होम »  Bones & Joints »  World Arthritis Day: ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने में कैल्शियम, विटामिन डी और एक्सरसाइज करना कितना जरूरी? यहां जानें

World Arthritis Day: ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने में कैल्शियम, विटामिन डी और एक्सरसाइज करना कितना जरूरी? यहां जानें

World Arthritis Day: धूम्रपान, शराब, अस्वास्थ्यकर (कम) बीएमआई, कुपोषण, कैल्शियम और विटामिन डी की गंभीर और दीर्घकालिक कमी गतिहीन जीवन शैली और अपर्याप्त शारीरिक गतिविधि समय के साथ हड्डियों को कमजोर बनाने में मदद कर सकती है, जिससे बाद में जीवन में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है.

World Arthritis Day: ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने में कैल्शियम, विटामिन डी और एक्सरसाइज करना कितना जरूरी? यहां जानें

World Arthritis Day: भारत में विशेषज्ञों का अनुमान है कि ऑस्टियोपोरोसिस 36 मिलियन के करीब है.

खास बातें

  1. भारत में विशेषज्ञों का अनुमान है कि ऑस्टियोपोरोसिस 36 मिलियन के करीब है.
  2. हिप फ्रैक्चर का लगभग 75% महिलाओं में होता है.
  3. दुनिया में ऑस्टियोपोरोसिस सालाना 8.9 मिलियन से अधिक फ्रैक्चर का कारण है.

World Arthritis Day 2021: इंटरनेशनल ऑस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन के अनुसार, "ऑस्टियोपोरोसिस, जिसका शाब्दिक अर्थ है छिद्रपूर्ण हड्डी. यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें हड्डी का घनत्व और गुणवत्ता कम हो जाती है. जैसे-जैसे हड्डियां अधिक छिद्रपूर्ण और नाजुक होती जाती हैं, फ्रैक्चर का खतरा बहुत बढ़ जाता है. अक्सर पहला फ्रैक्चर होने तक इसके कोई लक्षण नहीं होते हैं. ऑस्टियोपोरोसिस में हड्डियों के छिद्रपूर्ण, भंगुर और फ्रैक्चर होने की संभावना होती हैं. ऑस्टियोपोरोसिस के कारणों में पारिवारिक इतिहास, आनुवंशिक विरासत, पुरानी चोटें और गठिया शामिल हैं. महिलाएं अक्सर विटामिन डी और कैल्शियम की कमी का शिकार हो जाती हैं, जिससे वे इस स्थिति के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाती हैं. विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो रजोनिवृत्ति की चपेट में आ चुके हैं.

इनके अलावा, जीवनशैली कारक भी इस स्थिति को ट्रिगर करने में योगदान करते हैं. धूम्रपान, शराब, अस्वास्थ्यकर (कम) बीएमआई, कुपोषण, कैल्शियम और विटामिन डी की गंभीर और दीर्घकालिक कमी गतिहीन जीवन शैली और अपर्याप्त शारीरिक गतिविधि समय के साथ हड्डियों को कमजोर बनाने में मदद कर सकती है, जिससे बाद में जीवन में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है.

आपको गठिया के बारे में नहीं पता होंगी ये 5 बातें, जानें अर्थराइटिस के बारे में मिथ्स और फैक्ट्स


ऑस्टियोपोरोसिस के बारे में जरूरी फैक्ट्स-

मेन फैक्ट जैसा कि इंटरनेशनल ऑस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन की आधिकारिक वेबसाइट पर बताया गया है: 

- दुनिया भर में ऑस्टियोपोरोसिस सालाना 8.9 मिलियन से अधिक फ्रैक्चर का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप हर 3 सेकंड में ऑस्टियोपोरोटिक फ्रैक्चर होता है.

- लगभग 75% कूल्हे, रीढ़ और डिस्टल फोरआर्म फ्रैक्चर 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के रोगियों में होते हैं. अधिक- 2050 तक, पुरुषों में हिप फ्रैक्चर की विश्वव्यापी घटनाओं में 310% और महिलाओं में 240% की वृद्धि होने का अनुमान है.

- भारत में विशेषज्ञों का अनुमान है कि ऑस्टियोपोरोसिस 36 मिलियन के करीब है.

- निम्न आय वर्ग की 30-60 वर्ष की आयु की भारतीय महिलाओं के एक अध्ययन में सभी कंकाल स्थलों पर अस्थि खनिज घनत्व विकसित देशों में महिलाओं की तुलना में बहुत कम था, जिसमें ऑस्टियोपीनिया (52%) और ऑस्टियोपोरोसिस का उच्च प्रसार था.

