होम »  ख़बरें »  यहां पढ़ें शरीर को डीटॉक्सीफाई करने के तरीके और फायदे...

यहां पढ़ें शरीर को डीटॉक्सीफाई करने के तरीके और फायदे...

Ways to Detoxify Your Body: यह शरीर का वजन घटाने में (Weight loss), उपवास के दौरान अंगों को आराम पहुंचाने, रक्त संचार सुधारने में और पसीना व मूत्र के जरिए से शरीर से दूषित पदार्थो को बाहर करने में मदद करता है.

यहां पढ़ें शरीर को डीटॉक्सीफाई करने के तरीके और फायदे...

Ways to Detoxify Your Body: स्वस्थ जीवनशैली पाने के लिए डीटॉक्सीफिकेशन (Detoxification) एक अच्छा विकल्प है. यह शरीर का वजन घटाने में (Weight loss), उपवास के दौरान अंगों को आराम पहुंचाने, रक्त संचार सुधारने में और पसीना व मूत्र के जरिए से शरीर से दूषित पदार्थो को बाहर करने में मदद करता है. इसके साथ ही साथ यह शरीर को स्वस्थ पोषण भी देता है. डीटॉक्सीफिकेशन (Detoxification) के दौरान कुछ बातों को ध्यान में रखना बेहद जरूरी है. इस बात का ध्यान रखें कि जब भी आप डीटॉक्सीफिकेशन के बारे में सोचे तों इसके लिए किसी विशेषज्ञ की मदद लें. अपनी डाइट में सिर्फ हर्बल (प्राकृतिक) पदार्थो को ही शामिल करें, क्योंकि इनके साइड इफेक्ट नहीं होते.

कैसे करें डीटॉक्सीफिकेशन (How to Detoxify Your Body) 
अगर आप डीटॉक्सीफिकेशन के बारे में सोच रहे हैं तो आयुर्वेदिक परामर्श लें और प्राकृतिक उपचार अपनाएं. व्यायाम सबसे जरूरी चीज है. सिर्फ पोषण विशेषज्ञ द्वारा आपके शरीर के हिसाब से बताए गए आहार का ही सेवन करें. इन अच्छी आदतों को अपनाने से आपके शरीर को हमेशा ऊर्जावान रहने में मदद मिलेगी, ताकि आप उत्साह के साथ अपने काम का आनंद ले सकें. हीलयोरबॉडी एक ऐसा मंच है जो आपको अपने शरीर की मांग को समझने और ऊर्जा प्राप्त करने और स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्राकृतिक उपचार प्रदान करने में मदद करेगा.


सर्दियों में डायबिटीज के मरीज दें ध्यान, 5 सब्जियां करेंगी ब्लड शुगर कंट्रोल

अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के एक सर्वेक्षण से पता चलता है कि करीब 43 फीसदी कार्यबल सप्ताह के ज्यादातर दिनों में थकान महसूस करते हैं. इन आंकड़ों को देखकर पता लगता है कि लोगों की कितनी बड़ी संख्या है जिन्हें अपनी जीवनशैली का मूल्यांकन करने की जरूरत है. 

कौन सा तरीका होगा बेहतर 
कई लोगों के मन में यह धारणा होती है कि रोजाना एक निश्चित व्यवस्था का अनुसरण करने से शरीर डीटॉक्सीफाई होता है और ऊर्जा वापस आती है. लेकिन यह गलत भी हो सकता है. इसलिए आपको समझने की जरूरत है कि आपके शरीर पर कौन सा तरीका सबसे अच्छी तरह कारगर होगा.

क्या कहते हैं रिसर्च 
ब्रिटिश डायटिक एसोसिएशन लि. की एक रिपोर्ट से पता चलता है कि डीटॉक्सीफिकेशन हमेशा सफल नहीं होगा. इस अध्ययन के निष्कर्षो से पता चलता है कि ज्यादा डीटोक्स केवल गुर्दे का होता है और उसका केवल अल्पकालिक लाभ होता है. इसमें बताया गया है कि डीटोक्स के दौरान लिए जाने वाले आहार को बाजार में केवल जानवरों पर परीक्षण कर बेचा जा रहा है और उसका किसी प्रकार का रैंडमाइज कंट्रोल्ड परीक्षण नहीं किया जाता. इसलिए किसी भी डीटॉक्स कार्यक्रम को अपनाने से पहले इसकी प्रभावकारिता को जांच लेनी चाहिए. 


कैसी होती है डीटॉक्सीफिकेशन डाइट 
हालांकि लोग स्वस्थ जीवनशैली के साथ डीटोक्सीफिकेशन के लिए अगर किसी डाइट को अपनाते हैं तो हमेशा विशेषज्ञ की सिफारिश के बाद ही किसी डाइट को अपनाना चाहिए. किसी प्रकार के ड्रग या अल्कोहल के माध्यम से डीटॉक्सीफिकेशन करना कुछ मामलों में खतरनाक भी हो सकता है. इससे लोगों को खूब पसीना आना, उल्टी आना, दस्त लगना, मतली, कंपकंपी और व्यग्रता जैसे दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं.

(इनपुट आईएएनएस)

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------