होम » अक्सर पूछे जाने वाले सवाल »  क्या सीकेडी ही बढ़े हुए ईएसआर की वजह है.

क्या सीकेडी ही बढ़े हुए ईएसआर की वजह है.

Q: मैं एक 53 साल का पुरुष हूं और मेरा वजन 80 किलो है. मुझे 40 फीसदी इजेक्शन फ्रेक्शन के साथ कार्डियो मायोपैथी के साथ ही डायबिटीक न्यूरोपैथी है. मेरी इएसआर रीडिंग 106-108 है. सीबीसी में इओसिनॉफिल में 10900 है. क्या सीकेडी ही बढ़े हुए ईएसआर की वजह है. अगर नहीं तो इसकी वजह क्या हो सकती है.

A:ईएसआर टेस्ट यानी एरिथ्रोसाइट सेडीमेन्टेशन रेट टेस्ट सूजन संबंधी रोगों की जांच के लिए किया जाता है. ईएसआर में एक लंबे, पतली ट्यूब में खून का सैंपल रखा जाता है. इस ट्यूब में घंटे भर बाद जो लाल रक्त कोशिकाएं नीचे आती हैं उन्हें ही मापा जाता है. एक घंटे में, जितनी लाल रक्त कणिकाएं ट्यूब में, नीचे बैठती हैं, सेडीमेंटेशन रेट भी उतनी ही ज्यादा होती है. एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट को जिसे सेडीमेंटेशन रेट या वेस्टरग्रेन ई.एस.आर टेस्ट भी कहा जाता है. इसमें लाल रक्त कणिकाओं की जांच की जाती है. इसमें सेडीमेंट की मात्रा का पता लगाया जाता है. एक आम हिमेटोलॉजी टेस्ट यानी रक्त जांच की तरह ही इस टेस्ट में शरीर में सूजन या संक्रमण का पता लगाया जाता है.
ईएसआर दो बीमारियों के लिए सबसे ठीक माना जाता है पोलिमेल्जिया रुमेटिका और टेम्पोरल आर्थराइटिस. आपके मामले में ईएसआर बढ़ा होने का मामला अंडरलाइंग रिनल डिस्ऑर्डर की वजह से हो सकता है. इस संक्रमण को खत्म करने के लिए दूसरा टेस्ट करा कर टोटल ल्यूकॉसाइट काउंट की जांच कराएं.

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com