होम »  स्तनपान »  Breastfeeding Tips For New Mom: ब्रेस्‍ट फीडिंग के दौरान इन 9 चीजों का रखें ध्‍यान

Breastfeeding Tips For New Mom: ब्रेस्‍ट फीडिंग के दौरान इन 9 चीजों का रखें ध्‍यान

Breastfeeding Tips: अपने बच्चे को स्तनपान कराना एक व्यक्तिगत निर्णय है, लेकिन विभिन्न शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है.

Breastfeeding Tips For New Mom: ब्रेस्‍ट फीडिंग के दौरान इन 9 चीजों का रखें ध्‍यान

ब्रेस्टफीडिंग वीक: कैसे अपने बच्चे को कराएं स्तनपान

खास बातें

  1. सफल स्तनपान का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा लैच है
  2. रोना एक संकेत है कि बच्चा वास्तव में भूखा है
  3. अपने सीने पर बच्चे को सुलाने से उसे सहज महसूस होगा

Breastfeeding Tips For New Mom: अगस्त के पहले सप्ताह को विश्व स्तनपान सप्ताह के रूप में मनाया जाता है. यह विश्व स्तनपान कार्रवाई गठबंधन (WABA) के द्वारा आयोजित किया जाता है. अपने बच्चे को स्तनपान कराना एक व्यक्तिगत निर्णय है, लेकिन विभिन्न शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है. बच्चे को स्तनपान कराना कोई आसान काम नहीं है. इसके लिए अभ्यास और धैर्य की आवश्यकता होती है. बच्‍चे का बेचैन होना भी यह संकेत देता हैं कि उसे स्तनपान की आवश्यकता है. रोना एक और संकेत है कि बच्चा वास्तव में भूखा है. हमारे पास कुछ सरल, त्वरित और शॉर्टकट हैं, जो आपके बच्चे को बेहतर फीडिंग में आपकी मदद करेंगे.

गर्भावस्था और जन्म के बाद 1,000 दिन तक इस बात को न करें इग्नोर

लैच: सफल स्तनपान का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा लैच है. यदि बच्चा मां का स्तन सही तरीके से नहीं पकड़ पा रहा है, तो स्‍तनपान कराते समय आपको दर्द महसूस हो सकता है.


पोजिशनिंग: आराम से बैठना या लेटना मां के लिए बहुत जरूरी है. सपोर्ट के लिए तकिए का इस्‍तेमाल करें. मां को अपने स्तन को बच्चे के पास लाने के बजाय बच्चे को छाती के पास लाना चाहिए.

बच्चे को सहलाना: बच्चे को अपनी बाहों में रखना उसकी सभी इंद्रियों को उत्तेजित करेगा. भोजन करते समय, मां को बात करना, मुस्कुराना चाहिए, ताकि बच्चे को सुरक्षा का एहसास हो. अपने सीने पर बच्चे को सुलाने से उसे सहज महसूस होगा, इससे आपका तनाव भी कम होगा.

World Breastfeeding Week: बच्चों के लिए क्यों ज़रूरी है मां का दूध? जानें 8 फायदे

पालना पोजीशन: इस स्थिति में, बच्चे का सिर आपकी बांह में होगा.

फुटबॉल पोजीशन: इस स्थिति में, बच्चे को एक फुटबॉल की तरह मां की बाजू के नीचे रखा जाना चाहिए. मां अपनी कोहनी से बच्चे को सहारा दे सकती है.

लेट के भी पिला सकती हैं दूध: आप बच्‍चे को दूध पिलाते समय लेट सकते हैं, बस ध्‍यान रखें कि इस दौरान बच्चे का मुंह मां की ओर होना चाहिए. यदि सिजेरियन सेक्शन या एपिसीओटॉमी है, तो यह स्थिति आपके लिए अधिक सहायक है.

बच्‍चे को मुंह खोलना बताएं: बच्चा अपने होंठों के निपल्स को छूने के बाद अपना मुंह जल्दी से खोलता है. मां को बच्‍चे के मुंह को वास्तव में खोलने के लिए बच्चे को प्रोत्साहित करना चाहिए. इससे बच्चे को ब्रेस्‍ट टीश्‍यू को सही तरीके से चूसने में मदद मिलेगी.

कैसे दूर करें एंग्जाइटी? इससे छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स

रिलैक्‍स रहें: बच्चे को स्तनपान कराते समय मां को आराम करना चाहिए और कोई अन्य काम नहीं करना चाहिए. मां को अपने बच्चे को दूध पिलाते समय सीधा बैठना चाहिए. आप चाहें तो स्तनपान कराने वाली गोली भी खरीद सकते हैं.

बच्‍चे को निप्‍पल के आसपास के हिस्‍से को चूमना बताएं: यदि बच्चा सिर्फ निप्पल चूस रहा है, तो आपके निपल्स ड्राई हो सकते हैं और बच्‍चे के गले में खराश भी हो सकती है. इसलिए, सुनिश्चित करें कि बच्चा निप्पल के आसपास के हिस्‍से को भी पकड़ें.

निपल्स का ध्‍यान रखें: नहाते समय निपल्स पर साबुन, शैम्पू और क्लीन्जर लगाने से बचना चाहिए.

और खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------