होम »  डायबिटीज »  World Diabetes Day 2018:तो डायबिटीज को लेकर बढ़ रही है लोगों में जागरुकता

World Diabetes Day 2018:तो डायबिटीज को लेकर बढ़ रही है लोगों में जागरुकता

World Diabetes Day 2018: डायबिटीज ब्लड टेस्ट एचबीए1सी के परिणाम से पता चला है कि 16-30 आयुवर्ग में असामान्य ब्लड शुगर के रुझान कम हुए हैं.

World Diabetes Day 2018:तो डायबिटीज को लेकर बढ़ रही है लोगों में जागरुकता

World Diabetes Day 2018: वर्तमान में दुनिया भर में 42.5 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं.

खास बातें

  1. Managing diabetes can be a daunting task and requires a lot of efforts
  2. You can also try a vegetable juice if you have diabetes
  3. Water is the perfect option for people with diabetes

World Diabetes Day 2018: हाल ही में डायग्नॉस्टिक कंपनी एसआरएल डायग्नॉस्टिक्स द्वारा किए गए डायबिटीज ब्लड टेस्ट एचबीए1सी के परिणाम से पता चला है कि 16-30 आयुवर्ग में असामान्य ब्लड शुगर के रुझान कम हुए हैं. इससे साफ है कि ब्लड शुगर (Blood Sugar) के नियन्त्रण के बारे में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ रही है. एसआरएल के आंकड़े दर्शाते हैं कि 2012 से 2017 के बीच एचबीए1सी (HbA1c) जांच के लिए आए नमूनों की औसत संख्या में सालाना 32 फीसदी की वृद्धि हुई है. इस दौरान लगभग 30 लाख नमूनों का विश्लेषण किया गया है.
 

auj89co8

World Diabetes Day:एचबीए1सी जांच को ग्लाइकोसायलेटेड हीमोग्लोबिन टेस्ट भी कहा जाता है. Photo Credit: iStock


क्या होती है एचबीए1सी जांच - What is HbA1c Test

एचबीए1सी जांच को ग्लाइकोसायलेटेड हीमोग्लोबिन टेस्ट भी कहा जाता है. ए1सी जांच डायबिटीज एवं प्री-डायबिटीज के निदान का नया तरीका है. इस जांच में 2 से 3 महीनों के लिए ब्लड ग्लूकोज के औसत स्तर का मूल्यांकन किया जाता है. अगर ए1सी का परिणाम 5.7 से 6.4 फीसदी हो तो इसका अर्थ है कि व्यक्ति प्री-डायबिटिक है और उसमें डायबिटीज की संभावना अधिक है. अगर यह परिणाम 6.5 फीसदी या अधिक हो तो व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है. इस जांच का फायदा यह है कि व्यक्ति ने जांच से पिछली रात या जांच से पहले सुबह के समय क्या खाया है, इससे फर्क नहीं पड़ता. 

 

कब और क्यों होती है डायबिटीज - Diabetes Facts & Information 

डायबिटीज तब होती है जब अग्न्याशय पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बना पाता या शरीर इंसुलिन का प्रभावी इस्तेमाल नहीं कर पाता. वर्तमान में दुनिया भर में 42.5 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं. यह बीमारी मरीज के साथ-साथ उसके परिवार और उससे जुड़े लोगों के लिए भी बहुत महंगी पड़ती है. इसका बुरा असर व्यक्ति की उत्पादकता पर पड़ता है. लेकिन, जल्दी निदान होने पर मरीज को इसकी जटिलताओं से बचाया जा सकता है. इसलिए रोग के लक्षणों, कारणों और जल्दी निदान के बारे में जागरूकता बढ़ाना बहुत जरूरी है.

ये भी पढ़ें - 

क्या है डायबिटीज के कारण - Causes of Diabetes in Hindi

बढ़ते शहरीकरण, गतिहीन जीवनशैली, अस्वास्थ्यकर आहार, तंबाकू के बढ़ते सेवन और बढ़ती जीवन प्रत्याशा के कारण डायबिटीज के मामले बढ़ रहे हैं. डायबिटीज के कारण मरीज अंधेपन, किडनी फेलियर, हार्ट अटैक, स्ट्रोक और यहां तक कि लोवर लिंब एम्प्युटेशन का शिकार भी बन सकता है. सेहतमंद आहार, नियमित व्यायाम, सामान्य वजन एवं तंबाकू का सेवन न कर अपने आप को इस बीमारी से बचाया जा सकता है.

और खबरों के लिए क्लिक करें.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------