होम »  चिर्ल्डन »  आप हैं वर्किंग पैरेंट्स.... जानें बच्‍चे के साथ कैसे बनाएं स्‍ट्रॉन्‍ग बॉन्‍ड

आप हैं वर्किंग पैरेंट्स.... जानें बच्‍चे के साथ कैसे बनाएं स्‍ट्रॉन्‍ग बॉन्‍ड

किशोर होते बच्‍चे के लिए पेरेंटिंग तकनीक काफी तनावपूर्ण हो सकती है. कभी-कभी आपको रोजमर्रा की परेशानियों से दूर रहने और अपने जीवन में एक सकारात्मक बदलाव लाने की आवश्यकता होती है. यदि आप एक कामकाजी माता-पिता हैं और अपने बच्चों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता पाते, तो कुछ ऐसी आदते हैं जो आपकी मदद कर सकती हैं.

आप हैं वर्किंग पैरेंट्स.... जानें बच्‍चे के साथ कैसे बनाएं स्‍ट्रॉन्‍ग बॉन्‍ड

पेरेंटिंग टिप: बच्‍चों के साथ रिश्‍ता मजबूत बनाने के लिए उनके साथ समय बिताएं

खास बातें

  1. हर दिन अपने बच्चों के साथ कुछ समय बिताएं
  2. बच्‍चे की बातों को ध्‍यान से सुनें
  3. अन्‍य लोगों के सामने बच्‍चों की बुराई न करें

किशोर होते बच्‍चे के लिए पेरेंटिंग तकनीक काफी तनावपूर्ण हो सकती है. कभी-कभी आपको रोजमर्रा की परेशानियों से दूर रहने और अपने जीवन में एक सकारात्मक बदलाव लाने की आवश्यकता होती है. यदि आप एक कामकाजी माता-पिता हैं और अपने बच्चों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता पाते, तो कुछ ऐसी आदते हैं जो आपकी मदद कर सकती हैं. बिजी शेड्यूल को मैनेंज करने के साथ-साथ आप अपने बच्‍चों के पालन-पोषण को संतुलित करने के लिए इन तरीकों को अपना सकते हैं.

कैसा होना चाहिए बच्‍चों का डिनर, बता रही हैं न्‍यूट्रीशनिस्‍ट रुजुता दिवेकर

बच्‍चे के साथ ऐसे विकसित करें अपना बॉन्‍ड


1. फिजिकल कनेक्‍शन को अहमियत दें

बच्चे के विकास के दौरान शारीरिक स्पर्श एक बहुत महत्वपूर्ण घटक है. शोधकर्ताओं का सुझाव है कि बच्चे के साथ फिजिकल कनेक्‍शन बनाना सकारात्मक भूमिका निभाता है. बच्चे के लिए यह आसान हो जाता है कि वह फिजिकल कनेक्‍शन महसूस करते समय अपनी भावना व्यक्त करे. प्यार और दुःख की कुछ भावनाएं अक्सर उस समय महसूस होती हैं जब स्पर्श सही होता है. अपने बच्चों के साथ समय बिताएं, उनके साथ खेलें या जब जरूरत हो तो उन्हें गले लगाएं.

बच्चों में कैंसर : समय पर पहचान और उचित इलाज ही है रास्ता

2. अपनी भावनाओं को जाहिर करें

अपने बच्चे के सामने अपनी भावनाओं को व्यक्त करें. विकास के चरणों के दौरान, बच्चे अपने माता-पिता की आदतों की नकल करते हैं. अपनी भावनाओं को स्पष्ट रूप से व्यक्त करते हुए, आप अपने बच्चे को खुलकर बोलने की अनुमति देते हैं कि वे कैसा महसूस कर रहा है. यह उन्हें सामाजिक भय या विकार विकसित करने से रोकता है, क्योंकि बच्‍चे खुद को आपके करीब महसूस करना शुरू करने लगते हैं.

Also read: Parenting Tips: How To Raise A Healthy Child?

3. दिन को अच्छे नोट पर समाप्त करें

एक अच्छे नोट पर दिन को समाप्त करने का ये तरीका आपके बच्चे को तनाव या अवसाद से संबंधित कारणों से दूर रखता है. एक अच्छी पेरेंटिंग तकनीक में हमेशा यह सुनना है कि आपको अपने बच्‍चे में निश्चित निकटता की भावना विकसित करने के लिए उसे क्या कहना है. यह आपके बच्चे में परिवार के प्रोग्राम में रुचि पैदा करेगा. इतना ही नहीं इससे आपको लगेगा कि आप अपने बच्चे के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं

कहीं जिस बात पर आप बच्चे को डांट रहे हैं वह कोई बीमारी तो नहीं...!

4. उनकी बातों को सुनें

जब आपका बच्चा आपकी बात नहीं मानें, तो आप विद्रोही हो सकते हैं. ऐसे में आपका बच्‍चा आपसे दूर हो सकता है. बच्‍चों की बातें सुनते समय हमेशा उनकी आंखों में विश्वास पैदा करने की कोशिश करें. यह सबसे आसान और साथ ही साथ एक महत्वपूर्ण टिप है जो उनकी समस्या को हल करने या उनकी भावनाओं को समझने में आपकी मदद करेगी. लेकिन यह भी महत्वपूर्ण है कि आप उनकी बात को ध्‍यान से सुनें और उन्‍हें सलाह दें.

गर्भावस्था और जन्म के बाद 1,000 दिन तक इस बात को न करें इग्नोर

5. उनकी आदतों में शामिल हों

घर में अपनी बिजी प्रतिबद्धताओं और परेशानियों के बीच यह जानने का थोड़ा समय निकालने की कोशिश करें कि बच्‍चों को क्या पसंद है. ऐसा करने का एक तरीका यह है कि आप उनके साथ एक बार गेम या फिल्में देखें और एक बार उनके साथ ड्राइंग करें. अन्य तरीकों में से एक खाना बनाने की रणनीतियों में बच्‍चों को शामिल करना भी हो सकता है.

एनडीटीवीडॉक्टर से और खबरों के लिए क्लिक करें. 

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------