होम »  लिविंग हेल्दी »  कमर, हिप्स, पेल्विस और ब्रेस्ट में होता है दर्द, वजह हो सकता है ये खतरनाक स्पॉन्डिलाइटिस!

कमर, हिप्स, पेल्विस और ब्रेस्ट में होता है दर्द, वजह हो सकता है ये खतरनाक स्पॉन्डिलाइटिस!

कमर दर्द, हिप्स में पेन, ब्रेस्ट या पेल्विस पेन की शिकायत हो सकती है. ज्यादारत लोग इसे गलत तरीके से सो जाने की वजह से मानकर छोड़ देते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह सभी एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (Ankylosing Spondylitis) के लक्षण हो सकते हैं.

कमर, हिप्स, पेल्विस और ब्रेस्ट में होता है दर्द, वजह हो सकता है ये खतरनाक स्पॉन्डिलाइटिस!

अक्सर लोगों को कमर दर्द, हिप्स में पेन, ब्रेस्ट या पेल्विस पेन की शिकायत हो सकती है. ज्यादारत लोग इसे गलत तरीके से सो जाने की वजह से मानकर छोड़ देते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह सभी एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (Ankylosing Spondylitis) के लक्षण हो सकते हैं. कई लोग यह सवाल पूछते हैं कि एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस क्या होता है और एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से बचाव के उपाय क्या हैं. असल में एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस एक इंफ्लेमेटरी और ऑटोइम्यून बीमारी है, जो रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करती है. एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के लक्षण - एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के चलते कमर, पेल्विस और नितंबों यानी ब्रेस्ट में दर्द हो सकता है. इसके प्रमुख लक्षण हैं. वैसे यह बीमारी पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है. एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस दिवस चार मई को मनाया जाता है. इस अवसर पर यह जानना बेहद अहम है कि इस बीमारी से पीड़ित मरीजों के आंकड़े कम मिलते हैं. पूरी दुनिया में 100 में से अमूमन एक वयस्क इस क्रॉनिक बीमारी से पीड़ित है. इस बीमारी में रीढ़ की हड्डियां आपस में गुंथ जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप रीढ़ की हड्डी सख्त हो जाती है. 

Health Care Tips: महिलाओं के लिए सेहत के टिप्स

क्या होता है एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस, इसके शुरुआती लक्षण, इलाज और बचाव के उपाय


शोध के अनुसार, इस बीमारी की पहचान होने में आमतौर पर औसतन 7 से 10 साल की देरी होती है. इस बीमारी के शुरुआती चरण में, मरीज को अक्सर कमर दर्द की शिकायत रहती है और इससे आमतौर पर बीमारी का पता लगने में देरी होती है. कई बार मरीजों को इस बारे में पता नहीं होता है. विशेषज्ञों का कहना है कि रीढ़ की हड्डियों के दर्द की शिकायत होने पर रूमेटोलॉजिस्ट की सलाह लेनी चाहिए. 

भविष्य में कम रोमांटिक होते हैं प्रिमिच्यॉर बेबी! पढ़ें पूरी रिपोर्ट

एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस का इलाज

इस बीमारी में विशेषज्ञ एनएसएआईडी (नॉन स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेंटरी दवाएं) लेने की सलाह दे सकते हैं. इसके बाद रोग में सुधार वाली दवाएं या टीएनएफ ब्लॉकर्स जैसी बायोलॉजिक्स दे सकते हैं. मुंबई स्थित क्वेस्ट क्लीनिक के चिकित्सक डॉ. सुशांत शिंदे ने कहा, "रूमेटोलॉजिस्ट एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित लोगों के इलाज के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित होता है. इसलिए रूमेटोलॉजिस्ट की सलाह जरूर लेनी चाहिए. इसके इलाज के लिए बायोलॉजिक्स थेरेपी बेहतर विकल्प हैं, जिससे इस बीमारी से पीड़ित मरीजों की जिंदगी बदल सकती है."

सेक्स लाइफ: औरतों के मुकाबले मर्दों में तीन गुना ज्यादा होती है यह चीज

नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एम्स) के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. दानवीर भादू ने कहा, "एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से शरीर में कमजोरी आती है. बायोलॉजिक थेरेपी से शरीर की संरचनात्मक प्रक्रिया में नुकसान को कम किया जा सकता है. इससे और मरीजों को चलने-फिरने होने वाली तकलीफ से निजात मिल सकती है."

एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की दवा

उन्होंने कहा, "मरीजों में एलोपैथिक दवा के साइड इफेक्ट्स का डर और गैर-पारंपरिक दवाइयों की शाखा जैसे होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक और यूनानी जैसी चिकित्सा पद्धति पर उनका विश्वास बना हुआ है. वैकल्पिक दवाएं लेने से रीढ़ की हड्डी के बीच कोई और हड्डी पनपने का खतरा रहता है, जिससे वह पूरी तरह सख्त हो सकती है और मरीज के व्हील चेयर पर आने का खतरा रहता है." 

ऑर्गेज्म तक न पहुंच पाने के ये हो सकते हैं कारण, आपको भी जरूर जानने चाहिए

एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से बचाव के उपाय -

व्यायाम : सुबह के समय कमर, पेल्विस तथा नितंबों का सख्त हो जाना इस रोग के मुख्य लक्षण हैं, लेकिन सही तरीके से व्यायाम करने से आराम मिल सकता है. व्यायाम शुरू करने से पहले फिजियोथेरेपिस्ट की सलाह लाभदायक हो सकता है. 

सख्त गद्दे का प्रयोग : पीठ के बल सख्त गद्दे पर सोने से भी लाभ मिल सकता है. घुटनों या सिर के तकिया नहीं लेना चाहिए. 

गुनगुने पानी से स्नान : चिकित्सकों के अनुसार, गुनगुने पानी से नहाने से एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के दर्द और कड़कपन में काफी राहत मिलने में मदद मिलती है. गुनगुने पानी से स्नान के बाद स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करना दर्द और कड़कपन को दूर करने के लिए अच्छा होता है. दर्द से राहत पाने का अन्य प्राकृतिक तरीका है - दर्द वाले स्थान और शरीर के हिस्सों पर हॉट और कोल्ड सिकाई. 

8 वजहें, आखिर क्यों महिलाओं के लिए अच्छा है हस्तमैथुन, जानें लाइफस्टाइल कोच लुक कुटिनो से

एक्यूपंचर तथा मसाज थेरेपी : मसाज करवाने से भी आराम मिलता है. एक्यूपंचर थेरेपी से शरीर के दर्द से राहत दिलाने वाले हॉर्मोन्स सक्रिय हो जाते हैं. हालांकि, मसाज थेरेपी के लिए फिजियोथेरेपिस्ट की सलाह लेना जरूरी है.

धू्म्रपान बंद करें : चिकित्सकों का कहना है कि धूम्रपान करने वालों को, खासतौर से पुरुषों को इस बीमारी का खतरा ज्यादा होता है. धू्म्रपान बंद करने से सेहत में सुधार होता है.

और खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

घरेलू नुस्खे

Skin Care Tips: चेहरे के दाग-धब्बों, झुर्रियों को इन 5 सुपरफूड्स से करें दूर! हमेशा दिखें जवां

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------