होम »  चाइल्ड डेवलपमेंट »  मध्य प्रदेश में रोज मरते हैं 61 बच्चे, वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप...!

मध्य प्रदेश में रोज मरते हैं 61 बच्चे, वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप...!

बीते 120 दिनों में 7,332 बच्चों की मौत से साफ होता है कि हर रोज 61 बच्चे मर रहे हैं.

मध्य प्रदेश में रोज मरते हैं 61 बच्चे, वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप...!

कृषि प्रधान देश के एक बड़े राज्य में रोज करीब 61 बच्चों की मौत हो रही है और इसकी वजह जानकर आपको हैरानी हो सकती है. जी हां, इसकी वजह है कुपोषण... यह खबर वाकई डरा देने वाली है. रोज 61 बच्चों की मौत एक बड़ा आंकडा है. यह राज्य में बच्चों की सेहत से जुड़े कई सवाल उठाता है. 


कहीं मां या पिता न बन पाने के पीछे एयर पॉल्यूशन तो नहीं है वजह...!


मध्य प्रदेश सरकार बच्चों को कुपोषण सहित अन्य बीमारियों से बचाने के लाख दावे करे, मगर हकीकत उससे जुदा है. राज्य में जीरो से पांच साल की उम्र के औसतन 61 बच्चे हर रोज काल के गाल में समा जाते हैं. यह जानकारी मंगलवार को विधानसभा में महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस ने दी. उन्होंने बताया कि फरवरी 2018 से मई तक 120 दिनों में कम वजन के 1,183,985 बच्चे पाए गए, वहीं बेहद कम वजन के 103,083 बच्चे पाए गए.

किसी महामारी से कम नहीं है मौसम का ये हमला...

उन्होंने बताया कि जीरो से एक साल तक के 6,024 बच्चों की मौत हो गई और वहीं एक से पांच साल के 1,308 बच्चों की मौत हुई है. इस तरह कुल 7,332 बच्चों की मौत हुई है. बच्चों की मौत का कारण कई दूसरी तरह की बीमारियां बताई गई हैं. 

रावत का कहना है, "राज्य सरकार ने कुपोषण दूर करने के तमाम दावे किए, मगर बच्चों को नहीं बचाया जा सका है, यह दुखद है. बीते 120 दिनों में 7,332 बच्चों की मौत से साफ होता है कि हर रोज 61 बच्चे मर रहे हैं." 

और खबरों के लिए क्लिक करें.
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------