होम »  लिविंग हेल्दी & nbsp;»  बच्चों के ओरल हाइजीन को बनाए रखने के लिए यहां एक्सपर्ट्स से जानें सही समाधान

बच्चों के ओरल हाइजीन को बनाए रखने के लिए यहां एक्सपर्ट्स से जानें सही समाधान

पोषण विशेषज्ञ नमामी अग्रवाल ने आपके बच्चों के मौखिक स्वास्थ्य को कंट्रोल में रखने के लिए 4 प्रभावी टिप्स पर चर्चा की है.

बच्चों के ओरल हाइजीन को बनाए रखने के लिए यहां एक्सपर्ट्स से जानें सही समाधान

मौखिक स्वच्छता और स्वास्थ्य उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि स्वास्थ्य का कोई अन्य पहलू

स्वास्थ्य के किसी भी अन्य पहलू के रूप में मौखिक स्वास्थ्य उतना ही महत्वपूर्ण है और इसे बचपन से ही जानना बेहतर है. अगर आप अच्छे मौखिक स्वच्छता का पालन नहीं करते हैं, तो आपको कैविटी, मसूड़ों की बीमारी और दांतों की अन्य समस्याएं हो सकती हैं. बच्चों की बात करें तो, वे वास्तव में ओरल हेल्थ केयर के महत्व को नहीं समझते हैं, लेकिन यह माता-पिता का कर्तव्य है कि वे अपने बच्चों की देखभाल करें और सुनिश्चित करें कि उनमें अच्छी आदतें विकसित हों, लेकिन इसे कैसे करें? इसके लिए पोषण विशेषज्ञ नमामी अग्रवाल चार सरल लेकिन प्रभावी टिप्स शेयर करती हैं अगर आप अपने बच्चे के मौखिक स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं.

दमकती, हेल्दी साफ त्वचा पाने के लिए हल्दी कैसे करेगी उपचार? जानें इसके 6 सुपर कमाल के फायदे

नमामी अग्रवाल ने नीचे 4 सरल स्टेप्स को शेयर किया:


1) अच्छी स्वच्छता प्रथाएं

अपने बच्चों को गुड हाइजीन प्रैक्टिसि का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करें. उन्हें ठीक से ब्रश करने के लिए कहें और न केवल आगे बल्कि पीछे भी ब्रश करें. उन्हें 2-3 मिनट तक ब्रश करने की सलाह दें. सुनिश्चित करें कि बच्चे सुबह और सोने से पहले दिन में दो बार ब्रश करें.

2) एक अच्छे रोल मॉडल बनें

याद रखें, बच्चे अपने माता-पिता का अनुसरण करते हैं. इसलिए, एक अच्छा रोल मॉडल बनना आपका कर्तव्य है. अपने कार्यों के माध्यम से आप उन्हें दिखा सकते हैं और उन्हें मौखिक स्वच्छता प्रथाओं का महत्व बता सकते हैं. अगर आप अच्छी मौखिक स्वच्छता का पालन करते हैं, तो आपका बच्चा स्वतः ही इसका पालन करने वाला है.

मांस, शराब और इन सब्जियों के अलावा ये फूड्स भी बढ़ाते हैं यूरिक एसिड लेवल, यहां है उनकी पूरी लिस्ट

3) दंत चिकित्सक के पास जाएं

किसी भी प्रकार की मौखिक समस्याओं से बचने के लिए साल में एक बार दंत चिकित्सक के पास जाने की सलाह दी जाती है. इससे कैविटी या मसूड़ों की बीमारी पकड़ में आ जाती है.

4) मीठा खाने से बचें

मीठे फूड्स जूस या कैंडी से दूर रहना अच्छा है, खासकर चिपचिपी कैंडीज से. ऐसा इसलिए है क्योंकि वे इनेमल से चिपक जाते हैं और फिर कैविटी में बदल जाते हैं. अगर आपके बच्चों के पास अभी भी इस तरह के फूड्स हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे खाने के बाद अपना मुंह अच्छी तरह से धो लें.

तो, अपने बच्चे के चेहरे पर एक ब्राइट और कैविटी फ्री स्माइल के लिए इन 4 सरल चरणों का पालन करें, नमामी अग्रवाल ने कहा.

पपीता फल ही नहीं इसके पत्ते और बीज भी देते हैं जबरदस्त फायदा, कई पोषक तत्वों का हैं भंडार

यहां देखें:

पोषण विशेषज्ञ नमामी अग्रवाल ने अक्सर कई स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर बात की और प्रभावी सुझाव प्रदान किए हैं.

अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए जिम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

किशमिश काले हों या भूरे दूध में भिगोकर खाने से कौन से अद्भुत लाभ होते हैं? यहां है पूरी लिस्ट

दुबलेपन को क्यों झेलना है, अपने आहार में इन 16 चीजों को शामिल करें और तेजी से बढ़ाएं अपना वजन


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अगर आपको अक्सर बॉडी एक्ने होते हैं? तो यहां देखें कारण और इनका उपचार करने के लिए वीडियो

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

--------------------------------विज्ञापन---------------------------------- -