होम »  ख़बरें »  ई सिगरेट सेहत के लिए हानिकारक, सरकार ने लगाया बैन जानिए क्या है नुकसान और कैसे छोड़े इसकी लत

ई सिगरेट सेहत के लिए हानिकारक, सरकार ने लगाया बैन जानिए क्या है नुकसान और कैसे छोड़े इसकी लत

Cigarette inserts affect health : कैबिनेट ने ई-सिगरेट को बैन करने का फैसला लिया है. साथ ही फैसले पर अमल के लिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई बैठक में कैबिनेट यह फैसला लिया.

ई सिगरेट सेहत के लिए हानिकारक, सरकार ने लगाया बैन जानिए क्या है नुकसान और कैसे छोड़े इसकी लत

E-Cigarettes and Lung Health : कैबिनेट ने ई-सिगरेट को बैन (Govt Bans Production and Sale of E-Cigarettes) करने का फैसला लिया है. साथ ही फैसले पर अमल के लिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई बैठक में कैबिनेट यह फैसला लिया. कैबिनेट ने भारत में ई-सिगरेट (E-Cigarettes) के उत्पादन, बिक्री, इंपोर्ट, एक्सपोर्ट, स्टोरेज और विज्ञापन पर बैन लगा दिया गया है. युवाओं में नशे की लत एक गंभीर समस्या बनती जा रही है. ई-सिगरेट प्रोवाइडर कंपनियां जानबूझकर बबलगम, कैप्टन क्रंच और कॉटन कैंडी जैसे फ्लेवर का इस्तेमाल करके युवाओं को ई-सिगरेट की और लुभा रही हैं. दुनियाभर के स्मोकिंग लवर्स के बीच ई-सिगरेट काफी पॉपुलर है. खासतौर पर यूथ के बीच इसका क्रेज देखा जा सकता है. 

न्यूयॉर्क में ई-सिगरेट बैन, जानें सिगरेट पीने की आदत से कैसे छुटकारा पाएं

e cigarette 620

Cigarette smoking :  ई सिगरेट के सेवन से आपको फैफड़ों से जुड़ी कई बीमारियां हो सकती हैं.

क्या होती है ई-सिगरेट | What are e-cigarettes? 

ई-सिगरेट एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक इनहेलर होता है, जिसमें निकोटिन और दूसरे लिक्विड केमिकल भरे जाते हैं. इस इनहेलर बैट्री होने से लिक्विड को भाप में बदल देता है. इससे पीने वाले को सिगरेट पीने जैसा अहसास होता है. ऐसे उपकरणों को ईएनडीएस कहा जाता है, जिनका इस्तेमाल किसी घोल को गर्म कर एरोसोल बनाने के लिए किया जाता है, जिसमें कई तरह के स्वाद होते हैं. ई-सिगरेट में जिस लिक्विड का इस्तेमाल किया जाता है, वह कई बार निकोटिन होता है. इसके अलावा कुछ ई-सिगरेट में फॉर्मलडिहाइड का इस्तेमाल किया जाता है, जो कैंसरकारी है.

ये पांच चाय आपके सेहत के लिए है फायदेमंद, जानिए कैसे

क्या है ई-सिगरेट के नुकसान | Health Risks of E-cigarettes

ई सिगरेट का सेवन करने से डिप्रेशन होने की संभावना दोगुनी हो जाती है. एक शोध के मुताबिक जो लोग ई सिगरेट का सेवन करते हैं, उन्हें हार्ट अटैक का खतरा 56 प्रतिशत तक बढ़ जाता है. वहीं लंबे समय तक इसका सेवन करने से ब्लड क्लॉट की समस्या भी पैदा हो सकती है.

दिल्ली में कोई नहीं है Non-smoker, बच्चे से लेकर बूढ़े तक रोज पीते हैं 7 सिगरेट!

नियम तोड़ा तो होगा जुर्माना और सजा | Why did the govt ban E-cigarettes

अध्यादेश में हेल्थ मिनिस्ट्री ने पहली बार नियमों के उल्लंघन पर एक साल तक की जेल और एक लाख रुपये का जुर्माने का प्रस्ताव दिया है. एक से अधिक बार नियम तोड़ने पर मिनिस्ट्री ने पांच लाख रुपये जुर्माना और तीन साल तक जेल की सिफारिश की है.

न्यूयॉर्क में बैन हुई फ्लेवर्ड ई-सिगरेट : नकारात्मक प्रभाव को देखते हुए न्यू यॉर्क सिटी में इस पर बैन लगा दिया गया है. मंगलवार को न्यू यॉर्क ई सिगरेट पर बैन लगाने वाला दूसरा स्टेट बना गया है.  न्यू यॉर्क के डोमेस्टिक गवर्नर ने टीनेजर्स और यूथ के बीच इस सिगरेट से बढ़ रही फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों की बढ़ती संख्या पर चिंता जताते हुए इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। इसके बाद यहां ई-सिगरेट को पूरी तरह बैन कर दिया गया है. 

थर्ड हैंड सिगरेट है खतरनाक, जानिए क्या होते हैं नुकसान

कैसे छोड़े ई सिगरेट की लत : जब कभी आपको ई सिगरेट पीने की इच्छा होती है तो कुछ ऐसी चीजों का सेवन करें जो आपका ध्यान इससे हटा दें. इससे आपकी लत धीरे-धीरे कम होती चली जाएगी. जब ऐसा रोजाना करने लगोगे तो एक दिन आपकीयह लत हमेशा के लिए बंद हो जाएगी.

हेल्थ से जुड़ी खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------