिए तय करना बेहद कठिन है. एक स्नैक्स को शामिल करने से आपका रिवर्स डाइटिंग प्लान भी बिगड़ सकता है.

2. रिवर्स डाइटिंग पूरी तरह से कैलोरी इनटेक पर आधारित है. इसमें अन्य चीज़ों का ध्यान नहीं रखा जाता, जैसे आपकी नींद, एक्सरसाइज रुटीन, स्ट्रेस लेवल, हार्मोनल फ्लक्चुएशन.

3. वजन घटान के फायदे का दावा करने वाली रिवर्स डाइटिंग को लेकर जरूरी मात्रा में शोध का उपलब्ध न होना.

अगर आप भी अपने वेट लॉस प्लैटू पर पहुंच चुके हैं और अब आपको अपनी लो-कार्ब डाइट या कीटो डाइट को फॉलो करना कठिन हो रहा है तो आप रिवर्स डाइट ट्राई कर सकते हैं. कमेंट करके बताएं कि क्या ये आपके लिए फायदेमंद साबित हुई है या नहीं.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------