होम »  लिविंग हेल्दी »  गठिया या डायबिटीज है तो नुकसान पहुंचा सकता है पार्टनर से झगड़ना...

गठिया या डायबिटीज है तो नुकसान पहुंचा सकता है पार्टनर से झगड़ना...

घुटनों में गठिया रोग की शिकायत वाले 145 मरीजों के एक समूह को शामिल किया, जिसमें उनके जीवनसाथी भी शामिल थे.

गठिया या डायबिटीज है तो नुकसान पहुंचा सकता है पार्टनर से झगड़ना...

खास बातें

  1. ज्यादा तनाव महसूस होता था, उनकी तकलीफें ज्यादा बढ़ी हुई पाई गईं.
  2. गठिया और मधुमेह से परेशान लोगों के लिए यह घातक साबित हो सकता है.
  3. घुटनों की हड्डियों के रोग से पीड़ित मरीज बहुत जल्द अपंग बन जाते हैं.
कहा जाता है कि जीवनसाथी के साथ मनमुटाव रिश्तों में मजबूती लाता है और यह हर रिश्ते का एक अहम पहलू भी है. मनमुटाव के बाद ही कई बार हमें पता चलता है कि साथी हमारे लिए कितना अहम है और उसकी सोच किसी चीज को लेकर कैसी है. लेकिन गठिया और मधुमेह से परेशान लोगों के लिए यह घातक साबित हो सकता है. वे अगर अपने जीवनसाथी के साथ झगड़ते हैं तो इससे उनका शारीरिक कष्ट और बढ़ सकता है. यह बात एक शोध के आधार पर कही गई है. 'एनल्स ऑफ बिहैवियोरल मेडिसिन' में प्रकाशित शोध के नतीजों के अनुसार, गठिया और मधुमेह से पीड़ित बुजुर्गो के दो अलग-अलग समूहों के मरीजों में जिन्हें अपने जीवनसाथी को लेकर ज्यादा तनाव महसूस होता था, उनकी तकलीफें ज्यादा बढ़ी हुई पाई गईं. 

डायबिटीज की दवा से घटाएगी सकता है वजन: शोध

शोध के सह-लेखक व अमेरिका स्थित पेंसिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर लीन मार्टायर ने कहा, "शोध के नतीजों से हमें यह जानने को मिला कि शादी से किस प्रकार स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है. खासतौर से गठिया और मधुमेह जैसे रोगों से पीड़ित मरीजों को यह जानना आवश्यक है." 
 

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक, बच्चों को रखें लू से बचा कर...

सावधान! पता भी नहीं चलेगा और रेटिनल बीमारियां बना देती हैं अंधा...

इन दो चीजों से दिमाग हो जाएगा सबसे तेज, आज ही अपनाएं...


शोधकर्ता ने बताया कि घुटनों की हड्डियों के रोग से पीड़ित मरीज बहुत जल्द अपंग बन जाते हैं और अनियंत्रित मधुमेह से पीड़ित मरीजों को ज्यादा खतरा बना रहता है. 

शोधकर्ता ने अपने अध्ययन में घुटनों में गठिया रोग की शिकायत वाले 145 मरीजों के एक समूह को शामिल किया, जिसमें उनके जीवनसाथी भी शामिल थे. इसके अलावा दो प्रकार के मधुमेह से पीड़ित 129 मरीजों का एक दूसरा समूह बनाया. 

प्रेग्नेंसी के दौरान डायबिटीज से बच्चे को खतरा, ऐसे करें बचाव

दोनों समूहों के प्रतिभागियों की दिनचर्या में उनके मूड, उनकी तकलीफें और उनके जीवनसाथी की प्रतिक्रियाओं को दर्ज किया गया. गठिया व मधुमेह के रोगियों ने क्रमश: 22 और 24 दिनों तक अपनी दिनचर्या लिखी. 

शोधकर्ताओं ने पाया कि जिस दिन मरीज अपने जीवनसाथी को लेकर तनाव में होते थे, उस दिन उनका मूड खराब रहता था और उनमें रोग के लक्षण की गंभीरता भी बढ़ जाती थी. 

एनडीटीवीडॉक्टर से और खबरों के लिए क्लिक करें.
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------