होम »  लिविंग हेल्दी & nbsp;»  Stretching Exercises: क्या वर्कआउट के बाद भी स्ट्रेचिंग करनी चाहिए? जानें स्ट्रेच करने का सही समय और फायदे

Stretching Exercises: क्या वर्कआउट के बाद भी स्ट्रेचिंग करनी चाहिए? जानें स्ट्रेच करने का सही समय और फायदे

Workout And Stretching Exercise: स्ट्रेचिंग करने से हमारी मांसपेशियां गर्म होती हैं और गर्म मांसपेशियां अधिक लचीली होती हैं, लेकिन यह वह समय है जो आपके फिटनेस टारगेट को बना या बिगाड़ सकता है. ऐसे में स्ट्रेचिंग करने का सही समय पता होना चाहिए.

Stretching Exercises: क्या वर्कआउट के बाद भी स्ट्रेचिंग करनी चाहिए? जानें स्ट्रेच करने का सही समय और फायदे

Stretching Exercises: स्ट्रेचिंग करने से हमारी मांसपेशियां गर्म होती हैं

खास बातें

  1. स्ट्रेचिंग हमेशा ही वर्कआउट रुटीन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है.
  2. स्ट्रेच करने के फायदों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.
  3. खासकर जब आप एक वर्कआउट रुटीन फॉलो कर रहे हों.

Benefits Of Stretching Exercise: स्ट्रेचिंग हमेशा एक अच्छी तरह गोल वर्कआउट रुटीन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है. भले ही हम स्ट्रेचिंग के महत्व को जानते हैं, लेकिन हम में से कुछ ही इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं या इसे सही तरीके से करते हैं. स्ट्रेच करने के फायदों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. खासकर जब आप एक वर्कआउट रुटीन फॉलो कर रहे हों. स्ट्रेचिंग करने से हमारी मांसपेशियां गर्म होती हैं और गर्म मांसपेशियां अधिक लचीली होती हैं, लेकिन यह वह समय है जो आपके फिटनेस टारगेट को बना या बिगाड़ सकता है. ऐसे में स्ट्रेचिंग करने का सही समय पता होना चाहिए.

ये 7 काम करने से इम्यूनिटी बढ़ने की जगह कमजोर हो सकती है, आज से ही छोड़ दें

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करने के फायदे | Benefits Of Doing Stretching Exercises


यहां तक कि अगर आप ऐसे व्यक्ति हैं जो हफ्ते में एक या दो बार व्यायाम करते हैं, तो भी स्ट्रेचिंग आपके वर्कआउट रुटीन का हिस्सा होना चाहिए. यह आपकी मांसपेशियों को लचीला रखने में मदद करता है और किसी भी व्यायाम को करते समय गति की सीमा को बढ़ाता है, जिससे चोट, मांसपेशियों में खिंचाव या जोड़ों के दर्द का खतरा कम होता है, लेकिन स्ट्रेचिंग इतना आसान नहीं है जितना लगता है और इसे अपने रुटीन में शामिल करते समय आपको सावधान रहने की जरूरत है. स्ट्रेचिंग को मोटे तौर पर दो में वर्गीकृत किया जाता है- डायनेमिक और स्टेटिक स्ट्रेचिंग- और दोनों आपके वर्कआउट रुटीन के एक अलग बिंदु पर प्रदर्शन करते समय अलग-अलग तरीकों से आपकी मदद करते हैं.

बालों की ग्रोथ को तेजी से बढ़ाने के लिए आंवला का इन 6 तरीकों से करें इस्तेमाल, जल्द घने होंगे बाल


स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करने का सही समय | The Right Time To Do Stretching Exercises

हाल के दिनों में किए गए कुछ शोध बताते हैं कि प्री-एक्सरसाइज, स्टैटिक स्ट्रेचिंग आपके शारीरिक प्रदर्शन को सीमित कर सकती है. इसका मतलब यह नहीं है कि आपको स्टैटिक स्ट्रेचिंग को छोड़ देना चाहिए, बस टाइमिंग में बदलाव करना चाहिए. इसे वार्म-अप सेशन में शामिल करने के बजाय, इसे कूल-डाउन स्टेप के लिए रखें. ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टैटिक स्ट्रेचिंग मांसपेशियों पर सबसे अच्छा काम करती है जब वे ठीक से गर्म और अधिक लचीली होती हैं. स्ट्रेचिंग सूक्ष्म क्षति के कारण शरीर में सूजन को कम नहीं करेगा, लेकिन यह आपके शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है. यह पोषक तत्वों और ऑक्सीजन को शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंचाने में मदद कर सकता है और मांसपेशियों को तेजी से ठीक होने में मदद कर सकता है.

वार्म-अप सेशन में आपको क्या करना चाहिए | What You Should Do During The Warm-up Session

डायनेमिक स्ट्रेचिंग के साथ अपने वर्कआउट की शुरुआत करना एक बेहतर विकल्प है. इस प्रकार की स्ट्रेचिंग गति की सीमा में सुधार करने में मदद करती है और एक गहन वर्कआउट सेशन के लिए आपकी मांसपेशियों को तैयार करके चोटों को कम करती है. डायनेमिक स्ट्रेचिंग में गतिविधियों की एक सक्रिय श्रृंखला शामिल होती है जो आपकी रोजमर्रा की गतिविधि से मिलती जुलती होती है. शरीर के मुख्य तापमान को बढ़ाती है और शरीर को तेज गति के लिए तैयार करती है.

Foods For Healthy Liver: लीवर को मजबूत कर इसकी कैपेसिटी बढ़ाने के लिए इन 6 फूड्स का करें सेवन

मां-बाप की इस कमी से होता है बच्चे को थैलेसीमिया

स्टेटिक बनाम डायनेमिक स्ट्रेचिंग?

स्टैटिक स्ट्रेचिंग में, आपको एक एस्टेंडेड पीरियड्स के लिए एक पोज बना करके एक मांसपेशी समूह को फैलाना होता है और पूरे शरीर को हिलाना नहीं पड़ता है. इस तरह की स्ट्रेचिंग आपकी मांसपेशियों को सिकोड़ने या जोड़ने में आपकी मदद नहीं करती है. इसके बजाय, यह उन्हें आराम देता है और इसलिए इसे एक प्रकार का पैसिव स्ट्रेचिंग माना जाता है. शोल्डर स्ट्रेच, साइड बेंड और लैट पुल स्टैटिक स्ट्रेचिंग के कुछ उदाहरण हैं.

दूसरी ओर, डायनेमिक स्ट्रेचिंग, स्ट्रेचिंग का एक सक्रिय रूप है जहां आपको लगातार चलना होता है. यह पूरे शरीर की गति है और इसके लिए अधिक कॉर्डिनेशन की जरूरत होती है. बर्ड डॉग्स, वॉकिंग लंजेस डायनेमिक स्ट्रेचिंग के कुछ उदाहरण हैं.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

वर्क फ्रॉम होम में अकड़ गई है कमर? तो राहत पाने के लिए फायदेमंद हैं ये 3 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज

वेट लॉस डाइट पर हैं? प्रभावी ढंग से वजन कम करने के लिए इन 8 जरूरी टिप्स को फॉलो करें


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

काले जामुन के स्वास्थ्य लाभों को न करें मिस, जानें क्यों आज से ही करना चाहिए डाइट में शामिल

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

--------------------------------विज्ञापन---------------------------------- -