होम »  लिविंग हेल्दी »  Meditation Rules: खाली पेट ही क्यों करना चाहिए मेडिटेशन? यहां जानें प्राणायाम करने के कुछ जरूरी नियम

Meditation Rules: खाली पेट ही क्यों करना चाहिए मेडिटेशन? यहां जानें प्राणायाम करने के कुछ जरूरी नियम

प्राणायाम कई बीमारियों को दूर करने और आपके दिमाग को शांत करने में मदद कर सकता है, लेकिन अन्य योग आसनों और कसरतों की तरह अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए प्राणायाम करने के नियम हैं.

Meditation Rules: खाली पेट ही क्यों करना चाहिए मेडिटेशन? यहां जानें प्राणायाम करने के कुछ जरूरी नियम

प्राणायाम नियंत्रित श्वास की एक प्रणाली है.

खास बातें

  1. प्राणायाम नियंत्रित श्वास की एक प्रणाली है.
  2. इसमें सांस लेने के व्यायाम और पैटर्न शामिल हैं.
  3. सबसे आम यह है कि इसे केवल खाली पेट ही किया जाना चाहिए.

प्राणायाम योग का प्रमुख अंग है. दो संस्कृत शब्दों- प्राण और यम से उत्पन्न- शब्द का अर्थ है जीवन ऊर्जा पर नियंत्रण प्राप्त करना. प्राणायाम नियंत्रित श्वास की एक प्रणाली है. इसमें सांस लेने के व्यायाम और पैटर्न शामिल हैं जहां आपको जानबूझकर सांस लेना, छोड़ना और अपनी सांस को क्रमबद्ध तरीके से रोकना है. जब योग आसन और ध्यान के साथ जोड़ा जाता है, तो प्राणायाम कई बीमारियों को दूर करने और आपके दिमाग को शांत करने में मदद कर सकता है, लेकिन अन्य योग आसनों और कसरतों की तरह अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए प्राणायाम करने के नियम हैं. सबसे आम यह है कि इसे केवल खाली पेट ही किया जाना चाहिए.

Zika Virus मच्छर के काटने से फैलता है, इस देश में आया था पहला केस, 5 आम लक्षणों के साथ जानें जरूरी फैक्ट्स


प्रणायाम खाली पेट क्यों करना चाहिए? | Why Should Pranayama Be Done On An Empty Stomach?

प्राणायाम बहुत ऊर्जा पैदा करता है और अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए इस ऊर्जा को अपने श्वास या योग आसन पर केंद्रित करना महत्वपूर्ण है. जब आप पेट भरकर कोई भी व्यायाम करते हैं, तो आपके लिए कुछ समय के लिए एकाग्र और स्थिर रहना कठिन हो सकता है. इसके अलावा, प्राणायाम के दौरान उत्पन्न होने वाली सारी ऊर्जा आपके मन को शांत करने और आपके शरीर को ठीक करने के बजाय भोजन को पचाने में खर्च होगी.

प्रणायाम करने का आदर्श समय | Ideal Time To Do Pranayama

प्राणायाम करने का आदर्श समय सुबह खाली पेट है. व्यायाम करने से पहले भोजन न करें. यह आपके कसरत की प्रभावशीलता को कम कर सकता है. आपको इसे हमेशा सुबह जल्दी करने की जरूरत नहीं है. बस आपका पेट खाली होना चाहिए और अपशिष्ट उत्पादों से मुक्त होना चाहिए. अगर आप इसे दिन के दौरान करना चुनते हैं, तो भोजन के बाद कम से कम 3 से 4 घंटे का ब्रेक लें.

सर्दियों में इन 6 सुपरफूड्स को डाइट में शामिल करने से मजबूत होगी इम्यूनिटी, संक्रमण से रहेंगे दूर

प्राणायाम करने के अन्य महत्वपूर्ण नियम

मन को शांत करने और एकाग्रता बढ़ाने के लिए प्राणायाम फायदेमंद है. अगर आप कसरत के इस महत्वपूर्ण रूप को करने के लिए समय समर्पित कर रहे हैं तो यहां कुछ दिशानिर्देश दिए गए हैं जिनका आपको पालन करना चाहिए.

  • स्वच्छ और शांत जगह पर बैठें
  • अपने मन को शांत, व्यवस्थित रखें और सही मुद्रा में बैठें.
  • दोहराव की एक विशिष्ट संख्या का अभ्यास करें.
  • विभिन्न प्रकार के प्राणायाम के साथ प्रयोग करके देखें कि कौन सा प्राणायाम आपके लिए सबसे अच्छा है.
  • प्राणायाम केवल सांस लेने और छोड़ने के बारे में नहीं है. इसे करते समय अपनी श्वास को नियंत्रित करने का प्रयास करें.
  • जल्दबाजी में प्राणायाम न करें. शांत रहें और अपना समय लें.

क्या ग्रीन टी में नीबू निचोड़ने से दोगुने हो जाते हैं इसके फायदे? सर्दियों में ऐसा करने के 7 कारण जानें

5 योगासन जो फेफड़े बनाएंगे मजबूत

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए


Promoted
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

 

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------