- हिप फ्रैक्चर का लगभग 75% महिलाओं में होता है, जबकि पुरुषों में 50 से अधिक आबादी में होने वाले हिप फ्रैक्चर का 25% हिस्सा होता है.

जोड़ों में दर्द और सूजन के साथ चलने में होती है दिक्कत, तो इन 7 कारगर टिप्स को फॉलो करना न भूलें

रोकथाम-

हड्डियों के द्रव्यमान या घनत्व का नुकसान एक क्रमिक प्रक्रिया है जो 20 की उम्र के बाद सक्रिय हो जाती है. इस स्थिति को दूर करने का एकमात्र तरीका बेहतर हड्डी स्वास्थ्य सुनिश्चित करना है. बचपन से ही हेल्दी डाइट, मजबूत हड्डियों को सुनिश्चित करने की दिशा में पहला, बुनियादी कदम होगा. किसी की डाइट में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम और विटामिन के साथ-साथ आयरन, प्रोटीन और अन्य आवश्यक पोषक तत्व होने चाहिए. हेल्दी वजन बनाए रखना और बार-बार वजन में उतार-चढ़ाव से बचना, अचानक वजन कम होना, अस्वस्थ बीएमआई या कम / कुपोषण हड्डियों को हेल्दी रखने और उन्हें कमजोर होने से बचाने के लिए बेहद जरूरी है. कैल्शियम और विटामिन डी पर लोड हमारी उम्र पर निर्भर करता है.

बच्चे जितना खोते हैं उससे अधिक हड्डी ऊतक बनाते हैं लेकिन जैसे-जैसे वे वयस्क होते हैं, हड्डी के ऊतकों का धीरे-धीरे नुकसान शुरू होता है. महिलाओं में 50 साल की उम्र के बाद मेनोपॉज के हार्मोनल बदलाव जैसे अन्य संबंधित कारकों के कारण स्थिति और गंभीर हो जाती है. अगर आपको दूध या डेयरी प्रोडक्ट्स से एलर्जी है, तो कैल्शियम सप्लीमेंट लेने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें. अन्य गैर-डेयरी स्रोत भी हैं जो कैल्शियम की आपकी डेली डोज को पूरा कर सकते हैं, इनमें संतरे और अंजीर जैसे फल शामिल हो सकते हैं; बादाम, सफेद बीन्स, ब्रोकोली, सोया और दलिया. विटामिन डी का भी अत्यधिक महत्व है, यह शरीर द्वारा बेहतर और प्रभावी कैल्शियम अवशोषण के लिए जिम्मेदार है. मशरूम, पनीर, मछली, अंडे और सोया के नियमित सेवन से आपको विटामिन की आपकी डेली जरूरत की पूर्ति करनी चाहिए.

डायबिटीज, हार्ट हेल्थ और किडनी के लिए फायदेमंद माना जाता है कलौंजी वाला दूध, जानें 6 फायदे

इस स्थिति से निपटने में नियमित व्यायाम की भूमिका

रोजाना व्यायाम करने से व्यक्ति फिट, फुर्तीला, लचीला रहता है और हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद मिलती है. जो लोग नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, उन्हें गिरने के बाद गंभीर चोट लगने की संभावना कम होती है. शारीरिक फिटनेस को बचपन से ही प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और वयस्कता के माध्यम से इसका सख्ती से पालन किया जाना चाहिए. जर्नल बोन में प्रकाशित सबसे हालिया अध्ययनों में से एक से पता चलता है कि "कुछ प्रकार के वेटलिफ्टिंग और कूदने वाले व्यायाम, जब कम से कम छह महीने तक किए जाते हैं, तो कम हड्डी वाले सक्रिय, स्वस्थ, मध्यम आयु वर्ग के पुरुषों में हड्डियों के घनत्व में सुधार हो सकता है. ये व्यायाम हड्डियों के विकास को सुगम बनाकर ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मदद कर सकते हैं.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

डायबिटीज में शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकता है इस एक चीज का पानी, देता है कई और लाभ भी

Exercise For Knee Problems: दर्द और जकड़न को दूर घुटनों को मजबूत बनाती हैं ये 5 बेहतरीन एक्सरसाइज


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Side Effects Of Guava: इन 5 लोगों को गलती से भी नहीं खाना चाहिए अमरूद, बिगड़ सकती है तबियत

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------