होम »  लिविंग हेल्दी »  Migraine Vs Headache: जानें सिरदर्द और माइग्रेन में अंतर और दर्द को आसानी से मैनेज करने के तरीके

Migraine Vs Headache: जानें सिरदर्द और माइग्रेन में अंतर और दर्द को आसानी से मैनेज करने के तरीके

Migraine And Headache Difference: माइग्रेन सामान्य सिरदर्द से अलग होता है. इससे सिर के एक तरफ तेज दर्द होता है. माइग्रेन और सामान्य सिरदर्द के बीच अंतर जानने के लिए यहां पढ़ें.

Migraine Vs Headache: जानें सिरदर्द और माइग्रेन में अंतर और दर्द को आसानी से मैनेज करने के तरीके

माइग्रेन एक सिरदर्द है जो आमतौर पर सिर के एक तरफ तेज धड़कते दर्द का कारण बन सकता है

खास बातें

  1. कॉफी जैसे कुछ फूड्स लोगों में माइग्रेन को ट्रिगर कर सकते हैं.
  2. अनियंत्रित तनाव भी माइग्रेन का कारण बनने वाले कारकों में से एक है.
  3. माइग्रेन से तेज दर्द होता है आपकी दैनिक गतिविधियों को प्रभावित कर सकता है

Migraine Vs Headache: माइग्रेन एक न्यूरोलॉजिकल स्थिति है जो मतली और उल्टी के साथ तेज सिरदर्द का कारण बनती है. अन्य लक्षणों में प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता, सुन्नता शामिल हैं. यह घंटों या दिनों तक चल सकता है. माइग्रेन पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाओं को प्रभावित करता है और माइग्रेन का पारिवारिक इतिहास होना एक सामान्य जोखिम कारक है. अगर आप माइग्रेन से जूझ रहे हैं तो आपको पता होगा कि माइग्रेन के लक्षण सामान्य नहीं होते हैं और ये सामान्य सिरदर्द से अलग होते हैं.

Shilpa Shetty ने बताया ये 2 योग आसन रखते हैं आपको पॉजिटिव, फोकस्ड और हेल्दी

माइग्रेन बनाम सामान्य तनाव, सिरदर्द | Migraine Vs. Common, Tension Headaches


दर्द-

सामान्य सिरदर्द में विचलित हल्का से मध्यम दर्द होता है. जबकि, माइग्रेन एक दुर्बल करने वाली स्थिति है.

लोकेशन

सामान्य सिरदर्द में दर्द का समान वितरण होता है यानी सिर के दोनों तरफ जबकि माइग्रेन में दर्द या तो बाजू में होता है या सामने की तरफ होता है.

लक्षण

माइग्रेन में मतली और उल्टी का अनुभव होता है जबकि सामान्य सिरदर्द में ऐसे कोई विशिष्ट लक्षण नहीं होते हैं.

Curd Side Effects: किन लोगों को नहीं खाना चाहिए दही? खासकर रात में तो बिल्कुल न खाएं

चेतावनी के संकेत (Warning Signs)

सिरदर्द में कोई चेतावनी के संकेत नहीं होते हैं लेकिन माइग्रेन में चेतावनी के संकेत होते हैं जिन्हें AURA के नाम से जाना जाता है (ये चेतावनी के संकेत आमतौर पर वास्तविक हमले से पंद्रह मिनट से एक घंटे पहले अनुभव किए जाते हैं.)

माइग्रेन ट्रिगर-

1. हार्मोनल परिवर्तन

2. तनाव

3. कुछ फूड्स

4. भोजन छोड़ना

5. कैफीन

6. मौसम में बदलाव

7. आपकी नींद में बदलाव

8. तंम्बाकू

9. तेज आवाज, तेज रोशनी और तेज गंध

चर्बी घटाकर पेट को स्लिम बनाने के लिए अद्भुत है ये बिना उपकरण वाला फैट बर्नर वर्कआउट

4t9bqq78कैफीन का बहुत अधिक सेवन कुछ में माइग्रेन को ट्रिगर कर सकता है

माइग्रेन की रोकथाम (Prevention Of Migraine)

हम सभी इस कोट्स से परिचित हैं कि - "रोकथाम इलाज से बेहतर है". सावधानी बरतना समस्या से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है, दवा लेना ही एकमात्र समाधान नहीं है और हमारी डाइट माइग्रेन के हमलों को रोकने में प्रमुख भूमिका निभाती है.

