होम »  लिविंग हेल्दी »  Newborn Care Tips: ठंड के मौसम में कैसे करें नवजात बच्चों की देखभाल? पेरेंट्स के लिए यहां है शानदार टिप्स!

Newborn Care Tips: ठंड के मौसम में कैसे करें नवजात बच्चों की देखभाल? पेरेंट्स के लिए यहां है शानदार टिप्स!

Newborn Care During Winter Season: नवजात शिशु बेहद नाजुक होते हैं. कठोर ठंड के मौसम में अपने नवजात शिशु को सुरक्षित रखना महत्वपूर्ण है. यहां विशेषज्ञ से कुछ दिशानिर्देश दिए गए हैं जो सर्दियों के दौरान आपके नवजात शिशुओं की रक्षा (Newborn Care) करने में मदद कर सकते हैं.

Newborn Care Tips: ठंड के मौसम में कैसे करें नवजात बच्चों की देखभाल? पेरेंट्स के लिए यहां है शानदार टिप्स!

कम तापमान से लड़ने के लिए सर्दियों में नवजात शिशुओं को अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता होती है

खास बातें

  1. नवजात शिशु की त्वचा बेहद नाजुक होती है.
  2. शुष्क त्वचा को रोकने के लिए अक्सर एक मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें.
  3. जलन को रोकने के लिए ऊनी के नीचे कॉटन के कपड़े पहनें.

Newly Born Baby Care Tips: सर्दियों के मौसम के आगमन के साथ तापमान में गिरावट नवजात शिशुओं को सामान्य सर्दी, फ्लू (Cold-Flu) इत्यादि जैसे संक्रमणों की चपेट में ले आती है, और उन्हें त्वचा की स्थिति के विकास और हाइपोथर्मिया की घटना (शरीर के तापमान में गिरावट) के लिए प्रेरित करती है. ऐसे समय के दौरान, नवजात शिशुओं को संक्रमण को रोकने और इष्टतम विकास को बढ़ावा देने के लिए विशेष देखभाल और ध्यान देने की आवश्यकता होती है. सर्दियों के दौरान वायरल संक्रमण (Viral Infection) अधिक आम है और कई संभावित कारणों से हो सकता है. आम तौर पर नाक और फेफड़े बलगम को स्रावित करते हैं जो वायरस और अन्य रोगाणुओं को जाल में डालते हैं जब वे वायुमार्ग में प्रवेश करते हैं और सिलिया (एक विशेष दिशा में घूमने वाली कोशिकाओं के अनुमान) द्वारा साफ हो जाते हैं.

वजन घटाने और बेहतर पाचन के लिए है जबरदस्त है काली मिर्च और लौंग का पानी, सुबह करें सेवन!

ठंडी और शुष्क सर्दियों की हवा इन स्रावों को सूखा देती है. मोटे स्राव को आसानी से साफ नहीं किया जा सकता है और इसलिए रोगाणुओं के लिए वायुमार्ग को संक्रमित करना आसान हो जाता है. इसके अलावा, कुछ वायरस उदाहरण के लिए राइनोवायरस (सामान्य कोल्ड वायरस), इन्फ्लूएंजा वायरस (फ्लू वायरस) कम तापमान पर बेहतर रूप से जीवित रहते हैं और इसलिए तेजी से फैलते हैं, जिससे सर्दी के महीनों में संक्रमण फैलता है.


सर्दियों के मौसम में नवजात शिशु की कोमल त्वचा की देखभाल कैसे करें?

कठोर सर्दियों के मौसम में नवजात शिशु की त्वचा कमजोर होती है. सर्दी के महीनों में एटोपिक डर्मेटाइटिस (त्वचा की एलर्जी की बीमारी) जैसे रोग बिगड़ जाते हैं. शिशुओं को शुष्क त्वचा विकसित करने के लिए इसके सबसे ऊपरी परतों को छीलने और खुजली (सर्दियों में जिल्द की सूजन) होने का भी खतरा होता है. स्वस्थ त्वचा को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण है त्वचा की अच्छी जलयोजन (पानी की मात्रा) बनाए रखना और त्वचा क्रीम / लोशन के अति प्रयोग से बचना. आपके बच्चे को नहलाते समय माता-पिता नीचे सूचीबद्ध निर्देशों का पालन कर सकते हैं.

इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ काढ़ा के और भी फायदे लेने के लिए जान लें क्या करना चाहिए और क्या नहीं?

- अपने बच्चे को प्रतिदिन या वैकल्पिक दिनों में गुनगुने पानी में नहलाएं.
- नहाने से पहले नारियल के तेल, बादाम के तेल आदि जैसे तेलों का उपयोग करके बच्चे की मालिश करना, अन्य लाभकारी चीजों के बीच त्वचा की नमी को बनाए रखने में मदद करता है.
- नहाने के बाद त्वचा को पूरी तरह से न सुखाएं. पानी को धीरे से पोंछने के लिए एक मुलायम सूती कपड़े का उपयोग करें और स्नान के तुरंत बाद एक सफ़ेद नरम आयल लगाएं.
- उन मॉइस्चराइजर का उपयोग करने से बचें, जिनमें जोड़ा संरक्षक और रसायन होते हैं.
- माइल्ड सोप का इस्तेमाल करें। शिशुओं / बच्चों को स्नान करने के लिए एंटीसेप्टिक्स वाले साबुन का नियमित उपयोग करने की कोई आवश्यकता नहीं है.
- अपने बाल रोग विशेषज्ञ या त्वचा विशेषज्ञ से संपर्क करें यदि आपको बहुत शुष्क त्वचा, लालिमा या खुजली दिखाई देती है.

afkiumtसर्दियों में अपने बच्चे को नहलाने के लिए गुनगुने पानी का उपयोग करें

बचपन में उचित स्किनकेयर प्रथाओं द्वारा एटोपिक जिल्द की सूजन (एटोपिक मार्च) जैसी बीमारियों की प्रगति को काफी कम किया जा सकता है. अगर माता-पिता या भाई-बहनों को एटोपी का इतिहास है (अत्यधिक छींकने, धूल एलर्जी, अस्थमा, त्वचा के घावों आदि के द्वारा सुझाया गया है), तो कृपया अपने डॉक्टर से मदद लें.

