होम »  हार्ट »  World Heart Day: हार्ट अटैक आने पर यूं बचाएं जान, क्या करें और क्या नहीं...

World Heart Day: हार्ट अटैक आने पर यूं बचाएं जान, क्या करें और क्या नहीं...

World Heart Day 2018: किस तरह आप किसी हार्ट पेशंट की बचा सकते हैं जान, जानें...

World Heart Day: हार्ट अटैक आने पर यूं बचाएं जान, क्या करें और क्या नहीं...

World Heart Day 2018 पर जानें हार्ट अटैक आने पर क्या करें और क्या नहीं.

World Heart Day: क्या हार्ट अटैक के लिए भी घरेलू उपाय होते हैं... यह सवाल कई लोगों के मन में उठता है. असल में बदलती जीवनशैली ने मानव शरीर में कई बीमारियों के लिए संभावना बढ़ा दी है. कुछ रोग तो साफ तौर पर लाइफस्टाइल की देन हैं. जिनमें हार्ट अटैक (Heart Attack), डायबिटीज, थायरोइड बहुत ही आम हो गए हैं और इनके मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. इसमें से हार्ट अटैक की समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिलती है. हर साल की तरह इस साल भी आपके दिल की सेहत के लिए World Heart Day मनाया जा रहा है. इस मौके पर हम आपको बताते हैं कि हार्ट अटैक (Heart Atack) आने की स्थिति में क्या प्राथमिक चिकित्सा यानी फस्ट एड (heart attack first aid) दी जा सकती है. 

इसके लिए जरूरी है कि आप हर्ट अटैक के शुरुआती लक्षणों को समझें (Early Signs and Symptoms of a Heart Attack). तो अगर आपके आस पास कोई इसकी चपेट में आ जाए और आप इसे भांप जाएं तो किस तरह आप बचा सकते हैं उसकी जान और क्या उपाय हैं जो आपको करने हैं उस हार्ट पेशंट के साथ ये हम आपको बताते हैं (What to do if you or someone may be having a heart attack) 


Reduced Sex Drive? 6 सुपरफूड जो बढ़ाएंगे आपकी लिबिडो

heart attack

World Heart Day 2018: सीमित मात्रा में और रात को हल्का खाना लेना अच्छी सेहत का मंत्र है.


दिल की बीमारियों का खतरा दोगुना कर सकता है HIV Infection

हार्ट अटैक आने पर आप क्या करें (First aid on Heart Attack in Hindi) : 

सबसे पहले बुलाएं मदद: जैसे ही आपको यह समझ आ जाए कि किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक (Heart Attack) आया है, तो सबसे पहले मेडिकल हेल्प के लिए कॉल करें. इसकी वजह यह है कि हो सकता है कि आप अपनी तरफ से पूरी कोशिश करें लेकिन यह रोग बिना मेडिकल हेल्प के ठीक नहीं होगा और मरीज को समय रहते इलाज मिल पाएगा. 

इस तरह दें दिल के मरीज को मदद : मेडिकल हेल्प को कॉल करने के बाद आपको हार्ट अटैक (Heart Attack) का सामना कर रहे व्यक्ति को एंबूलेंस या मदद आने तक मदद देनी है. इसके लिए उसे सीधा लेटा दें और उसके कपड़ों को ढीला कर दें. हो सकता है कि आसपास का माहौल गरमा गया हो और कई लोगों ने उन्हें घेर लिया हो, तो आप लोगों से दूर हट जाने और हवा आने की जगह छोड़ देने को कहें.

पल्स चेक करें: इसके बाद मरीज की पल्स चेक करें. कलाई की पल्स चेक करने से अच्छा है, गर्दन की साइड की पल्स चेक करें. अगर ब्लड प्रेशर कम है तो कलाई की पल्स पता ही नहीं चल पाती. 

ऑक्सीजन दें: इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आपको यह देखना है कि मरीज को सांस आ रही है या नहीं. अगर सांस नहीं आ रही तो उसे ऑक्सीजन देने की कोशिश करें. हो सकता है कि मरीज को नॉजिया फील हो या उबकाई आने लगे. ऐसे में उसे उल्टी करने को बोलें, ताकि शरीर के अन्य भागों जैसे लंग्स आदि में न जा सके.

सेक्स के बाद कितना जरूरी है यूरिन पास करना...

पैरों से दें मदद: पीड़ित के दोनों पैरों को उठा दें, ताकि हृदय तक ब्लड सप्लाई को सही किया जा सके.   
अगर व्यक्ति बेहोशी की हालत में है तो कार्डियोपलमिनरी रिसीसटैशन (सीपीआर) करें, अगर आप सीपीआर नहीं जानते, तो आप फिर भी पीड़ित की मदद कर सकते हैं. अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन इसका आसान वर्ज़न करने की सलाह देता है, जिसे हाथ से किया जाता है. 

kr138ff8

Photo Credit: iStock

World Heart Day 2018: अपने आहार में पोषक तत्वों की कमी न करते हुए हेल्दी डाइट लेना काफी महत्वपूर्ण है.

 

 

हार्ट अटैक आने पर क्या न करें (Heart Attack: Do's and Don'ts in Hindi): 

 

हार्ट अटैक आने पर जितना जरूरी यह जानना है कि आपको क्या करना है उतना ही जरूरी यह जानना भी है कि हार्ट अटैक के टाइम क्या न किया जाए. 

थम्पिंग और पंपिग के दौरान सावधान (Heart Palpitations): हम सब यह जानते हैं कि हार्ट अटैक के दौरान मरीज को थम्पिंग और पंपिग दी जानी चाहिए. लेकिन इस बात में भी सावधानी बरतने की जरूरत है. दिल की धड़कन जाने बिना थम्पिंग और पंपिग (दबाव और जबरदस्ती) करने से परहेज करना चाहिए.

खाने का रखें ध्यान: अगर आप समझ चुके हैं कि मरीज को हार्ट अटैक आया है और आप मेडिकल हेल्प का इंतजार कर रहे हैं तो इस दौरान पीड़ित को ऐसे में कुछ खिलाने की कोशिश न करें. एस्प्रिन ब्लड क्लॉट रोकने में मदद करती है कई डॉक्टर सलाह देते हैं कि एस्प्रिन सभी लोगों के लिए नहीं है. इसे इस्तेमाल करने के कुछ सुझाव हैं. यह तब मदद कर सकती है, जब इसकी जरूरत हो लेकिन अगर डॉक्टर की बिना सलाह लिए इसे दिया जाए, तो यह बहुत हानिकारक हो सकती है.

#worldHeartDay पर दिल से जुड़ी और खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

क्या यह लेख सहायक था हाँ or नहीं

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------