होम »  ख़बरें »  Covid Patients एक साल बाद भी थकान और सांस लेने की तकलीफ से हैं परेशान : स्टडी

Covid Patients एक साल बाद भी थकान और सांस लेने की तकलीफ से हैं परेशान : स्टडी

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल द लैंसेट फ्राइडे में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि कोविड से ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने वाले लगभग आधे मरीज अभी भी कम से कम एक लक्षण से लगातार पीड़ित हैं, जिनमें 12 महीने के बाद सबसे अधिक बार थकान या मांसपेशियों में कमजोरी शामिल है.

Covid Patients एक साल बाद भी थकान और सांस लेने की तकलीफ से हैं परेशान : स्टडी

थकान और सांस की तकलीफ अभी भी कई रोगियों को परेशान करती है.

महामारी के लंबे समय तक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों की बेहतर समझ के लिए किए गए एक नए चीनी अध्ययन के अनुसार कोविड से ठीक होने और अस्पताल से छुट्टी मिलने के एक साल बाद भी थकान और सांस की तकलीफ कई रोगियों को परेशान करती है. ब्रिटिश मेडिकल जर्नल द लैंसेट फ्राइडे में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि आधे मरीज अभी भी कम से कम एक लक्षण से लगातार पीड़ित हैं, जिनमें 12 महीने के बाद सबसे अधिक बार थकान या मांसपेशियों में कमजोरी शामिल है.

"लॉन्ग कोविड" के रूप में जानी जाने वाली समस्या पर अब तक के सबसे बड़े शोध में कहा गया है कि निदान के एक साल बाद भी तीन रोगियों में से एक को सांस की तकलीफ है. बीमारी से अधिक गंभीर रूप से प्रभावित रोगियों में यह संख्या और भी अधिक है.

जुकाम-खांसी लगातार कर रहे परेशान, तो देर क्यों कर रहे हैं इन 5 फूड्स को आज से ही खाना शुरू करें


द लैंसेट ने अध्ययन के साथ प्रकाशित एक संपादकीय में कहा, "बिना किसी सिद्ध उपचार या पुनर्वास मार्गदर्शन के लंबे समय तक कोविड लोगों की सामान्य जीवन को फिर से शुरू करने और काम करने की क्षमता को प्रभावित करता है."

"अध्ययन से पता चलता है कि कई रोगियों के लिए कोविड-19 से पूरी तरह से ठीक होने में 1 साल से अधिक समय लगेगा."

मध्य चीनी शहर वुहान में जनवरी और मई 2020 के बीच कोविड के लिए अस्पताल में भर्ती लगभग 1,300 लोगों का अध्ययन किया गया. यह महामारी से प्रभावित पहली जगह थी जिसने दुनिया भर में 214 मिलियन लोगों को संक्रमित किया है, जिसमें 4 मिलियन से अधिक लोग मारे गए हैं. कम से कम एक लक्षण वाले देखे गए रोगियों की संख्या छह महीने के बाद 68 प्रतिशत से घटकर 12 महीने के बाद 49 प्रतिशत हो गई.

लंबाई कैसे बढाएं? जानें लंबाई बढ़ाने के लिए क्‍या खाएं, कैसी हो बढ़ती उम्र में बच्चों की डाइट

इसमें कहा गया है कि छह महीने के बाद 26 प्रतिशत रोगियों से सांस लेने में तकलीफ 12 महीने के बाद बढ़कर 30 प्रतिशत हो गई. यह पाया गया कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थकान या लगातार मांसपेशियों की कमजोरी से पीड़ित होने की संभावना 43 प्रतिशत अधिक थी और चिंता या अवसाद से पीड़ित होने की संभावना दोगुनी थी.

अध्ययन में पिछले शोध की कुछ बातों को कोट किया गया है जिसमें कई देशों में अधिकारियों को चेतावनी दी गई थी कि उन्हें कोविड से प्रभावित हेल्थ वर्कर्स और रोगियों को लॉन्ग टर्म सपोर्ट देने के लिए तैयार रहना चाहिए.

एडिटोरियल का कहना है कि, "लॉन्ग कोविड एक आधुनिक चिकित्सा चुनौती है," इस स्थिति को समझने और इससे पीड़ित रोगियों की बेहतर देखभाल के लिए और अधिक शोध की जरूरत है."

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

Type 2 Diabetes: क्या है टाइप-2 डायबिटीज, जानिए कारण और बचाव के उपाय

Narcolepsy: नींद को कंट्रोल कर पाना हो रहा है मुश्किल ? नार्कोलेप्सी के हो सकते हैं लक्षण, जानिए कारण और उपाय


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Multivitamin Tablets: नुकसान भी पहुंचा सकती हैं मल्टीविटामिन की गोलियां, खाने से पहले जान लें ये जरूरी बातें



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------