होम »  गर्भावस्था »  Pregnancy Diet Chart: प्रेग्नेंसी के दौरान रखें अपनी सेहत का ख्याल, डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

Pregnancy Diet Chart: प्रेग्नेंसी के दौरान रखें अपनी सेहत का ख्याल, डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

Pregnancy Diet Chart in Hindi: गर्भवती महिला को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह जो भी खाती हैं उससे बच्चे को पोषण मिलता है, इसलिए गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार का सेवन करना चाहिए.

Pregnancy Diet Chart: प्रेग्नेंसी के दौरान रखें अपनी सेहत का ख्याल, डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

Pregnancy Diet Chart in Hindi: गर्भवती महिलाओं के आहार के संबंध में ये सुझाव पढ़ें.

Pregnancy Diet Chart: गर्भावस्था के दौरान अच्छा और संपूर्ण आहार बहुत जरूरी है. मां बनने का अहसास ही अनोखा होता है. गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने खान-पान का खास ध्यान रखना चाहिए। गर्भवती महिला को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह जो भी खाती हैं उससे बच्चे को पोषण मिलता है, इसलिए गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार का सेवन करना उनके लिए जरूरी हो जाता है. आल्टरनेकेयर (टेलीमेडिसीन प्लेटफॉर्म) की न्यूट्रिशनिस्ट तमन्ना नारंग ने गर्भवती महिलाओं के आहार के संबंध में ये सुझाव दिए हैं : 

प्रोटीन : गर्भावस्था के दौरान बच्चे और प्लेसेंटा के विकास के लिए प्रोटीन युक्त आहार जरूर लेना चाहिए. यह जी मिचलाने और थकान से भी लड़ने में मददगार है. महिला को कितना प्रोटीन लेना चाहिए, यह महिला के वजन पर निर्भर करता है. सी फूड, लीन मीट, दाल, अंडा, दूध, बीन्स, अनसाल्टेड नट और सीड्स इसका अच्छा स्रोत है. 

मेरा अबॉर्शन हुआ है, पर माफ करना ये मैंने नहीं किया !


protein

उपयोगी सुझावः 90 प्रतिशत गर्भवती भारतीय महिलाओं में प्रोटीन की कमी है. प्रोटीन की मात्रा या कमी से संबंधित जानकारी के लिए पोषण विशेषज्ञ से संपर्क करें. चिकित्सक भी प्रोटान से संबंधित खुराक के बारे में बता सकते हैं.

आयरनः आयरन खून की कमी और संक्रमण से बचाता है. यह बच्चे और उसके दिमाग के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. पूरे गर्भावस्था के दौरान और अतिरिक्त रूप से 760 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है. लीन मीट, स्किनलेश चिकन, मछली अच्छी तरह से पके अंडे, दाल, हरे पत्तीदार सब्जियां, फलियां, मेवा और अनाज आदि आयरन के अच्छे स्रोत हैं. 

प्रेगनेंसी के दौरान सेक्‍स करते वक्‍त न करें ये गलतियां

गर्भावस्था में हाई बीपी बढ़ा सकता है दिल के लिए खतरा

spinach

उपयोगी सुझावः शरीर में अच्छी तरह से आयरन की आपूर्ति के लिए विटामिन सी युक्त फलों का भोजन के साथ या भोजन करने के फौरन बाद सेवन करें. चाय पीने के एक घंटे बाद या एक घंटे पहले आयरन से समृद्ध आहार लेने से बचें.

कैल्शियमः मां के खून में कैल्शियम की आपूर्ति होने से बच्चे के शरीर की हड्डियां अच्छी तरह से विकसित होती है। बच्चे के दिल, नसों और मांसपेशियों का विकास कैल्शियम पर निर्भर करता है, अगर मां कैल्शियम को पर्याप्त मात्रा में नहीं ले रही है तो फिर उसकी हड्डियों के भी कमजोर होने की संभावना बढ़ जाती है.  गर्भावस्था के दौरान रोजाना 200 मिलीग्राम कैल्शियम युक्त आहार लेना चाहिए.


Shatavari: क्या हैं सेक्स पावर बढ़ाने के लि‍ए मशहूर शतावरी के फायदे और नुकसान...

calcium


कम वसा वाले डेयरी उत्पाद (स्किम्ड मिल्क, पनीर, दही), खाने लायक हड्डियां युक्त मछलियां जैसे सार्डिन, टोफू, नाश्ते में अंकुरित अनाज, ब्रेड, रोटी, साबूत बादाम, संतरे, सूखे मेवे जैसे अखरोट और हरी पत्तेदार सब्जियां कैल्शियम के अच्छे स्रोत हैं.

प्रेग्नेंसी के दौरान रखें अपनी सेहत का ख्याल, डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

गर्भावस्था में कैसी थी सोहा अली खान की डाइट, जानें प्रेगनेंसी डाइट के बारे में सबकुछ...

उपयोगी सुझावः कैल्शियम सबसे जरूरी खुराक है. यह गर्भावस्था के दौरान मां की पोषण की जरूरतों को पूरा करता है. पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी लेने से भी शरीर में कैल्शियम की आपूर्ति होती है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------