होम »  ख़बरें »  हर साल 76 लाख से ज्यादा को बनाता है शिकार, जानें इस कैंसर के बारे में...

हर साल 76 लाख से ज्यादा को बनाता है शिकार, जानें इस कैंसर के बारे में...

पटना के सवेरा कैंसर एंड मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक, कैंसर धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों को भी हो रहा है.

हर साल 76 लाख से ज्यादा को बनाता है शिकार, जानें इस कैंसर के बारे में...

एक ओर जहां बिहार की राजधानी पटना और मुजफ्फरपुर में वायु प्रदूषण बढ़ रहा है, वहीं चिकित्सकों का कहना है कि वायु प्रदूषण के कारण फेफड़े में कैंसर का खतरा बना रहता है. चिकित्सकों का कहना है कि धूम्रपान फेफड़े के कैंसर की मुख्य वजह मानी जाती थी, लेकिन हाल के दिनों में यह बात भी सामने आई है कि फेफड़े के कैंसर के बढ़ते मामलों में प्रदूषित हवा की भूमिका भी बढ़ रही है. 

पटना के सवेरा कैंसर एंड मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक, कैंसर धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों को भी हो रहा है. यहां के चिकित्सकों की टीम ने मार्च, 2012 से जून, 2018 तक 150 से ज्यादा मरीजों का विश्लेषण किया, जिसमें पाया गया कि बिना धूम्रपान करने वाले व्यक्ति भी कैंसर के शिकार बन रहे हैं. 

Benefits of Raw Papaya: दवा से कम नहीं कच्चा पपीता, होते हैं कई फायदे


फेफड़ों के इलाज में कारगर है टागेर्टेड और इम्यूनो थेरेपी, कैंसर के खतरे को कम करेंगे ये 5 सुपरफूड

Lung Cancer: फेफड़े के कैंसर के इलाज में टागेर्टेड थेरेपी बेहद कारगर साबित हो सकती है. विशेषज्ञों का मानना है कि टागेर्टेड और इम्यूनोथेरेपी से स्टेज 4 फेफड़े के कैंसर वाले रोगी भी अच्छी गुणवत्ता वाला जीवन जी सकते हैं. नई दिल्ली स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर (आरजीसीआईआरसी) के सीनियर विशेषज्ञ डॉ. उल्लास बत्रा ने बताया कि फेफड़े के कैंसर का पता अक्सर अंतिम स्टेज में ही हो पाता है. इसीलिए महज 15 फीसदी मामलों में ही इसका इलाज संभव हो पाता है. हालांकि टागेर्टेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी जैसी रणनीतियों और नए शोध से उम्मीद की किरण दिखी है.

पटना के जाने-माने कैंसर सर्जन डॉ. वी़ पी़ सिंह ने सर्वेक्षण के आधार पर बताया कि इन मरीजों में तकरीबन 20 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जो धूम्रपान नहीं करते थे. 50 वर्ष से कम उम्र समूह में यह आंकड़ा तो 30 प्रतिशत तक पहुंचा. ये लोग धूम्रपान नहीं करते थे.

लीवर और किडनी को खराब कर सकता है दूध! पर कैसे?

उन्होंने हालांकि कहा कि फेफड़ों से जुड़े कैंसर का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान होता है. धूम्रपान से होने वाले इस आम कैंसर के बारे में तमाम जागरुकता अभियान चलाए जाते हैं, इसके बावजूद वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (डब्लूएचओ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 76 लाख से ज्यादा लोग हर साल इस बीमारी का शिकार होते हैं. 

डॉ. सिंह ने कहा कि फेफड़े के कैंसर से धूम्रपान करने वाले ही नहीं, बल्कि धूम्रपान न करने वाले युवक-युवतियां भी जूझ रहे हैं और ऐसा बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण हो रहा है. 

उन्होंने कहा कि फेफड़े का कैंसर खतरनाक बीमारी है और इसके निदान के बाद भी पांच साल तक जीवित रहने की उम्मीद कम ही होती है.

लगातार बढ़ रहे हैं कैंसर के मामले, क्या है वजह और बचाव के उपाय

डॉ. सिंह ने कहा, "पारंपरिक ज्ञान यह कहता है कि फेफड़े के कैंसर का धूम्रपान मुख्य कारण है, लेकिन हाल के दिनों में हुए शोधों से पता चलता है कि फेफड़े के कैंसर के बढ़ते मामलों में प्रदूषित हवा की भूमिका बढ़ रही है." 

रोग के लक्षणों और बचने के तरीकों के बारे में उन्होंने कहा कि फेफड़े के कैंसर को आसानी से पहचाना जा सकता है. उन्होंने कहा कि छाती में दर्द, छोटी सांसें लेना और हमेशा कफ रहना, चेहरे और गर्दन पर सूजन, थकान, सिरदर्द, हड्डियों में दर्द तथा वजन कम होना इस बीमारी के मुख्य लक्षण हैं.

Breast Cancer: सुबह जल्दी उठें और खाएं ये 5 चीजें, नहीं होगा ब्रेस्ट कैंसर!

उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को 'पैसिव स्मोकिंग' (सिगरेट के धुएं) से बचना चाहिए. उन्होंने लोगों को प्रतिदिन व्यायाम करने की सलाह देते हुए फल और सब्जियां खाने पर जोर दिया. उन्होंने लोगों से 'सेकेंड हैंड स्मोकिंग' से भी बचने की सलाह दी. 

उल्लेखनीय है कि 21 दिसंबर को पटना का वायु गुणवत्ता सूचकांक 456 था. (इनपुट-आईएएनएस)

और खबरों के लिए क्लिक करें.

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------