होम »  मनसिक स्वास्थ्य »  Alzheimer रोग याददाश्त को कैसे प्रभावित करता है, इस न्यूरोलॉजिकल विकार का निदान कैसे करें?

Alzheimer रोग याददाश्त को कैसे प्रभावित करता है, इस न्यूरोलॉजिकल विकार का निदान कैसे करें?

अल्जाइमर रोग, एक प्रकार का न्यूरोडीजेनेरेटिव डिमेंशिया है, जो हमारी स्मृति को प्रभावित करता है, कनाडा में लोग इसके बारे में अच्छी तरह जानते हैं, जहां पांच लाख से अधिक लोग इसके साथ जी रहे हैं. आबादी की उम्र बढ़ने के साथ ही यह संख्या आने वाले 10 वर्षों में दोगुनी होने की आशंका है.

Alzheimer रोग याददाश्त को कैसे प्रभावित करता है, इस न्यूरोलॉजिकल विकार का निदान कैसे करें?

अल्जाइमर रोग, एक प्रकार का न्यूरोडीजेनेरेटिव डिमेंशिया है.

अल्जाइमर को लेकर लोगों में डर है. क्या हम वास्तव में जानते हैं कि कौन से व्यवहार अल्जाइमर रोग का निदान करने में मदद करते हैं? इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी डे गेरियाट्री डी मांट्रियल के अनुसंधान केंद्र में न्यूरोसाइकोलॉजी ऑफ एजिंग की प्रयोगशाला में शोधकर्ताओं के रूप में, हम इस प्रश्न का अध्ययन कर रहे हैं. उत्तर सरल नहीं है. अल्जाइमर रोग याददाश्त को प्रभावित करता है, लेकिन स्मृति कोई एक एकल इकाई नहीं है, एक टोकरी की तरह, जिसमें हमारी सारी यादें एक साथ जमा रहती हैं. इसलिए यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि स्मृति विभिन्न प्रकार की होती है, और अल्जाइमर रोग इसे किस हद तक प्रभावित करता है.

हाई ब्लड प्रेशर को झट से कंट्रोल कर सकता है गाजर, लीवर साफ करने और आंखों के लिए भी है कमाल

मोमोरी के प्रकार | Types Of Momori


1. प्रसंग आधारित स्मृति

एक प्रकार की स्मृति में उन घटनाओं की व्यक्तिगत यादें शामिल होती हैं जिन्हें हमने अपने प्रारंभिक वर्षों से अनुभव किया था. एक फोटो एलबम की तरह, प्रसंग आधारित यादों में हमारे बचपन की यादें, जब पहली बार हम चले, हमारी सबसे अच्छी छुट्टी, लेकिन इसमें यह भी शामिल है कि हमने पिछले वीकेंड में क्या किया और आज सुबह नाश्ते में क्या खाया. ये वे यादें हैं, जिन्हें सतह पर वापस बुलाने के लिए, हमें उस घटना के संदर्भ में खुद को उस समय में वापिस ले जाना होता है, जब वह प्रसंग घटित हुआ था. इसमें एक प्रकार की ‘‘मानसिक यात्रा'' करके यह जानने की जरूरत होती है: यह कब हुआ था? उस वक्त हम कहां थे? किसके साथ थे?

2. शब्दार्थ विषयक स्मृति

प्रसंग आधारित स्मृति के विपरीत, सिमेंटिक या शब्दार्थ विषयक स्मृति उन यादों को इकट्ठा करती है जिन्हें संदर्भ में रखकर पुन: सक्रिय करने की जरूरत नहीं होती है. हम यहां बाहरी दुनिया के बारे में सामान्य ज्ञान की बात कर रहे हैं, जो किसी विशिष्ट स्थान या समय से जुड़ा नहीं है. उदाहरण के लिए, अगर हमें यह मालूम है कि स्तनपायी जीव कौन से होते हैं, या हमारे किसी मित्र की पत्नी का नाम क्या है तो हमें इन सवालों के जवाब खोजने के लिए हमारे जीवन में एक विशिष्ट समय के बारे में सोचने की जरूरत नहीं है. हमें उस संदर्भ को विशेष रूप से याद रखने की जरूरत नहीं है जिसमें हमने यह जानकारी सीखी है.

घुटने और जोड़ों में रहता है दर्द, तो इन 7 बुरी आदतों को आज से ही छोड़ दें; बाद में पछताना बेकार है

3. अलग मस्तिष्क क्षेत्र

इसमें कोई संदेह नहीं कि ये दो प्रकार की स्मृति हमारे दैनिक जीवन में करीब से जुड़ी हैं. कार्य करने में सक्षम होने के लिए हमें लगातार पुरानी प्रासंगिक और अर्थपूर्ण यादों को इस्तेमाल करते हुए, इसी तरह की नयी स्मृतियों को बनाते रहना होगा. इस तथ्य के बावजूद कि ये दोनो स्मृतियां एक दूसरे से संबंधित हैं, इन दो प्रकार की स्मृति को मस्तिष्क में आंशिक रूप से अलग-अलग क्षेत्रों द्वारा समर्थित किया जाता है. पिछली घटनाओं (एपिसोडिक मेमोरी से संबंधित) की यादों के उत्पादन में हिप्पोकैम्पसी, मस्तिष्क के मध्य में स्थित मेडियल टैंपोरल लोब में संरचनाएं, साथ ही ललाट लोब शामिल हैं, जो इन यादों को संदर्भित करता है. दूसरी ओर, सामान्य ज्ञान की यादों (सिमेंटिक मेमोरी से संबंधित) में पैराहिपोकैम्पल क्षेत्र, हिप्पोकैम्पसी के आसपास स्थित संरचनाएं और टैंपोरल लोब (टैंपोरल पोल) के पूर्व भाग शामिल होते हैं.