ओवर एक्सरसाइजिंग से कमजोर होती है इम्यूनिटी, जान लें ज्यादा एक्सरसाइज करने के 10 नुकसान!

शिशु के शरीर के सामान्य तापमान को कैसे बनाए रखें? | How To Maintain Normal Body Temperature Of Baby?

बड़े बच्चे और वयस्क आसानी से सर्दी के ठंडे तापमान के अनुकूल हो जाते हैं, लेकिन नए जन्मे शिशुओं को हाइपोथर्मिया (शरीर का कम तापमान) होने का खतरा होता है. जब बच्चे का तापमान बेहद कम स्तर पर पहुंच जाता है, तो परिणामी विचलन के खतरनाक परिणाम हो सकते हैं. बच्चे को छूने के लिए गर्म होना चाहिए, दोनों पेट / पीठ पर और हाथों और पैरों पर. तापमान को जांचने के लिए थर्मामीटर का उपयोग किया जा सकता है और यह अक्ष पर 36.5 से 37.5 डिग्री सेल्सियस के बीच होना चाहिए. शिशु के सामान्य तापमान को बनाए रखने के लिए व्यक्ति निम्नलिखित अभ्यास कर सकता है.

- बच्चे को पर्याप्त रूप से पोशाक दें
- हमेशा सिर को ढक कर रखें क्योंकि यह शरीर के सतह क्षेत्र के एक बड़े हिस्से में योगदान देता है.
- हाथों और पैरों को ढकने की जरूरत है। कमरे के तापमान को 25 से 27 डिग्री पर बनाए रखा जाना चाहिए. अगर आवश्यक हो तो सभी सुरक्षा सावधानियों के साथ एक रूम हीटर का उपयोग करें.
- मां, पिता या परिवार के किसी भी सदस्य के साथ त्वचा से त्वचा का संपर्क (कंगारू मदर केयर) शरीर के सामान्य तापमान को बनाए रखने का एक सुरक्षित, प्रभावी और वैज्ञानिक रूप से सिद्ध तरीका है. यह उन नवजात शिशुओं के लिए बहुत लाभकारी है जो कम वजन वाले या समय से पहले जन्म लेते हैं.
- शिशुओं के अतिरंजित ड्रेसिंग को रोकना भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे हाइपरथर्मिया (शरीर का अत्यधिक तापमान) होता है जो खतरनाक हो सकता है.

Blood Pressure Mistakes: घर पर ब्लड प्रेशर की जांच करते समय आप भी करते हैं ये 7 गलतियां, तो आज ही छोड़ दें!

सर्दियों के महीनों के दौरान ऐसे रखें पोषण का ध्यान

विकास को बढ़ावा देने के लिए इष्टतम पोषण महत्वपूर्ण है. ठंड के मौसम में चयापचय दर बढ़ जाती है और इसलिए सर्दियों के महीने नवजात शिशुओं की ऊर्जा की जरूरतों को बढ़ाते हैं. नवजात शिशुओं में पोषण बनाए रखने के लिए स्तनपान सबसे सुरक्षित और प्रभावी तरीका है. यह मां से बच्चे तक सुरक्षात्मक एंटीबॉडी के हस्तांतरण की ओर जाता है और कई संक्रमणों से सुरक्षा देता है. 6 महीने से कम उम्र के शिशुओं को केवल स्तनपान कराना चाहिए. जब और जब बच्चा मांगे तो अपने बच्चे को दूध पिलाएं. मां के लिए एक संतुलित, व्यापक आहार यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि नवजात शिशु को इष्टतम पोषण मिले. कंगारू मदर केयर स्तनपान की सुविधा भी देता है. एक वर्ष से कम उम्र के शिशुओं को पूरक के रूप में विटामिन डी के 400 आईयू प्राप्त करना चाहिए.

(डॉ. श्रीधर एम. एस, कंसल्टेंट नियोनेटोलॉजी एंड पीडियाट्रिक्स, रेनबो चिल्ड्रेन हॉस्पिटल - हेब्बल, बेंगलुरु)

अस्वीकरण: इस लेख के भीतर व्यक्त की गई राय लेखक की निजी राय है. अस्वीकरण इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता, या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है। सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है। लेख में दिखाई देने वाली जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी उसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं मानता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

How To Get Healthy Liver: लीवर को नेचुरल तरीके से हेल्दी रखने के लिए शानदार हैं ये 7 तरीके

Arthritis Treatment: गठिया क्या है और कितने तरह का होता है? डॉक्टर से जानें इलाज और निवारक उपाय!

लहसुन की चाय पीने के इन अद्भुत स्वास्थ्य लाभों को न करें मिस, आज से ही शुरू कर दें सेवन!


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये 7 कारगर तरीके सर्दी के लक्षणों से निजात दिलाने के लिए हैं अचूक उपाय!

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

घरेलू नुस्खे

Remedies For Hair Growth: बालों की ग्रोथ को जल्दी बढ़ाने के लिए प्याज और नींबू के रस के साथ ये 6 घरेलू नुस्खे हैं फायदेमंद

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------