होम »  कैंसर »  तो अगले दो साल में दोगुने हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर के मामले!

तो अगले दो साल में दोगुने हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर के मामले!

यह भारत के शेष पापुलेशन बेस्ड रजिस्ट्री फॉर कैंसर (पीबीआरसी) में कैंसर फैलने के शीर्ष 10 प्रमुख शहरों में शामिल हैं.

तो अगले दो साल में दोगुने हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर के मामले!

भारत में प्रोस्टेट समस्याओं का प्रसार तेजी से बढ़ रहा है. दिल्ली कैंसर रजिस्ट्री के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों में दूसरा सबसे ज्यादा होने वाला कैंसर है. साथ ही सभी जानलेवा बीमारियों में इसकी हिस्सेदारी 6.78 फीसदी है. दिल्ली कैंसर रजिस्ट्री के मुताबिक, दिल्ली, कोलकाता, पुणे और तिरुवनंतपुरम जैसे बड़े भारतीय शहर कैंसर की दूसरी सबसे बड़ी जगहें हैं, वहीं बेंगलुरू और मुंबई जैसे शहर तीसरी प्रमुख जगहें हैं. यह भारत के शेष पापुलेशन बेस्ड रजिस्ट्री फॉर कैंसर (पीबीआरसी) में कैंसर फैलने के शीर्ष 10 प्रमुख शहरों में शामिल हैं.

डिप्थीरिया से मरने वालों की संख्या बढ़ी, जानें क्या है डिप्थीरिया, लक्षण और इलाज...

तो दोगुने हो जाएंगे मामले!
संस्था की तरफ से जारी बयान के अनुसार, कैंसर प्रोजेक्शन डेटा बताते हैं कि 2020 तक इन मामलों की संख्या दोगुनी हो जाएगी. प्रोस्टेट कैंसर दिल्ली में पुरुषों के बीच दूसरा सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है, साथ ही सभी जानलेवा बीमारियों में इसकी हिस्सेदारी 6.78 फीसदी है. 


क्यों होता है प्रोस्टेट कैंसर
बयान में वीएमएमसी और सफदरजंग हॉस्पिटल में यूरोलॉजी और रीनल ट्रांसप्लांट विभाग के प्रमुख प्रोफेसर डॉ. अनुप कुमार ने कहा, "कई पुरुषों में उम्र बढ़ने के साथ प्रोस्टेट के विकसित होने की समस्या होती है, क्योंकि यह ग्रंथि अपने जीवनकाल में बढ़ने से नहीं रुकती. पुरुषों को बढ़ती उम्र के साथ बीपीएच/प्रोस्टेट कैंसर की जांच करने के लिए नियमित प्रोस्टेट स्क्रीनिंग करवानी चाहिए."

Stage-Zero Breast Cancer: आयुष्मान खुराना की पत्नी ताहिरा कश्यप को है स्टेज जीरो ब्रेस्ट कैंसर

क्या कहते हैं आंकड़े
उन्होंने कहा, "पश्चिमी देशों की तुलना में भारत में उम्र-आधारित पीएसए रेंज काफी कम है. भारत में प्रोस्टेट कैंसर का निदान अभी भी बाद के चरणों में शुरू होता है. भारत में स्थानीयकृत: 20-25 फीसदी, स्थानीय स्तर पर एडवांस्ड: 30-35 फीसदी, मेटास्टैटिक: 40-45 फीसदी (सफदरजंग डेटा). पश्चिमी देशों में यह स्थानीयकृत : 60-65 फीसदी, स्थानीय रूप से उन्नत: 20-25 फीसदी, मेटास्टैटिक: 10-15 फीसदी है." 

रहें सावधान
डॉ. कुमार ने कहा, "अगर आपको मूत्र संबंधी समस्याएं हैं तो अपने डॉक्टर से चर्चा करें. यहां तक कि यदि आपको मूत्र संबंधी परेशानी के लक्षण नहीं हैं तो किसी भी अंतर्निहित कारणों को पहचानना या उनके न होने की पुष्टि करना महत्वपूर्ण है."  आईसीएमआर और विभिन्न राज्यों की कैंसर रजिस्ट्री के अनुसार भारत में प्रोस्टेट कैंसर भारतीय पुरुषों में दूसरा सबसे आम कैंसर है. भारत में प्रति लाख पर इसकी दर 9-10 है, जो एशिया और अफ्रीका के अन्य हिस्सों की तुलना में काफी अधिक है. (इनपुट आईएएनएस)

और खबरों के लिए क्लिक करें.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------