अपनी डाइट में ये छोटे बदलाव करने का प्रयास करें:

क्या करें?

ताजे फल और सब्जियां खाएं: प्रोसेस्ड फूड्स बेहद ट्रिगरिंग हो सकते हैं, ताजे फल और सब्जियों जैसे स्ट्रॉबेरी, बेरी, बेल मिर्च, गाजर, शकरकंद और हरी सब्जियों का उचित सेवन सुनिश्चित करते हैं.

अंडे के छिलकों को बेकार समझकर फेंकें नहीं, इन 5 तरीकों से इस्तेमाल कर पाएं गजब फायदे

अपनी डाइट में ओमेगा-3 फैटी एसिड शामिल करें: साल्मन, अलसी, जैतून का तेल और अखरोट. यह देखा गया है कि ओमेगा-3 से भरपूर फूड्स का सेवन विशेष रूप से माइग्रेन को कम करने में उपयोगी होता है.

हाइड्रेटेड रहना: पानी का सेवन स्वस्थ जीवन की कुंजी है. डिहाइड्रेशन एक सामान्य माइग्रेन का कारण है. रोजाना 8-10 गिलास पानी पिएं.

अपने भोजन के रूटीन का निरीक्षण करें: कुछ मामलों में बार-बार माइग्रेन का दौरा पड़ता है. ज्यादातर यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग फूड्स के सेवन के बाद होता है. ऐसे मामलों में, एक फूड डायरी रखनी चाहिए जिसमें उन फूड्स का उल्लेख हो जो माइग्रेन की डायरी का कारण हो सकते हैं. इस प्रकार हमें भविष्य में उन वस्तुओं से बचना चाहिए.

स्वस्थ वजन बनाए रखना: मोटापा माइग्रेन पैदा करने के लिए एक जोखिम कारक के रूप में देखा गया है. हेल्दी वेट बनाए रखना माइग्रेन को कम करने में सहायक हो सकता है.

क्या न करें?

नाइट्राइट से भरपूर फूड्स से बचें जैसे संसाधित मांस, टाइरामाइन से भरपूर फूड्स नीला पनीर, और रेड वाइन.

खट्टे फल, बीन्स, मूंगफली माइग्रेन को ट्रिगर कर सकते हैं.

सोया सॉस और पैकेज्ड फूड जैसे एमएसजी से भरपूर फूड्स से बचें.

कैफीन (चाय, कॉफी में पाया जाने वाला) के अधिक सेवन से बचें. सीमित मात्रा में कैफीन का सेवन सामान्य है लेकिन अधिक मात्रा में सेवन परेशान कर सकता है.

भोजन न छोड़ें. भोजन स्किप करने से सिरदर्द हो सकता है.

माइग्रेन दुर्बल करने वाला और दर्दनाक हो सकता है. इसके इलाज के लिए कई उपाय उपलब्ध हैं लेकिन सही डाइट और उपचार से इसे कैसे रोका जाए, यह जानना मददगार हो सकता है.

अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

दुबलेपन को नजरअंदाज न करें, आसान है वजन बढ़ाना बस इन 5 आदतों को फॉलो करें

Vitamin B12 Deficiency: विटामिन बी12 की कमी से होने वाली समस्याएं, और इससे बचने के लिए फूड सोर्सेज


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Foods For Upset Stomach: पेट खराब होने पर घबराएं नहीं, इन फूड्स का सेवन कर पाएं तुरंत आराम

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------