Saggy Breasts: ये 5 आसान एक्सरसाइज करेंगी मदद

अल्जाइमर रोग क्या है? | What Is Alzheimer's Disease?

तो इससे ज्यादा चिंता की बात क्या है, पिछली रात देखी गई फिल्म का नाम भूल जाना, या प्रसिद्ध गायकों के नाम मिलाना? आमतौर पर, अल्जाइमर रोग एपिसोडिक मेमोरी में गिरावट के साथ जुड़ा हुआ है. मरीजों की शिकायत होगी कि वे उन घटनाओं को याद नहीं कर सकते हैं जो उन्होंने अनुभव की हैं, उनकी बातचीत या उनके द्वारा की गई चीजें. यह इस प्रकार की स्मृति है जिसका डिमेंशिया या मनोभ्रंश का आकलन करते समय अक्सर न्यूरोसाइकोलॉजी में परीक्षण किया जाता है, और यह इस प्रकार की स्मृति भी है जिसका अध्ययन अल्जाइमर रोग पर किए जा रहे अधिकांश शोधों में किया जाता है. हालांकि, नैदानिक ​​अनुसंधान में एक नया प्रतिमान उभर रहा है, विशेष रूप से उस प्रयोगशाला में जहां हम अपना शोध करते हैं. हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग की प्रगति में, शब्दार्थ स्मृति सबसे पहले प्रभावित होती है. हमने देखा है कि पिछली घटनाओं की यादों को भूलने से पहले ही मरीज अपने सामान्य ज्ञान में धीरे-धीरे गिरावट दिखते हैं.

उदाहरण के लिए, उन्हें अल्बर्ट आइंस्टीन जैसी मशहूर हस्तियों के नाम याद रखने या पेप्सी जैसे प्रसिद्ध लोगो को पहचानने में स्वस्थ वृद्धों की तुलना में अधिक कठिनाई होती है. उन्हें मशहूर हस्तियों की जीवनी के बारे में सवालों के जवाब देने में भी कठिनाई होती है - उदाहरण के लिए, क्या मौरिस रिचर्ड एक गायक थे - वस्तुओं या जानवरों के बारे में विशिष्ट प्रश्नों का उत्तर देते हुए - क्या एक शुतुरमुर्ग दौड़ता है, उड़ता है या तैरता है? - या किसी चित्र से हारमोनिका, हेलीकॉप्टर या इग्लू जैसी वस्तुओं को पहचानना.

Strong Immune System के लिए इन 9 फूड्स में से हर रोज किसी एक का करें सेवन, रोगों से लड़ने में मिलेगी मदद

क्या और किसे होता है सारकोमा कैंसर?

संज्ञानात्मक स्वास्थ्य को कैसे हेल्दी रखें? | How To Keep Cognitive Health Healthy? 

हम अक्सर अपनी याददाश्त के बारे में चिंता करते हैं और उम्र बढ़ने के साथ अल्जाइमर रोग से डरते हैं. यह पूरी तरह से सामान्य है. क्लिनिकल न्यूरोसाइकोलॉजी में हम अक्सर देखते हैं कि बुजुर्ग लोग अपनी याददाश्त के बारे में शिकायत करते हैं, तब भी जब वे किसी भी कठिनाई का अनुभव नहीं कर रहे हों! आपको थोड़ी सी विस्मृति से चिंतित नहीं होना चाहिए, क्योंकि व्यक्तिपरक शिकायतें जरूरी नहीं कि वास्तविक स्मृति लोप से जुड़ी हों. उदाहरण के लिए, ये शिकायतें चिंता या अवसादग्रस्तता के लक्षणों की उपस्थिति या अकेलेपन की भावना से जुड़ी हो सकती हैं.

वजन कम करने के लिए डाइट प्लान करना जरूरी, लेकिन ये 5 गलतियां आपका फैट कम नहीं होने देती

फिर भी, अल्जाइमर के शुरुआती लक्षणों को जानना हमें रोग की पहली आहट को समझने में मदद देता है. जब हम देखते हैं कि याद न रह पाने वाले शब्दों की संख्या बढ़ रही है, हम पहले की तरह कहानियां नहीं सुना पा रहे या हमें रोजमर्रा की वस्तुओं का नाम लेने या उन्हें उपयोग करने में कठिनाई होती है - और यह हमें या हमारे प्रियजनों को चिंतित करता है - हो सकता है डॉक्टर कि यह समय न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट के पास जाने का के लिए उपयुक्त हो.

सौभाग्य से, हमारे संज्ञानात्मक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए कुछ कदम उठाए जा सकते हैं. सबसे पहले, बौद्धिक चेतना को बढ़ाना महत्वपूर्ण है: किताबें पढ़ना, सुडोकू, क्रासवर्ड या पजल हल करना, बोर्ड गेम खेलना और सामाजिक गतिविधियां संज्ञानात्मक विकारों के विकास के प्रतिरोध में सुधार कर सकती हैं. साथ ही, एक हेल्दी लाइफस्टाइल महत्वपूर्ण है. नियमित शारीरिक गतिविधि, अच्छी डाइट और अच्छी नींद की आदतें भी शारीरिक स्वास्थ्य के लिए उतनी ही फायदेमंद हैं जितनी कि संज्ञानात्मक स्वास्थ्य के लिए.


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------