होम »  लिविंग हेल्दी »  कॉफी बन सकती है माइग्रेन की वजह, जानें रोज कितने कप कॉफी पीना है सही

कॉफी बन सकती है माइग्रेन की वजह, जानें रोज कितने कप कॉफी पीना है सही

विश्वभर में एक अरब से अधिक वयस्क माइग्रेन बीमारी से पीड़ित हैं और यह दुनिया में तीसरे नंबर की ऐसी बीमारी है जिससे सर्वाधिक लोग पीड़ित हैं.

कॉफी बन सकती है माइग्रेन की वजह, जानें रोज कितने कप कॉफी पीना है सही

खास बातें

  1. अधिक कॉफी पीना भी माइग्रेन का कारण बन सकता है.
  2. माइग्रेन दुनिया में तीसरे नंबर की बीमारी है जिससे सर्वाधिक लोग पीड़ित हैं
  3. नींद पूरी नहीं होने समेत अन्य कारणों से भी माइग्रेन का खतरा बढ़ता है

अगर आप भी उन लोगों में से हैं जो कॉफी को पसंद करते हैं, तो यह खबर आपके लिए है. हो सकता है कि सिर में दर्द की शिकायत होने पर आप एक कप कॉफी पी लेते हों. लेकिन यह आदत आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकती है. अभी तक ऐसा माना जाता था कि सिर दर्द की शिकायत होने पर कॉफी पीने से राहत मिलती है, लेकिन एक अध्ययन में दावा किया गया है कि अधिक कॉफी पीना भी माइग्रेन का कारण बन सकता है. ‘अमेरिकन जर्नल ऑफ मेडिसिन' में बृहस्पतिवार को प्रकाशित एक अध्ययन में दावा किया गया कि दिन में तीन कप या इससे अधिक कॉफी पीने से माइग्रेन का खतरा बढ़ सकता है. इस अध्ययन के तहत माइग्रेन और कैफीन युक्त पेय पदार्थों के बीच संबंध का आकलन किया गया.

क्‍या आप सोचते हैं जरूरत से ज्‍यादा?

अमेरिका स्थित ‘बेथ इजराइल डेकोनेस मेडिकल सेंटर' के अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि विश्वभर में एक अरब से अधिक वयस्क इस बीमारी से पीड़ित हैं और यह दुनिया में तीसरे नंबर की ऐसी बीमारी है जिससे सर्वाधिक लोग पीड़ित हैं.


71253qmo

Coffee and Migraines: उस दिन या उससे अगले दिन उन्हें सिर दर्द हुआ.

‘हार्वर्ड टी एच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ' के एलिजाबेथ मोस्तोफस्की के नेतृत्व में अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों को कभी-कभी माइग्रेन की शिकायत होती है, उन्हें एक या दो बार कैफीन युक्त पेय पदार्थ लेने से उस दिन सिर दर्द नहीं हुआ लेकिन तीन कप या इससे अधिक कॉफी लेने से उस दिन या उससे अगले दिन उन्हें सिर दर्द हुआ. मोस्तोफस्की ने कहा, ‘‘हालांकि नींद पूरी नहीं होने समेत कई अन्य कारणों से भी माइग्रेन का खतरा बढ़ सकता है, लेकिन कैफीन की भूमिका विशेष रूप से जटिल है क्योंकि एक तरफ तो यह इसका खतरा बढ़ाती है, दूसरी तरफ यह इसके नियंत्रण में भी मददगार है.''

विराट कोहली बता रहे हैं कि स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के लिए क्यों जरूरी है सही टेक्नीक

Breastfeeding Week: 2022 तक हर महीने मनाया जाएगा स्तनपान जागरुकता सप्ताह

यह अध्ययन ऐसे 98 वयस्कों पर किया गया जिन्हें कभी-कभी माइग्रेन की शिकायत होती है.

और खबरों के लिए क्लिक करें


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------