होम »  Women's Health »  भारत में हर चौथी महिला को है यह रोग, फिर भी हैं अनजान...

भारत में हर चौथी महिला को है यह रोग, फिर भी हैं अनजान...

पीसीओएस का इलाज होम्योपैथी से किया जा सकता है और इससे पीड़ित महिलाएं पीसीओएस मुक्त, स्वस्थ और सामान्य जीवन जी सकती हैं.

भारत में हर चौथी महिला को है यह रोग, फिर भी हैं अनजान...

भारत में हर चौथी महिला इस रोग से परेशान है फिर भी वह इससे अंजान हैं... यह हम नहीं कहते, यह कहता है नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी (AIIMS). AIIMS के अनुसार चार में से एक महिला 'पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम' यानी पीसीओएस (PCOS) नामक अंत:स्रावी तंत्र विकार से पीड़ित हैं. बेहद आम बीमारी होने के बावजूद इसके बारे में जागरूकता की कमी होने के कारण यह खतरनाक हो जाती है. 50 प्रतिशत से अधिक महिलाएं इस बात से अनजान हैं कि वे इस विकार से पीड़ित हैं. सितंबर के 'विश्व पीसीओएस जागरूकता माह' होने पर डॉ. बत्रा मल्टी-स्पेशिएलिटी होम्योपैथी का उद्देश्य इसके प्रति जागरूकता फैलाना और होम्योपैथी के द्वारा इसके सुरक्षित तथा प्रभावशाली उपचार के विषय में लोगों को जागरूक करना है. ( Read : भारत में हर 5वीं औरत को है यह बीमारी, जानें इससे बचने के उपाय ) 

Ashwagandha for Thyroid: क्या है थायराइड, क्यों होता है और कैसे अश्वगंधा देती है फायदा

अनियमित और दर्दनाक मासिक, चेहरे और शरीर पर बालों का बढ़ना और पतला होना, तेजी से वजन बढ़ने जैसे लक्षणों के साथ पीसीओएस अक्सर आत्म-सम्मान के कम होने का कारण बनता है. इसे यदि अनदेखा किया जाए तो यह बांझपन, मधुमेह, हृदय रोग और एंडोमेट्रियल कैंसर जैसी खतरनाक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है. 


अदरक के फायदे: क्या आप जानते हैं अदरक के इन 8 फायदों के बारे में

पीसीओएस का इलाज होम्योपैथी से किया जा सकता है और इससे पीड़ित महिलाएं पीसीओएस मुक्त, स्वस्थ और सामान्य जीवन जी सकती हैं. Sex जीवन और सेक्स स्वास्थ्य से जुड़ी और खबरों के ल‍िए क्ल‍िक करें.

3 लाख से ज्यादा लोगों को है यह बीमारी, जानें इसके लक्षण और कारण...

विश्व पीसीओएस जागरूकता माह पर टिप्पणी करते हुए डा. बत्रा समूह के संस्थापक और अध्यक्ष एमेरिटस और पद्मश्री डॉ. मुकेश बत्रा ने कहा, "महिलाएं किसी भी समाज में स्वास्थ्य देखभाल की रीढ़ हैं. हालांकि, अक्सर वे अपने स्वास्थ्य को अनदेखा करती हैं. एक देश के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है कि उसकी महिलाएं स्वस्थ हों. मेरे 44 साल के प्रैक्टिस में, मैंने पीसीओएस के लक्षणों के साथ अधिक से अधिक महिलाओं को देखा है. होम्योपैथी सुरक्षित, सिद्ध और लागत प्रभावी उपचार विधियों की पेशकश करता है."

इनपुट आईएएनएस

और खबरों के लिएक क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------