होम »  लिविंग हेल्दी »  गले की खराश होगी कम, बढ़ेगी इम्‍यूनिटी....ट्राई करें ये 5 तरह की हर्बल चाय

गले की खराश होगी कम, बढ़ेगी इम्‍यूनिटी....ट्राई करें ये 5 तरह की हर्बल चाय

ज्‍यादातर भारतीय घरों की शुरूआत एक कप गरमा-गरम चाय से ही होती है. यहां तक कि चाय की केवल खुशबू विशेष रूप से सर्दियों में सुबह के आलस को भगाने के लिए काफी होती है.

गले की खराश होगी कम, बढ़ेगी इम्‍यूनिटी....ट्राई करें ये 5 तरह की हर्बल चाय

ज्‍यादातर भारतीय घरों की शुरूआत एक कप गरमा-गरम चाय से ही होती है. यहां तक कि चाय की केवल खुशबू विशेष रूप से सर्दियों में सुबह के आलस को भगाने के लिए काफी होती है. चाय का तापमान और समय हमारे लिए अमृत साबित हो सकता है. आज हम आपको भारत के इस सबसे लोकप्रिय पेय के टेस्‍ट के साथ-साथ इससे होने वाले स्‍वास्‍थ्‍य लाभों की भी जानकारी देंगे. आज दुनिया भर के कई देशों के लगभग हर हिस्से में चाय की कई वैरायटी आपको मिल जाएंगी. आइए आपको बताते हैं किचन में मौजूद जड़ी-बूटियों से बनी मजेदार चाय के बारे में, जो सर्दियों में आपकी इम्‍यूनिटी और मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ावा देने में आपकी मदद करती है और जो कुछ हद तक आपके वजन को भी कंट्रोल कर सकती है.

Home Remedies: सर्दी-जुकाम से बचाएंगी घर में मौजूद ये 4 चीजें...

ये हैं हर्बल टी और उनके होने वाले फायदे:


1. अदरक की चाय:
अदरक को बहुत अधिक क्रेडिट नहीं मिलाता, लेकिन इसमें आपके पसंदीदा भोजन या पेय का टेस्‍ट बढ़ाने के साथ-साथ कई चिकित्सीय गुण भी शामिल हैं. अदरक की चाय का इस्‍तेमाल गले की खराश को कम करने और इम्‍यूनिटी को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है. इसके अलावा, अदरक कई अन्य स्वास्थ्य लाभ भी देती है, जो बढ़े हुए मेटाबॉलिज्‍म के कारण जमा होने वाले वसा को कम करने में आपकी मदद करती है.

सावधान! सेल्फी लेने की आदत बना सकती है इस बीमारी का श‍िकार... जानें कैसे बचें

2. हल्‍दी की चाय:
हल्दी की चाय सर्दियों के दौरान डाइट में शामिल करने के लोकप्रिय तरीकों में से एक है. इसका अनूठा स्वाद कई तरह के फायदे देता है. इससे जुड़े अन्‍य फायदे पाने के लिए आप इसमें एक चुटकी काली मिर्च का पाउडर या दो काली मिर्च डाल सकते हैं. हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जिसमें एक बायोएक्टिव कंपाउंड शामिल है, जिसे करक्यूमिन कहा जाता है, जो इम्‍यूनिटी को बढ़ावा देता है, यह आपके शरीर को गर्मी देने के साथ एक एंटी-कैंसर एजेंट के रूप में भी काम करता है.

साइलेंट किलर बन रहा है हार्ट अटैक, पढ़ें लक्षण और दिल के दौरे से बचाव के उपाय...

3. मुलेठी की चाय:
औषधीय गुणों के अलावा, मुलेठी को प्राकृतिक मिठास के कारण स्वाद बढ़ाने वाले मसाले के रूप में भी व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है. अध्ययन के अनुसार, इसके एंटी-डायबिटिक और एंटीऑक्सिडेंट गुण मेटाबोलिक सिंड्रोम के इलाज में सहायक होते हैं. कहा जाता है कि मीठा खाने की इच्‍छा होने पर डाइट में कम मात्रा में मुलेठी को शामिल किया जा सकता है. इतना ही नहीं यह वजन घटाने में मदद करती है और आपके शरीर को गर्म रखती है.

Flashback 2018: साल 2018 के 5 जानलेवा वायरस, जिनका दुनियाभर में फैला खौफ...

4. दालचीनी की चाय:
आमतौर पर दालचीनी को ब्‍लैक टी में टेस्‍ट बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इसका यूज अब ग्रीन और ऊलोंग टी में भी किया जाता है. दालचीनी का उपयोग इसके औषधीय गुणों के लिए हजारों वर्षों से किया जाता रहा है, क्योंकि यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है और एंटी-डायबिटिक इफेक्‍ट देती है.


5. ग्रीन टी:
ग्रीन टी एंटीऑक्सिडेंट और पोषक तत्वों से भरपूर होती है, जो शरीर पर शक्तिशाली प्रभाव डालती है. ये कैंसर के खतरे को कम करती है और आपके मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को तेज करती है. इसके अलावा, यह सर्दियों के दौरान वायरस से लड़ने के लिए आपकी प्रतिरक्षा में सुधार करती है.

green tea

Photo Credit: iStock

टिप्पणी

NDTV Doctor Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं सेहत से जुड़ी नई शोध और रिसर्च की खबरें, तंदुरुस्ती से जुड़े फीचर्स, यौन जीवन से जुड़ी समस्याओं के हल, चाइल्ड डेवलपमेंट, मेन्स हेल्थवुमन्स हेल्थडायबिटीज  और हेल्दी लिविंग अपडेट्स. 

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

................... विज्ञापन ...................

-------------------------------- विज्ञापन -----------------------------------