होम »  ख़बरें »  महिला दिवस 2019: हर साल 3 में से 1 महिला की होती है मौत, वजह दिल की बीमारी...!

महिला दिवस 2019: हर साल 3 में से 1 महिला की होती है मौत, वजह दिल की बीमारी...!

आज 8 मार्च है, आज के द‍िन पूरी दनिया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रही है. लेक‍िन क्या आप जानते हैं मह‍िलाएं अपने स्वास्थ्य को लेर उतनी सजग नहीं ज‍ितना क‍ि उन्हें होना चाह‍िए. विशेषज्ञों का कहना है कि महिलाओं में हृदय रोग का पता देर से चल पाता है और हर साल दिल की बीमारियों से पीड़ित हर तीन में से एक महिला मरीज की मौत हो जाती है.

महिला दिवस 2019: हर साल 3 में से 1 महिला की होती है मौत, वजह दिल की बीमारी...!

आज 8 मार्च है, आज के द‍िन पूरी दनिया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रही है. लेक‍िन क्या आप जानते हैं मह‍िलाएं अपने स्वास्थ्य को लेर उतनी सजग नहीं ज‍ितना क‍ि उन्हें होना चाह‍िए. विशेषज्ञों का कहना है कि महिलाओं में हृदय रोग का पता देर से चल पाता है और हर साल दिल की बीमारियों से पीड़ित हर तीन में से एक महिला मरीज की मौत हो जाती है. हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "हृदय रोग महिलाओं में मृत्यु का एक प्रमुख कारण है. महिलाओं में होने वाले सभी सात तरह के कैंसरों की तुलना में अधिक महिलाओं की मृत्यु हृदय रोग से हो जाती है. दुर्भाग्य से कैंसर की तुलना में हृदय रोग के बारे में जागरूकता का स्तर बहुत कम है. इसलिए, महिलाओं का पुरुषों की तुलना में तेजी से न तो निदान होता है और न ही इलाज."

International Women's Day 2019: क्या है महिला दिवस का इत‍िहास? जानिए कौन सी बीमारी मर्दों से ज्यादा औरतों को शिकार बनाती है


उन्होंने कहा, "कुछ हृदय रोग जोखिम कारक महिलाओं के लिए अद्वितीय हैं, जिनमें पोस्टमेनोपॉजल स्टेटस, हिस्टेरेक्टॉमी, गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग और गर्भावस्था तथा इसकी जटिलताएं शामिल हैं. महिलाओं में दिल के दौरे के लक्षण पुरुषों से भिन्न होते हैं. हालांकि दिल के दौरे का सबसे आम लक्षण सीने में दर्द या बेचैनी है. महिलाओं में जबड़े, गर्दन या पीठ (कंधे के ब्लेड के बीच), अकारण कमजोरी या थकान के साथ दर्द की संभावना अधिक होती है. उनमें सांस की तकलीफ जैसे लक्षण भी हो सकते हैं. खांसी, चक्कर आना या मतली भी इसके कुछ लक्षण हैं. इसके परिणामस्वरूप अक्सर गलत निदान हो जाता है और उपचार में देरी होती है."

अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस 2019: 'जागरुकता जरूरी है' जानें फीमेल कॉन्‍डोम इस्‍तेमाल करते वक्‍त ध्‍यान रखने वाली बातें...

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि महिलाओं में हृदय की समस्या एक बदतर रोग है. पुरुषों की तुलना में महिलाओं में लगभग एक दशक बाद हृदय रोग विकसित होता है, लेकिन उनके परिणाम पुरुषों की तुलना में अक्सर खराब होते हैं.

नई दिल्ली स्थित मैक्स हॉस्पिटल के कार्डियक इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी लैब एंड एरिदमिया सर्विसेस की डायरेक्टर एवं हेड डॉ. वनिता अरोड़ा ने कहा, "महिलाएं दिल की समस्या होने पर डॉक्टर से परामर्श नहीं करतीं. इनमें टैकीकॉर्डिया का इलाज भी नहीं किया जाता है और आमतौर पर यह चिंता का कारण बन जाता है. यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि महिलाओं में हृदय के इलेक्ट्रिकल डिस्ऑर्डर होना अत्यधिक सामान्य बात है. उनमें अक्सर दिल धड़कने की दर में वृद्धि हो जाती है, जिसे पैल्पिटेशन कहते हैं. 130 या 140 से अधिक की हृदय गति खतरनाक मानी जाती है और इस पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है." 

पता भी नहीं चलता और हो जाती है मौत, हार्ट फेलियर है सबसे कम जांची जाने वाली स्थिति!

डॉ. अग्रवाल ने महिलाओं के लिए कुछ सुझाव देते हुए कहा, "सप्ताह के अधिकांश दिनों में वजन प्रबंधन के लिए कम से कम 30 मिनट और 60 से 90 मिनट के लिए मध्यम तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधि मंे हिस्सा लें. सिगरेट पीने और निष्क्रिय धूम्रपान से बचाव किया जाना चाहिए. कमर का साइज 30 इंच से कम रखें. दिल के अनुकूल आहार लें. आहार में ओमेगा-3 फैटी एसिड शामिल करें." 

उन्होंने कहा, "65 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में डॉक्टर के परामर्श से प्रतिदिन एस्पिरिन लेने पर विचार किया जा सकता है. धूम्रपान करने वाली महिलाओं को गर्भनिरोधक गोलियों से बचना चाहिए. अगर डिप्रेशन के लक्षण दिखें तो इलाज करवाएं." 

Benefits of Donating Blood: रक्तदान से होते हैं ये फायदे, अपनी सेहत के लिए भी फायदेमंद


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उच्च जोखिम वाली महिलाओं के लिए उन्होंने कहा कि एहतियात के तौर पर 75 से 150 मिलीग्राम एस्पिरिन लें. उच्च रक्तचाप को नियंत्रण करें. एंटीऑक्सिडेंट विटामिन सप्लीमेंट का इस रोग में कोई फायदा नहीं है. फोलिक एसिड सपोर्ट का भी कोई उपयोग नहीं है. हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी न लें.

और खबरों के लिए क्लिक करें.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

घरेलू नुस्खे

How To Get Rid Of White Hair: सफेद बालों को काला करने के लिए जबरदस्त हैं 3 आयुर्वेदिक चीजें, जल्द दिखेगा असर!

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------